89 सिल्क साड़ियों के पार्सल की चोरी करने वाला रेलकर्मी 41 साल बाद गिरफ्तार

क्राइम डेस्क, अमर उजाला Updated Sun, 27 May 2018 02:26 PM IST
Silk saree parcel theft arrested from Bihar after 41 years
ख़बर सुनें
छत्तीसगढ़ के भिलाई रेलवे स्टेशन पर करीब 41 साल पहले 89 सिल्क साड़ियों के पार्सल की चोरी हुई थी। जिसके बाद मामले में कुल 9 लोगों को आरोपी बनाया गया। मुख्य आरोपी रामाधार पांडेय अब 73 साल का हो गया है। उस वक्त वह रेलवे में कर्मचारी था। इतने साल बीत जाने के बाद स्थानीय प्रशासन की सहायता से आरपीएफ ने उसे 24 मई को गिरफ्तार किया।  
इतने लंबे वक्त में तीन आरोपियों की मौत हो गई जबकि 4 आरोपी बरी हो गए। बाकी बचे दो आरोपियों में से एक बिहार का और दूसरा ओडिशा का रहने वाला है। रामाधार को गिरफ्तार करने के लिए आरपीएफ रायपुर की तीन सदस्यीय स्पेशल टीम 21 मई को बिहार के छपरा के लिए रवाना हुई। जानकारी के मुताबिक सब इंस्पेक्टर संजय वर्मा, आरक्षक राजीव कुमार और अखिलेश कुमार की सूझबूझ से ही सालों बाद आरोपी की गिरफ्तारी हो पाई है।  

आरोपी रामाधार ने पूछताछ में बताया कि इतने सालों में उसका वकील भी मर चुका है इसलिए उसका केस लड़ने के लिए अब कोई नहीं है। बता दें आरोपी छपरा जिले के रिविलगंज थाने के अंतर्गत आने वाले नटवर सिमरिया गांव का रहने वाला है।  

आरपीएफ पोस्ट प्रभारी दीवाकर मिश्रा के मुताबिक आरोपी रेलवे में ही नौकरी करता था। लेकिन फिर भी ना तो उसे पेंशन मिलती है और ना ही रेलवे विभाग का कोई लाभ उसे प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि चोरी के मामले में उसे नौकरी से भी बर्खास्त कर दिया गया होगा। अभी आरोपी को 14 दिनों के लिए जेल भेजा गया है। जिसके बाद मामले की सुनवाई रेलवे न्यायालय में होगी।

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Chandigarh

अंडों का रेट पूछने के बहाने बुलाया और गोलियों से छलनी कर दिया, गैंग ने ली जिम्मेदारी

अंडों का रेट पूछने के बहाने व्यापारी को बुलाया और बाइक सवार युवकों ने गोली मारकर उसकी हत्या कर दी।

18 जून 2018

Related Videos

माहवारी के दौरान इस गांव में महिलाओं के साथ होता है ‘गंदा’ व्यवहार

माहवारी को आज भी देश के कई हिस्सों में अभिशाप माना जाता है। मासिक धर्म के कारण महिलाओं को अपवित्र समझ लिया जाता है। ऐसा ही एक गाँव है छत्तीसगढ़ के राजनंद गांव। यहां माहवारी के दिनों में महिलाओं को घर से बाहर रखा जाता है। देखिए रिपोर्ट।

17 जून 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen