डीएवी कालेज में पहले ही दिन चली तलवारें

Chandigarh Updated Thu, 19 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
चंडीगढ़। शहर के प्रमुख कालेजों में शुमार डीएवी कालेज सेक्टर-10 की सुरक्षा व्यवस्था बुधवार को नए सत्र के पहले ही दिन तार-तार हो गई। कपड़ों में तेजधार हथियार छिपाकर कालेज के ही कुछ लड़के कैंपस में दाखिल हुए और छात्र संगठन सोपू के अध्यक्ष अर्शदीप पर सरेआम कातिलाना हमला कर आसानी से फरार हो गए। हैरत की बात तो यह है कि न तो कालेज के सिक्योरिटी गार्डों को हमलावरों का कुछ पता चला और न ही कालेज के मेन गेट के बाहर तैनात पीसीआर मुलाजिमों को। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार हमलावर मेन गेट से कालेज में दाखिल हुए और वारदात को अंजाम देने के बाद गेट नंबर दो से भाग गए। बाद में पुलिस ने घायल अर्शदीप को सेक्टर-16 के जनरल अस्पताल में भर्ती करवाया। युवक के कान पर तलवार लगी है। सेक्टर-3 थाना पुलिस ने घायल अर्शदीप के बयान पर छात्र संघ आईएसए के कार्यकर्ताओं बलकरण, बलचरण, मामा, काला समेत छह युवकों के खिलाफ मामला दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है। पुलिस के अनुसार आरोपी जल्द ही गिरफ्त में होंगे।
विज्ञापन

अर्शदीप ने बताया कि बुधवार दोपहर करीब एक बजे वे कालेज में छात्रों का एडमिशन करवा रहे थे। उसी समय छात्र संघ आईएसए के कार्यकर्ता बलकरण, बलचरण, मामा और काला समेत छह छात्र हथियारों से लैस होकर वहां पहुंचे और उन पर धावा बोल दिया। अर्शदीप ने पुलिस को बताया कि मंगलवार रात को सोपू प्रधान और आईएसए कार्यकर्ताओं के बीच मारपीट हुई थी। उसका बदला लेने के लिए ही उन पर हमला किया गया। उन्होंने बताया कि हमलावर युवक इसी कालेज में बीए फर्स्ट ईयर के छात्र हैं।
इन हालात में नहीं होंगे छात्र चुनाव : जोसन
उधर, इस घटना से आहत डीएवी कालेज के प्रिंसिपल डा. बीसी जोसन ने कहा कि ऐसे हालातों के बीच कालेज में छात्र संगठन चुनाव नहीं होंगे। उन्होंने बताया कि वे इस बारे में शुक्रवार को पंजाब यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. आरसी सोबती के साथ-साथ प्रशासक के सलाहकार, गृहसचिव और प्रशासक शिवराज पाटिल को चिट्ठी लिखेंगे। उन्होंने कहा कि अगर पीयू और यूटी प्रशासन चाहे तो अपनी जिम्मेदारी पर कालेज में छात्र संगठन चुनाव करा सकता है। डा. जोसन ने कहा कि वे प्रशासन के आला अधिकारियों से स्वयं भी मुलाकात करेंगे।
छह महीने में तीसरी घटना
डीएवी कालेज छात्र सेक्टर-10 नेताओं की खूनी जंग का अखाड़ा बनता जा रहा है। पिछले छह महीने में कालेज के अंदर छात्र हिंसा की यह तीसरी घटना है। मार्च में कालेज कैंपस में स्टार नाइट को लेकर सोपू और पुसू के बीच दिनदहाड़े गोली चली। इसके बाद मौजूदा सत्र शुरू होने से पहले भी छात्रों में मारपीट की घटना हुई। पिछले साल भी कालेज नेताओं के बीच कई बार खूनी संघर्ष हुआ था।
कोट
मारपीट में शामिल किसी भी छात्र को कालेज में एडमिशन नहीं दिया गया है। सभी को ब्लैकलिस्ट किया जा चुका है। कालेज ऐसे विद्यार्थियों को किसी भी कीमत पर दाखिला नहीं देगा।
- डा. बीसी जोसन, प्रिंसिपल, डीएवी कालेज सेक्टर-10
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X