सम्वर्तक का घर और आफिस खंगाला सीबीआई ने

Chandigarh Updated Mon, 28 May 2012 12:00 PM IST
चंडीगढ़। हाईकोर्ट के निर्देश पर बहुचर्चित शिक्षक भरती घोटाले की जांच कर रही दिल्ली सीबीआई की टीम ने रविवार को चंडीगढ़ के पूर्व डीपीआई (स्कूल) और वर्तमान में हुडा के सेक्रेटरी सम्वर्तक सिंह केघर और पंचकूला स्थित दफ्तर पर छापामारी करके रिकार्ड खंगाले। पूर्व डीपीआई की चंडीगढ़ सेक्टर 23 स्थित कोठी नं 125 में छापे केदौरान जांच टीम को सीबीआई चंडीगढ़ यूनिट द्वारा भरती घोटाले पर अदालत में जमा करवाई गई क्लोजर रिपोर्ट की कॉपी और दूसरे कागजात बरामद हुए।
दिल्ली सीबीआई की दो अन्य टीमों ने मामले में आरोपी नयागांव निवासी जौली और खरड़ स्थित सन्नी इंक्लेव निवासी हरदेव के घर भी छापा मारा। इसके बाद दोपहर करीब 11 बजे सीबीआई पूर्व डीपीआई सम्वर्तक सिंह, हरदेव और जौली को हिरासत में लेकर सेक्टर 30 स्थित सीबीआई दफ्तर पहुंची। दिल्ली सीबीआई के जांच अधिकारी ने तीनों लोगों केबयान दर्ज किए। दिल्ली सीबीआई ने शिक्षक भरती घोटाले में हरदेव सिंह, जौली और एक सरकारी कर्मचारी केखिलाफ धोखाधड़ी, साजिश रचने और भ्रष्टाचार केतहत मामला दर्ज कर लिया। सीबीआई टीम ने तीनों से पूछताछ के बाद उन्हें छोड़ दिया। सीबीआई इस मामले में तत्कालीन डीपीआई और हरियाणा सिविल सर्विस के अफसर सम्वर्तक सिंह की भूमिका की जांच कर रही है।
दिल्ली सीबीआई टीम केजांच अधिकारी एएसपी हरीकेश कुमार ने रविवार सुबह साढ़े छह बजे चंडीगढ़ केपूर्व डीपीआई सम्वर्तक सिंह कीसेक्टर 23 स्थित कोठी नं 125 और दो अन्य टीमों ने मामले में फंसे जौली के नयागांव और हरदेव के खरड़ के सन्नी इंक्लेव स्थित घरों में छापामारी की। सुबह दरवाजे पर सीबीआई टीम को देख सम्वर्तक सिंह जांच अधिकारी से बहस करने लगे। लेकिन, जांच टीम ने उसी समय सम्वर्तक सिंह के घर को खंगालना शुरू कर दिया। इतने में सीबीआई टीम को चंडीगढ़ यूनिट द्वारा जमा करवाई गई क्लोजर रिपोर्ट की कॉपी मिल गई। क्लोजर रिपोर्ट पर न तो कोई मुहर लगी थी और न ये प्रमाणित प्रति थी। एएसपी ने उसी समय रिपोर्ट केबारे में सम्वर्तक सिंह से पूछताछ की। उन्होंने कहा कि यह रिपोर्ट उनको कहीं से मिली है। तीन घंटे तक सर्च करने केबाद सीबीआई ने सम्वर्तक सिंह के घर से मामले से जुड़े अहम रिकार्ड जब्त किए। सीबीआई टीम सम्वर्तक सिंह को राउंडअप कर सीबीआई दफ्तर लेकर आई। इतने में सीबीआई की दोनों टीम हरदेव और जौली को लेकर सीबीआई दफ्तर पहुंचीं। सीबीआई टीम को उनके घर से भी बहुत अहम कागजात बरामद हुए। दोपहर में ही सीबीआई की टीम सम्वतर्क सिंह को लेकर पंचकूला सेक्टर 6 स्थित उनके वर्तमान तैनाती वाले दफ्तर चली गई। वहां पर सीबीआई ने रिकार्ड खंगाला। करीब एक घंटे के सर्च अभियान के बाद सीबीआई टीम वापस दफ्तर पहुंची। जांच अधिकारी एएसपी हरीकेश कुमार ने मामले में सम्वर्तक सिंह,जौली और हरदेव के बयान दर्ज किए। बयानों में सम्वर्तक सिंह ने कहा कि उसका हरदेव और जौली से कोई लेना देना नहीं है। पांच घंटे की पूछताछ के बाद दोपहर बाद दिल्ली सीबीआई की टीम ने तीनों को छोड़ दिया।
