विज्ञापन

पंजाब यूनिवर्सिटी में इस साल 1.27 लाख स्टूडेंट्स देंगे सेमेस्टर एग्जाम, अगले हफ्ते आएगा शेड्यूल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Wed, 31 Oct 2018 03:12 PM IST
exam paper
exam paper - फोटो : डेमो
ख़बर सुनें
पंजाब विश्वविद्यालय (पीयू) और उससे संबद्ध कॉलेजों के विद्यार्थियों की परीक्षाएं दिसंबर में शुरू होने जा रही हैं। पीयू प्रशासन ने परीक्षा का कार्यक्रम लगभग फाइनल कर लिया है। जिसे अगले सप्ताह में जारी किया जाएगा। इस एग्जाम में री-अपीयर स्टूडेंट्स भी बैठ सकेंगे। अंडर ग्रेजुएशन के फर्स्ट, थर्ड व पांचवें सेमेस्टर जबकि पोस्ट ग्रेजुएट कक्षाओं के प्रथम व तीसरे सेमेस्टर के एग्जाम तीन दिसंबर से शुरू होंगे।
विज्ञापन
विज्ञापन
स्नातक कक्षाओं की परीक्षाओं में लगभग 90 हजार स्टूडेंट्स हिस्सा लेंगे। इसमें बीए, बीएससी, बीकॉम, बीबीए आदि शामिल हैं। वहीं, पोस्ट ग्रेजुएट के 32 हजार स्टूडेंट्स परीक्षा में बैठेंगे। यह स्टूडेंट एमए, एमकॉम, एमबीए, एमएससी आदि के हैं। री-अपीयर के भी लगभग पांच हजार स्टूडेंट् शामिल होंगे। कुल मिलाकर इस परीक्षा में 1.27 लाख विद्यार्थियों के शामिल होने की संभावना है। सूत्रों का कहना है कि परीक्षा कार्यक्रम का खाका पूरी तरह तैयार हो गया है। बस, इसे जारी किया जाना बाकी है।

192 कॉलेज करेंगे तैयारियां
पंजाब विश्वविद्यालय से 192 कॉलेज मान्यता प्राप्त हैं। पीयू के साथ इन सभी कॉलेजों को परीक्षा कार्यक्रम जारी किया जाएगा और फिर तैयारियां शुरू होंगी। फर्नीचर आदि की व्यवस्थाएं भी कॉलेजों को करनी होंगी। परीक्षा से 15 दिन पहले कॉलेजों को विश्वविद्यालय प्रशासन परीक्षा कार्यक्रम भेजेगा।

विवाद के कारण लेट हुई तैयारी
स्पेशल चांस व री-अपीयर स्टूडेंट्स की नवंबर में एक साथ परीक्षा कराने को लेकर छात्रों ने विवाद खड़ा कर दिया था। हंगामा भी हुआ। चारों ओर से मांग उठी तो पीयू प्रशासन को इसमें बदलाव करना पड़ा। इसके कारण मुख्य परीक्षा कार्यक्रम में देरी हो गई। हालांकि पीयू प्रशासन इसी सप्ताह में परीक्षा कार्यक्रम तय करने का आश्वासन दे रहा है।  

सिलेबस पूरा है या नहीं जानेगा पीयू
परीक्षा कार्यक्रम पीयू तय करने में जुटा है। इसी दौरान कॉलेजों में सेमेस्टर की पढ़ाई पूरी हुई है या नहीं, यह भी पीयू प्रशासन कॉलेजों से जानेगा। इसके लिए चिट्ठी भेजी जाएगी। यदि कहीं पर सिलेबस पूरा नहीं हो पाया तो उसका जवाब भी कॉलेज प्रशासन को देना होगा। छात्र उसका दंश नहीं झेलेंगे।

Recommended

बच्चों के विकास के लिए बेहद जरूरी है देसी घी, जानें इसके फायदे
ADVERTORIAL

बच्चों के विकास के लिए बेहद जरूरी है देसी घी, जानें इसके फायदे

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Delhi NCR

डीयू में कुलपति कार्यालय के बाहर शिक्षकों का गुस्सा फूटा

दिल्ली विश्वविद्यालय में शिक्षकों के गुस्से का बांध एक बार फिर टूट गया। हजारों की संख्या में आक्रोशित शिक्षकों ने कुलपति कार्यालय के बाहर प्रदर्शन किया।

18 जनवरी 2019

विज्ञापन

किन्नर समाज के वो रहस्य जो आपको अब तक नहीं थे पता

इस कुंभ में पहली बार किन्नर अखाड़े ने शिरकत की है। किन्नर समाज के बारे में अक्सर लोगों की जिज्ञासा बनी रहती है। अक्सर किसी मांगलिक अवसर या सड़कों और ट्रेन में मिलने वाले ये किन्नरों कहां रहते हैं? क्या इनका भी होता है विवाह?

18 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree