लखनऊ यूनिवर्सिटी का रिटायर्ड कर्मी गिरफ्तार

Chandigarh Updated Fri, 07 Dec 2012 05:30 AM IST
चंडीगढ़। लॉ की जाली डिग्री में हस्ताक्षर कर आरोपी को मदद करने के मामले में विजिलेंस ने लखनऊ यूनिवर्सिटी के रिटायर्ड 66 वर्षीय सीनियर असिस्टेंट रामचंद्र को भी गिरफ्तार कर लिया। आरोपी ने अशोक कुमार को जाली डिग्री दिलवाने में मदद की थी और इसमें उसके ही हस्ताक्षर हैं। विजिलेंस इसी मामले में एक साल पहले ही आरोपी अशोक कुुमार को गिरफ्तार कर चुकी है, जो इस डिग्री की मदद से प्रैक्टिस भी कर रहा था। सीएफएसएल से कराई गई जांच में सिग्नेचर और हैंडराइटिंग के मिलान के बाद आरोपी रामचंद्र को गिरफ्तार किया गया।
चीफ विजिलेंस अफसर को शिकायत मिली थी एडवोकेट अशोक कुमार लॉ की जाली डिग्री से चंडीगढ़ की अदालतों में प्रैक्टिस कर रहा है। विजिलेंस ने जांच के बाद आरोपी अशोक कुमार को 2011 में गिरफ्तार कर लिया था। जांच में पता चला कि आरोपी ने वर्ष 1995-1997 के दौरान लखनऊ यूनिवर्सिटी से लॉ का जाली डिग्री हासिल की थी। डिग्री कैसे जारी हुई, इसमें किस-किस के हस्ताक्षर हैं। इसके लिए हैंडराइटिंग का सीएफएसएल से मिलान कराया गया। पुष्टि होने के बाद रामचंद्र को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपी सीनियर असिस्टेंट (रिटायर्ड) लखनऊ के जीएन मिश्रा पार्क, हसनगंज निवासी है। विजिलेंस अभी मामले की जांच कर रही है, ऐसे में मामले में मदद करने वाले अन्य अधिकारियों पर भी गाज गिर सकती है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

दावोस में 'क्रिस्टल अवॉर्ड' मिलने के बाद सुपरस्टार शाहरुख खान ने रखी 'तीन तलाक' पर अपनी राय

दावोस में 'विश्व आर्थिक मंच' सम्मेलन में बच्चों और एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए काम करने के लिए क्रिस्टल अवॉर्ड से नवाजे गए बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान..

24 जनवरी 2018