उत्तराखंड के विकास का अलग ढांचा बने

Chandigarh Updated Mon, 03 Dec 2012 05:30 AM IST
चंडीगढ़। चालीस शहादतों के बाद शुरू हुए ऐतिहासिक आंदोलन ने जिन पार्टियों को नकार दिया था, उत्तराखंड बनने के बाद वहीं सत्ता में आ गईं। ऐसे में शोषण की बात करने वाले नेता ही लूट में शामिल हो गए। अब लखनऊ की बजाय देहरादून लूट का केंद्र बन गया है। यह बात कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय परिषद के सदस्य समर भंडारी ने ‘उत्तराखंड की स्थापना के 12 वर्ष : सपने सरोकार, समस्याएं व समाधान’ विषय पर आयोजित सेमिनार में कहे। उन्होंने पहाड़ के विकास का अलग ढांचा बनाए जाने पर जोर दिया।
सेमिनार का आयोजित रविवार को सेक्टर-29 के गढ़वाल भवन में उत्तराखंड युवा मंच के तत्वावधान में अमर उजाला के सहयोग से किया गया। सेमिनार में उत्तराखंड, दिल्ली, उत्तर प्रदेश से आए कवियों, साहित्यकारों, समाजवादी चिंतकों व वरिष्ठ पत्रकारों ने राजनीतिक तंत्र की विफलता का जिक्र किया। कार्यक्रम में ट्राइसिटी के लोगों ने बड़ी संख्या में भागीदारी दी।
सेमिनार में वक्ताओं ने उत्तराखंड आंदोलनकारियों के सपने अधूरे रहने की बात भी कही। वरिष्ठ पत्रकार जय सिंह रावत ने कहा कि राज्य का विकास तो हुआ है, लेकिन जितना होना चाहिए था वह नहीं हो सका। उन्होंने पलायन की समस्या से जूझ रहे उत्तराखंड की सीमावर्ती इलाकों की सुरक्षा को लेकर भी चिंता जताई। वरिष्ठ पत्रकार उमाकांत लखेड़ा ने कहा कि राज्य की तमाम समस्याएं विरासत में मिली है। ठेकेदार जब जनप्रतिनिधि बनकर विधानसभा में पहुंच रहे हैं तो विकास की अपेक्षा कैसे की जा सकती है। नोएडा से आए अमर उजाला के कार्यकारी संपादक दिनेश जुयाल ने कहा कि उत्तराखंड की राजनीति में खनन, शराब और लकड़ी माफिया सत्ता के खेल में शामिल हैं। उत्तराखंड के विकास को पहाड़ के अनुरूप ढालना होगा। वहीं पत्रकार व जनकवि चारू चंद चंदोला ने पहाड़ से हो रहे पलायन के दर्द को उकेरा।
इससे पूर्व संस्था के महासचिव राजेंद्र नौडियाल ने मंच के उद्देश्य पर प्रकाश डाला। उपाध्यक्ष दीपक असवाल ने प्रश्नोत्तर कार्यक्रम, प्रदीप सुंदरियाल व कमल रणावत ने स्मृति चिह्न वितरण कार्यक्रम का संचालन किया। मंच अध्यक्ष भगवती प्रसाद कुकशाल ने सभी का आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर गढ़वाल सभा के प्रधान कुंदन लाल उनियाल, महासचिव चंडी प्रसाद भट्ट के अलावा गढ़वाल सभा से जुड़े राकेश रावत, एमएन शुक्ला, जेएस रावत बंगारी, बीएस बिष्ट सहित अन्य उपस्थित थे।

Spotlight

Most Read

Pratapgarh

अभी तक एक भी अपात्र से नहीं हुई रिकवरी

अभी तक एक भी अपात्र से नहीं हुई रिकवरी

20 जनवरी 2018

Related Videos

एक्स कपल्स जिनके अलग होने से टूटे थे फैन्स के दिल, किसे फिर एक साथ देखना चाहते हैं आप ?

बॉलीवुड के एक्स कपल्स जो एक साथ बेहद क्यूट और अच्छे लगते थे।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper