नाबालिग को अगवा कर गैंगरेप में दो दोषियों को 20 साल कैद, जुर्माना भी लगा

ब्यूरो/अमर उजाला, मोहाली(पंजाब) Updated Wed, 07 Feb 2018 09:32 AM IST
arrested
arrested - फोटो : Demo Pics
ख़बर सुनें
तीन साल पहले नाबालिग लड़की को अगवा कर गैंगरेप के मामले में जिला अदालत ने महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए दो युवकों को दोषी ठहराते हुए बीस साल की सुनाई है। साथ ही पचास हजार जुर्माना लगाया है। दोषियों में मुमताज निवासी बिहार व रिंगा हसदा उर्फ बबलू निवासी बिहार शामिल हैं। इन्हें धारा 363 व 376 डी में दोषी ठहराया गया । जबकि मोहम्मद अलाउदीन उर्फ मुल्लां ठेकेदार को सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया। 
यह फैसला जिला सेशन जज अर्चना पुरी की अदालत द्वारा सुनाया गया। फैसले के बाद दोषियों को जेल दिया गया। जानकारी के मुताबिक यह मामला 26 मई 2015 को सामने आया था। लड़की के मां ने शिकायत दी थी कि जीकरपुर क्षेत्र में मजदूरी करके वह अपने परिवार को पालती है। जिस मुल्लां ठेकेदार के पास वे काम करते थे, रिंगा व मुमताज भी उसके साथी थे।

पीड़ित मां ने बताया कि उसके पांच बच्चे हैं, जिनमें से एक 14 साल की बेटी घर ही रहती थी। रिश्तेदारी में शादी होने के कारण उनकी बेटी दर्जी से कपड़े सिलवाने जा रही थी। रास्ते में मुमताज और रिंगा ने उससे गाड़ी में बैठने को कहा। परिचित होने के कारण उनकी बेटी गाड़ी में बैठ गई। इसके बाद उन्होंने प्रसाद बताकर किशोरी को जबरदस्ती लड्डू खिला दिया। किशोरी के मुताबिक, इसके बाद वह बेसुध हो गई और आरोपियों ने उसे कहीं ले जाकर गैंगरेप किया। होश में आने पर उसे धमकी दी गई किसी के सामने मुंह न खोले। 
आगे पढ़ें

साल की पहली बड़ी सजा

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

Spotlight

Most Read

Lalitpur

क्राइम: जिले को मिली छह चेतक और छह डायल 100 बाइक

क्राइम: जिले को मिली छह चेतक और छह डायल 100 बाइक

23 मई 2018

Related Videos

VIDEO: इस एलान के बाद अब मुसलमान सिर्फ मस्जिद में पढ़ सकेंगे नमाज

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने नमाज को लेकर बयान दिया है। खट्टर ने कहा है कि हरियाणा में सार्वजनिक जगहों पर नमाज नहीं पढ़ी जाएगी। सिर्फ मस्जिदों में ही नमाज पढ़ी जाए।

6 मई 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen