वैक्यूम सक्शन से निकाला फेफड़े का थक्का

Chandigarh Updated Thu, 25 Oct 2012 12:00 PM IST
चंडीगढ़। अब ब्रेन हैमरेज और पल्मोनरी इंबोलिजम एक साथ होने पर भी इलाज संभव कर दिखाया है चंडीगढ़ के मैक्स अस्पताल के प्रमुख कार्डियोलाजिस्ट डाक्टर सुधीर सक्सेना ने। डाक्टर सुधीर सक्सेना ने बताया कि पल्मोनरी इंबोलिज्म और ब्रेन हेमरेज का कांबिनेशन काफी खतरनाक होता है। इसमें एक ओर मरीज का इलाज भी करना होता है और दूसरी ओर दवा तक नहीं दे सकते। दवा दी नहीं कि मरीज की जान जाने का खतरा रहता है। उन्होंने बताया कि ऐसी स्थिति में फेफड़े की धमनी में खून का थक्का जम जाता है (मैसिव पल्मोनरी इंबोलिजम)। अब तक ऐसा इलाज संभव नहीं था। डाक्टर सक्सेना ने कहा कि उनके पास ऐसा ही एक मरीज आया। जिसमें दो अलग किस्म की बीमारी थी। एक नाड़ी से खून का रिसाव हो रहा था जबकि दूसरे में खून जमा हुआ था। इसी वजह से खून पतला करने की दवाई नहीं दी जा सकती थी। पल्मनरी आर्टरी में जमे खून के थक्के को निकालने के लिए वैक्यूम सक्शन का प्रयोग किया गया। इससे फेफड़ों में रक्त संचार शुरू हो गया। यह पहला मामला है जिसमें एक बड़े कैथिटर (एक पाइप नुमा नली) के द्वारा एक सक्शन मशीन को जोड़ा गया और इस कैथिटर को जांघ की फीमोरल वेन से हार्ट में होते हुए पल्मनरी आर्टरी में पहुंचाया गया। इसके सहारे थक्का निकाला गया।


54 वर्ष के अवतार को मिली नई जिंदगी
कोलकाता के रहने वाले अवतार सिंह रोपड़ में अपना मकान बनवाने के लिए आए थे। 18 सितंबर को उन्हें ब्रेन हैमरेज हो गया, उसके कारण उनको अधरंग (पैरालिसिस) की शिकायत हो गई। इनका एमआरआई करवाया गया, जिसमें तीन सेंटीमीटर तक ब्रेन हेमरेज पाया गया। सीधे हाथ की बाजू और पैर चलना बंद हो गया। इसका इलाज चल रहा था कि उनको 28 सितंबर को सांस की शिकायत हो गई। जब काफी बढ़ गई तो अस्पताल लाया गया। अस्पताल में किए गए टेस्ट से पता चला कि उनकी फेफडे़ की धमनी में बड़ा खून का थक्का है। उनको यदि खून पतला करने की दवाई देते तो ब्रेन हैमरेज बढ़ने की संभावना थी। ब्रेन हैमरेज की वजह से खून पतला करने की दवाई न दी जाए तो मरीज का बचना मुश्किल था। उनको अब सारी मुश्किल दूर हो गई हैं।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

दावोस में 'क्रिस्टल अवॉर्ड' मिलने के बाद सुपरस्टार शाहरुख खान ने रखी 'तीन तलाक' पर अपनी राय

दावोस में 'विश्व आर्थिक मंच' सम्मेलन में बच्चों और एसिड अटैक सर्वाइवर्स के लिए काम करने के लिए क्रिस्टल अवॉर्ड से नवाजे गए बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान..

24 जनवरी 2018