स्कूलों में पढ़ाई जाए कारगिल वीरों की जीवनी

Chandigarh Updated Fri, 27 Jul 2012 12:00 PM IST
पंचकूला। खून से लथपथ नजर आती हैं, जिनकी वर्दियां
उनके दम से कांपने लगती हैं दहशतगर्दियां।
और बांधकर सिर पर कफन दुनियां को यह दिखला दिया
हिंद की मर्दानगी से डर गई नामर्दानगियां।
इंडियन एक्स सर्विसमैन मूवमेंट की ओर से सेक्टर-2 के शहीद मेजर सांकला मेमोरियल पर वीरवार को आयोजित श्रद्धांजलि समारोह में मुख्य अतिथि कवि सरदार अंजुम ने सैनिकों के पराक्रम पर कविता सुनाई तो लोगों की आंखें भर आईं। ब्रिगेडियर ओंकार सिंह गुराया ने कहा कि जैसे लोग मुसीबत टल जाने पर भगवान को भूल जाते हैं, वैसे ही युद्ध के बाद लोग शहादत को भी भूल जाते हैं। पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वीपी मलिक ने कारगिल के ‘वीरों’ की जीवनी को स्कूलों में पढ़ाए जाने की मांग की।
कारगिल विजय दिवस की 13वीं वर्षगांठ पर 1999 की लड़ाई में शहीद सैनिकों को याद करने के लिए चंडीगढ़, पंचकूला, मोहाली समेत आसपास के भी कई पूर्व सैन्य अधिकारी और उनके परिवार ने शिरकत की। पूर्व सैन्य अधिकारियों में ज्यादातर कारगिल युद्ध के जाबांज शामिल थे। शहीद मेजर सांकला मेमोरियल पर पहुंचे पूर्व सैनिकों में पाकिस्तान के साथ 1999 की लड़ाई में मिली जीत का असर साफ दिखाई दे रहा था। सबसे पहले कर्नल एसएस कालिया ने कारगिल के लड़ाई का वृत्तांत सुनाया और सैनिकों की वीरता की जय-जयकार की। वहीं, मेजर जनरल राज मेहता ने बताया कि 26 जुलाई 1999 को देश ने कारगिल की अंतिम पहाड़ी पर कब्जा किया था।
पूर्व सेनाध्यक्ष जनरल वीपी मलिक ने कहा कि शहीदों को याद रखना केवल फौज की जिम्मेदारी नहीं है, बल्कि देश की है। लोगों में देशभक्ति की भावना बढ़ाने के लिए उनमें जागरूकता लानी होगी। परमवीर चक्र विजेताओं और सैनिकों की जीवनी को स्कूलों में पढ़ाया जाना चाहिए। इससे विद्यार्थियों में देशभक्ति की भावना प्रबल होगी। इस मौके पर विधायक डीके बंसल ने भी श्रद्धांजलि दी। इस मौके पर पूर्व पार्षद पवन मित्तल, सीमा चौधरी, वीके सूद, पीएस सांगा, बीडी कालिया, हरीश मिगलानी, ताराचंद विरदी, ललित महाजन, एयरमर्शल रणधीर सिंह सहित कई लोग मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Gorakhpur

पद्मावत फिल्म का प्रदर्शन रोकने को सड़क पर उतरी करणी सेना

पद्मावत फिल्म का प्रदर्शन रोकने को सड़क पर उतरी करणी सेना

22 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: चंडीगढ़ का ये चेहरा देख चौंक उठेंगे आप!

‘द ग्रीन सिटी ऑफ इंडिया’ के नाम से मशहूर चंडीगढ़ में आकर्षक और खूबसूरत जगहों की कोई कमी नहीं है। ये शहर आधुनिक भारत का पहला योजनाबद्ध शहर है। लेकिन इस शहर को खूबसूरत बनाये रखने वाले मजदूर कैसे रहते हैं यह देख आप हैरान हो जायेंगे।

22 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper