विज्ञापन
विज्ञापन

ओलंपिक में जीते मेरा लाल, यही दुआ है मेरी

Chandigarh Updated Wed, 01 Aug 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
चंडीगढ़। हर शख्स की सफलता की कहानी उसकी मां से शुरू होती है। चाहे बात खेलों की हो या फिर शिक्षा की। आज हॉकी स्टार संदीप सिंह की मां दलजीत कौर, रेसलर अमित कुमार की मां शीला देवी और रेसलर योगेश्वर दत्त की मां सुशीला देवी भी अपने बेटों पर फख्र महसूस कर रही हैं। उन्हें गर्व है अपने बेटे पर, जो ओलंपिक में देश का प्रतिनिधत्व कर रहे हैं। यह खुशी उनके चेहरे पर साफ झलक रही थी। मंगलवार को उन्होंने अपने बेटे सहित ओलंपिक में शामिल अन्य होनहारों को गुडलक संदेश दिया और माता-पिता का खास ध्यान रखने वाली संस्था पीएंडजी ने कहा- थैंक्यू मॉम। यहां दलजीत कौर, शीला देवी और योगेश्वर दत्त की मां को पीएंडजी की ओर से सम्मान स्वरूप प्रशस्ति पत्र दिया गया। पीएंडजी की ओर से यहां एक साइन बोर्ड रखा गया था, जिस पर इन तीनों माताओं ने ओलंपिक में भाग लेने वाले भारतीय प्लेयर्स को शुभकामनाएं दीं।
विज्ञापन
विज्ञापन
संदीप ने कहा था, मैं मेडल लेकर ही आऊंगा मां
हाकी स्टार और ड्रैग फ्लिकर संदीप सिंह की मां दलजीत कौर ने कहा कि संदीप जब लंदन ओलंपिक के लिए रवाना हो रहा था तो उसने कहा था कि मां फिक्र मत करना, मैं गोल्ड मेडल लेकर आऊंगा। संदीप बचपन से ही हाकी का शौकीन रहा है। शाहबाद में हाकी खेलने वाले भी खूब हैं। संदीप शर्मीला है। इसी वजह से वह अक्सर उनसे ही कहता था कि मां मुझे स्टार बनना है। उन्होंने कहा कि संदीप जब ट्राफी जीतकर लौटता या मेडल दिखाता तो मुझे भी अच्छा लगता था। मैं आशीर्वाद देती थी और जब पहली बार भारतीय टीम में उसका सेलेक्शन हुआ तो मुझे लगा जैसे मेरी तपस्या पूरी हो गई।

मेडल लेकर ही लौटना बेटा
हरियाणा के सोनीपत के रहने वाले अमित कुमार की मां शीला देवी बेशक ग्रामीण अंचल से हैं, लेकिन उनका अनुशासन किसी फौजी की तरह ही रहा। बचपन से ही अमित पर उनकी खास नजर रही। शीला देवी ने कहा कि अमित कुश्ती लड़ता था, गांव में ही मिट्टी का अखाड़ा बना था। एक दिन रेसलिंग के गुरु सतपाल यहां आए और अमित की कुश्ती देखकर उन्होंने कहा कि वह अमित को ट्रेंड करेंगे। जब रेसलिंग गुरु सतपाल से उन्होंने कहा कि उनके पास कोचिंग दिलवाने के लिए पैसे नहीं हैं तो कोच सतपाल ने कहा कि कोई बात नहीं, अब इसका कुछ खर्च मैं उठाऊंगा। अमित ने जब पहली बार मेडल जीता तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं था। लंदन रवाना होने के पहले भी उन्होंने अमित से कहा था कि बेटा, गोल्ड मेडल लेकर आना।

बेटे को कुछ बनाने का संकल्प लो
रेसलर योगेश्वर दत्त की मां सुशीला ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि योगेश्वर मेडल के साथ ही वापस लौटेगा। उन्होंने कहा कि योगेश्वर को बचपन से ही स्पोर्ट्स से प्यार था। योगेश्वर पहलवानी के लिए पहली बार अखाड़े में उतरा तो उन्हें लगा कि कहीं उसे चोट न लग जाए, लेकिन जब वह जीता तो उनके लिए खुशी का ठिकाना नहीं रहा। योगेश्वर कामनवेल्थ गेम्स में मेडल लेकर लौटा तो गांव का गांव खुशी से झूमता रहा। अब ओलंपिक के मुकाबलों को वे जरूर देखती हैं और अपने गांव की महिलाओं को हमेशा यही कहती हैं कि बेटे को कुछ बनाने का संकल्प लें।

Recommended

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें
Uttarakhand Board

Uttarakhand Board 2019 के परीक्षा परिणाम जल्द होंगे घोषित, देखने के लिए क्लिक करें

शनि जयंती के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्
ज्योतिष समाधान

शनि जयंती के अवसर पर शनि शिंगणापुर में शनि को प्रसन्न करने के लिए तेल अभिषेकम्

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव में किस सीट पर बदल रहे समीकरण, कहां है दल बदल की सुगबुगाहट, राहुल गाँधी से लेकर नरेंद्र मोदी तक रैलियों का रेला, बयानों की बाढ़, मुद्दों की पड़ताल, लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़े हर लाइव अपडेट के लिए पढ़ते रहे अमर उजाला चुनाव समाचार।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

#Votekaro: सरकारी अधिकारी लू के थपेड़ों से बचने के लिए कर रहे प्याज का इस्तेमाल

चुनाव अधिकारी भरी गर्मी में मतदान करवाने में जुटे हैं। गर्मी के थपेड़ों से निपटने के लिए इन अधिराकियों ने प्याज का सहारा लिया है। देखिए कैसे,

19 मई 2019

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election