सीएचबी फेडरेशन की महारैली में जुटे सभी दलों के नेता

Chandigarh Updated Mon, 16 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
चंडीगढ़। हाउसिंग बोर्ड के सैकड़ों लोगों ने प्रशासन को चेतावनी दी कि यदि 15 अगस्त तक उनकी समस्याओं को हल करने के लिए ठोस कदम नहीं उठाए गए तो वे फिर जोरदार आंदोलन करने की तैयारी करेंगे। ये लोग रविवार शाम को सेक्टर-40 की मार्केट के पास आयोजित महारैली में पहुंचे थे। रैली स्थल पर बैठने तक की व्यवस्था नहीं थी। इसके बावजूद लोगों के हौसले इतने मजबूत थे कि उन्होंने तीन घंटे तक जमीन पर बैठकर इस महारैली में भाग लिया। इस प्रदर्शन में सभी राजनीतिक दलों के प्रमुख नेताओं ने भाग लिया।
विज्ञापन

लोगों ने सभी राजनीतिक दलों सहित प्रशासन को 15 अगस्त का अल्टीमेटम देते हुए कहा है कि अगर तब तक उनकी समस्याओं को हल करने का कोई प्रयास शुरू न हुआ तो वह स्वतंत्रता दिवस के दिन फिर से सीएचबी फेडरेशन की बैठक करेंगे। शहर में अलग-अलग जगह प्रदर्शन और भूख हड़ताल करने की रणनीति बनाई जाएगी। इस पर राजनेताओं ने कहा कि अब लोगों के इस अभियान को वह आगे खींचकर लेकर जाएंगे और लोगों की समस्याओं को हल करवाने का प्रयास करेंगे। ऐसा पहली बार हो रहा है जब किसी प्रदर्शन में सभी दल के नेता एक साथ एक मंच पर दिखाई दिए हो।
कांग्रेस नेताओं ने दावा किया कि केंद्रीय मंत्री पवन बंसल हाउसिंग बोर्ड के मकानों की समस्याओं को दूर करने का प्रयास कर रहे हैं और जल्द ही इसके परिणाम दिखने शुरू हो जाएंगे। इस मौके पर कांग्रेस अध्यक्ष बीबी बहल, भाजपा अध्यक्ष संजय टंडन, पूर्व केंद्रीय मंत्री हरमोहन धवन, पूर्व सांसद सत्यपाल जैन, बसपा अध्यक्ष एमसी सुमन, बसपा संयोजक हाफिज अनवर, पूर्व मेयर सुभाष चावला, एचएस लकी, अरुण सूद, जगजीत सिंह कंग और जितेंद्र भाटिया ने मंच पर लोगों को कहा है कि वह उनकी हर मांग के साथ है और उनकी समस्याओं को हल करवाने के लिए प्रशासन पर दबाव बनाया जाएगा। सीएचबी रेजिडेंट्स फेडरेशन की ओर से पहले ही मंच से यह साफ कहा गया कि कोई भी नेता राजनीतिक भाषणबाजी नहीं करेगा।
सभी पार्टियां स्टैंड क्लीयर करे : दत्त
सीएचबी फेडरेशन के चेयरमैन निर्मल दत्त ने कहा कि 15 अगस्त तक का समय राजनीतिक दलों के साथ-साथ प्रशासन को दिया गया है। अब सभी दलों को अपना स्टैंड क्लीयर करना होगा। अगर एक माह तक उनकी समस्याओं को हल करने का प्रयास नहीं किया गया तो फिर से धरना प्रदर्शन शुरू करने पर लोग मजबूर हो जाएंगे। यह प्रदर्शन लोकसभा चुनाव तक जारी रहेेंगे।

अब सस्ते नहीं रहे मकान
पूर्व पार्षद जितेंद्र भाटिया ने कहा कि हाउसिंग बोर्ड का गठन लोगों को सस्ते मकान देने के लिए हुआ था, लेकिन अब बोर्ड 70-70 लाख रुपये के मकान बेच रहा है, जिसे आम आदमी खरीद नहीं सकता।

यह मांगें हैं
हाउसिंग बोर्ड के मकानों को हर स्थिति में रेगुलर किया जाए
मकानों को भेजे जा रहे वायलेशन के नोटिस वापस लिए जाए
जिन पुनर्वास कालोनियों के मकानों पर अभी तक मालिकाना हक प्राप्त नहीं है उन्हें दिया जाए
शहर में सिटीजन चार्टर लागू किया जाए
पब्लिक आडिट सिस्टम लागू किया जाए, इससे समय-समय पर विकास पर खर्च की जाने वाली राशि सार्वजनिक होगी
शहर में अफसरशाही खत्म करने के लिए अधिकारियों की पावर जनप्रतिनिधियों को ट्रांसफर की जाए
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us