...................................
जौली ने लिया सम्वर्तक का नामग!
सीबीआई सूत्रों से पता चला है कि मामले में आरोपी जौली ने जांच अधिकारी केसामने सम्वर्तक सिंह का नाम लिया है। जौली ने कहा कि सम्वर्तक सिंह केसाथ उसके अच्छे संबंध थे और उसकी सम्वर्तक सिंह से कई बार फोन पर बातचीत होती थी। उसने कहा कि महिला को नौकरी लगवाने केलिए उसने और हरदेव ने रुपये लिए थे। उधर, सम्वर्तक सिंह ने कहा कि डीपीआई केपद पर होने केसमय कई लोग उनसे मिलने आते थे। इसके अलावा कई लोग फोन पर भी उन्हें स्कूलों से संबंधित समस्यों की जानकारी देते थे। इससे उनका किसी से संबंध नहीं साबित होता।
.........................
कोट
शिक्षक भरती घोटाले में दिल्ली सीबीआई की टीम ने चंडीगढ़ के तत्कालीन डीपीआई और एचसीएस अफसर सम्वर्तक सिंह, हरदेव और जौली के घर छापेमारी की है। छापेमारी केदौरान सीबीआई को अहम रिकार्ड मिला है। सीबीआई ने मामले में अभी हरदेव, जौली और एक सरकारी कर्मचारी के खिलाफ मामला दर्ज किया है।
आरकेगौड़, पीआरओ, सीबीआई दिल्ली
.............................
टाइम लाइन
-अगस्त 2007 में शिक्षा विभाग ने टीचर्स के लिए 536 पद निकाले, खरड़ की कमलप्रीत ने होमसाइंस टीचर केलिए आवेदन भरा
-19 जुलाई 2009 को कमलप्रीत ने टीचर लगने के लिए परीक्षा दी, इस बीच हरदेव सिंह ने कमलप्रीत से फोन पर सम्पर्क किया और इंटरव्यू में पास करवाने का विश्वास दिलाया और नौकरी लगवाने केनाम पर 4 लाख 25 हजार रुपये की मांग की।
-हरदेव ने कमलप्रीत से कहा कि उसका नंबर शिक्षा विभाग की लिस्ट से ही मिला है। कमलप्रीत से पूछा कि भरोसा कैसे करे, तो हरदेव ने कहा कि मुझे आपके मार्क्स पता हैं उसने मार्क्स बताए जो सही पाए गए।
-02 सितंबर, 2009 को कमलप्रीत ने उस समय के गृह सचिव रामनिवास को तत्कालीन एडीसी पीएस शेरगिल के जरिए रिश्वतखोरी की जानकारी दी। शिकायत में कहा कि नौकरी देने केनाम पर शिक्षा विभाग के अधिकारी मांग रहे हैं रिश्वत
-03 सितंबर को गृह सचिव केआदेश पर जौली और हरदेव के मोबाइल नंबर सर्विलांस पर लगाया गए
-05 सितंबर क ो जॉली और हरदेव को पुलिस की क्राइम ब्रांच ने ट्रैप लगाकर सेक्टर 15 से दबोच लिया
-07 सितम्बर को जॉली केकब्जे से पुलिस को शिक्षक भर्ती के आवेदकों की लिस्ट बरामद हुई, पूछताछ में तत्कालीन डीपीआई सम्वतर्क सिंह का नाम सामने आया
-12 सितंबर को पुलिस ने डीपीआई सम्वर्तक सिंह को सवालों की लिस्ट भेजकर 24 घंटे में जवाब मांगे और 17 सितंबर को डीपीआई ने पुलिस केसवालों के जवाब करवाए जमा
-21 सितम्बर को जॉली और हरदेव के तीन मोबाइल फोन जांच के लिए भेजे थे सीएफएसएल में
-05 अक्तूबर को सीएफएसएल ने अपनी जांच रिपोर्ट सौंपी पुलिस को
-12 अक्तूबर को पुलिस ने दोबारा से डीपीआई से पूछताछ की
-14 अक्तूबर को पुलिस ने जॉली केखिलाफ एक नया केस दर्ज कर दोबारा से पुलिस रिमांड लिया
-23 अक्तूबर को घोटाले की रिपोर्ट गृह सचिव रामनिवास को सौंपी गई
-10 नवंबर को डीपीआई सम्वर्तक सिंह को वापस उनके मूल कैडर हरियाणा भेज दिया गया
-मामले में डीपीआई सम्वर्तक सिंह का नाम सामने आने पर चंडीगढ़ सीबीआई ने जांच की , सीबीआई ने मामले क्लोजर रिपोर्ट पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट में जमा करवाई
-30 मार्च 2012 को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने चंडीगढ़ सीबीआई को फटकार लगाते हुए जांच दिल्ली सीबीआई को सौंपने के आदेश जारी किए
.....................
हुडा सेक्रेटरी अािफस से भी दस्तावेज कब्जे में लिए
करीब एक घंटे तक टीम ने सम्वर्तक के पंचकूला स्थित वर्तमान आफिस में फाइलें देखीं
अमर उजाला ब्यूरो
पंचकूला। सीबीआई दिल्ली की टीम ने रविवार दोपहर सेक्टर छह स्थित हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण (हुडा) के सेक्रेटरी सम्वर्तक सिंह के दफ्तर में रिकार्ड तलाशे। करीब एक घंटे तक सीबीआई के अधिकारियों ने फाइलों को खंगाला और कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज अपने कब्जे में लिए। हुडा सेक्रेटरी दफ्तर के बाहर मौजूद चौकीदार ने बताया कि सीबीआई अफसरों के आफिस में जाने से पहले ही सम्वर्तक सिंह अंदर चले गए थे।
रविवार करीब 12.45 बजे सीबीआई की टीम सेक्टर छह स्थित हुडा सेक्रेटरी सम्वर्तक सिंह के दफ्तर पहुंची। यहां पर सीबीआई के अधिकारियों ने कई फाइलों को खंगाला। बताया जा रहा है कि जांच एजेंसी को शक था कि चंडीगढ़ में हुए शिक्षक भरती घोटाले के कुछ दस्तावेज सम्वर्तक सिंह के दफ्तर में हो सकते हैं। इस दौरान सम्वर्तक सिंह के पीए और अन्य कर्मचारी भी पहुंचे। करीब एक घंटे रिकार्ड खंगालने के बाद पौने दो बजे सीबीआई टीम दफ्तर से निकल गई। बाद में मीडियाकर्मी दफ्तर पहुंचे तो वहां पर कुछ फाइले बिखरी थीं, लेकिन सम्वर्तक सिंह नहीं थे।

Spotlight

Most Read

Lakhimpur Kheri

हिंदुस्तान बना नौटंकी, कलाकार है पक्ष-विपक्ष

हिंदुस्तान बना नौटंकी, कलाकार है पक्ष-विपक्ष

22 जनवरी 2018

Related Videos

सालों पहले रखा बॉलीवुड में कदम, आज हैं ये टॉप की हीरोइनें

क्या आप जानते हैं कि ऐश्वर्या राय को बॉलीवुड में डेब्यू करे 20 साल हो गए हैं। ऐसी ही और भी एक्ट्रेस हैं जिन्हें इस इंडस्ट्री में कई साल हो गए हैं और अब वे कामयाबी के शिखर पर हैं।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper