अपने हाथों से चप्पल पहनाईं थी PM मोदी ने, जानिए रतली बाई क्या कह रही है

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, बीजापुर Updated Sun, 22 Apr 2018 03:54 PM IST
prime minister narendra modi bent down and slipped her feet into a pair of sandals
ख़बर सुनें
आंबेडकर जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आदिवासी महिला को अपने हाथों से चप्पल पहनाई। महिलाओं को यह चप्पलें चरण पादुका योजना के अंतर्गत दी गईं। इस योजना के तहत तेंदू पत्ता बीनने वाली महिलाओं को चप्पलें दी जा रही हैं ताकि वह आराम से जंगलों में चल सकें। 
उनमें से ही एक महिला है रतली बाई। छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले के भाई रामगढ़ गांव की रहने वाली रतली अपनी झोपड़ी में बैठी मुस्कुरा रही थीं। क्योंकि पीएम ने आंबेडकर जयंती के मौके पर खुद उन्हें चप्पलें पहनाई थीं। उसके पैर कांटो और नुकीले पत्थरों से छिले हुए थे। अपने 70 साल के जीवन में अपना अधिकतर समय उसने जंगलों में ही बिताया था। बिना पैरों में कुछ पहने वह तेंदू के पत्ते बीनकर अपने घर का खर्चा चलाती है। 

रतली बाई कहती हैं कि जंगल बहुत निर्दयी होता है खास कर पैरों के लिए। वह आदिवासियों को खुद पर निर्भर कर देता है। अक्सर उन्हें नुकीले पत्थरों, कांटों, सांप और बिच्छुओं का सामना करना पड़ता है। वह बहुत कम बार ही अपने पैरों का बचाव कर पाते हैं। छत्तीसगढ़ बीजेपी की यह योजना 2005 में शुरू की गई थी जिसके तहत तेंदू पत्ता बीनने वाले परिवार से एक पुरुष को ही चप्पलें दी जाती थीं। जिसमें 2008 में महिलाओं को भी शामिल कर लिया गया। 
आगे पढ़ें

घर के कोने में रखी हैं चप्पलें

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Chandigarh

दो नेता मिलकर चला रहे देश और पार्टी, यशवंत और शत्रुघ्न सिन्हा ने लगाए आरोप

पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने कहा कि मोदी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में जो-जो वायदे किए थे, वे सभी जुमले साबित हो रहे हैं

20 मई 2018

Related Videos

नक्सलियों को गृहमंत्री की चुनौती, सामने से लड़ने की हिम्मत नहीं

दंतेवाड़ा नक्सली हमले के बाद गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने नक्सलियों को खुली चुनौती देते हुए कहा कि उनमें इतनी हिम्मत नहीं कि वो आमने-सामने की लड़ाई कर सकें। दंतेवाड़ा नक्सली हमले में सात जवान शहीद हुए।

20 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen