बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

चंडीगढ़: सीनेट-सिंडिकेट के बिना अटकी पदोन्नति, नाराज शिक्षकों ने दी प्रदर्शन की चेतावनी 

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Published by: पंचकुला ब्‍यूरो Updated Tue, 04 May 2021 02:25 AM IST

सार

पंजाब विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के जनवरी में लंबे प्रदर्शन के बाद शिक्षकों के कैस साक्षात्कार तो ले लिए गए, लेकिन चार महीने बाद भी उन्हें पदोन्नति पत्र नहीं दिया गया। 
विज्ञापन
पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़
पंजाब यूनिवर्सिटी, चंडीगढ़ - फोटो : फाइल फोटो

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विस्तार

चंडीगढ़ के पंजाब विश्वविद्यालय में सीनेट- सिंडिकेट के बिना शिक्षकों के कैस (कॅरिअर एडवांसमेंट स्कीम) भी अटकी हुई है। पंजाब विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के जनवरी में लंबे प्रदर्शन के बाद शिक्षकों के कैस साक्षात्कार तो ले लिए गए, लेकिन चार महीने बाद भी उन्हें पदोन्नति पत्र नहीं दिया गया। पुटा ने बताया कि कोरोना महामारी के वर्तमान हालातों को देखते हुए हम बातचीत से मुद्दा हल करने की कोशिश कर रहे हैं।
विज्ञापन


पंजाब विश्वविद्यालय शिक्षक संघ के सदस्यों द्वारा 62 दिन के लंबे प्रदर्शन के बाद लगभग 120 शिक्षकों के कैस साक्षात्कार लिए गए थे, लेकिन चार महीने के बाद भी अभी तक उन्हें पदोन्नति पत्र जारी नहीं किया गया। पंजाब विश्वविद्यालय में सीनेट सर्वोच्च शासी निकाय है। शिक्षकों की प्रमोशन का अंतिम फैसला इसकी बैठक में ही किया जाता है।



हालांकि इससे पहले सिंडिकेट भी इसे अनुमति देती है, लेकिन कोरोना महामारी के कारण पिछले एक साल से सीनेट और सिंडिकेट के चुनाव आयोजित नहीं हो पा रहे हैं। इसके चलते इनकी बैठक भी नहीं हो पाई है। इन सबके बीच शिक्षकों के पदोन्नति के फैसले व अन्य शैक्षणिक गतिविधियों पर भी पीयू प्रशासन की ओर से कोई फैसला नहीं लिया जा रहा है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

अप्रैल में लिखा पत्र, वीसी अपने स्तर पर लें फैसला

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X