विज्ञापन

गुड न्यूजः सरकारी स्कूल के छात्रों के लिए गणित, हिंदी और अंग्रेजी की बनाई आसान हैंडबुक

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Sat, 06 Oct 2018 10:23 AM IST
स्कूल से घर जाते बच्चे
स्कूल से घर जाते बच्चे - फोटो : amar ujala
ख़बर सुनें
सरकारी स्कूलों के बच्चों के लिए अब गणित, हिंदी, अंग्रेजी, ईवीएस, साइंस और सामाजिक विज्ञान को पढ़ना इतना मुश्किल नहीं होगा, क्योंकि अब उनको हैंडबुक का सहारा मिलेगा। जी हां, ये हैंडबुक बच्चों के मूलभूत कुशलता को निखारेगी। यह हैंडबुक शुक्रवार को शिक्षा विभाग सचिव बीएल शर्मा ने लांच की। इसे प्राइमरी लेवल से ही लागू किया जाएगा। यूटी गेस्ट हाउस सेक्टर-छह में लांच समारोह का आयोजन रखा गया।
विज्ञापन
विज्ञापन
समग्र शिक्षा ने तैयार की ये किताबें
शिक्षा विभाग के समग्र शिक्षा की ओर से इन किताबों को लांच किया गया। पुस्तिका बनाने के दौरान यह सुनिश्चित किया गया है कि अलग-अलग स्तर पर सीखने की जरूरत, कुशल और उन्नत को ध्यान में रखा गया। साथ ही इस के जरिए छात्रों की शैक्षणिक प्रगति की निगरानी भी की जाएगी। ये हैंडबुक शिक्षकों को शिक्षण सीखने की प्रक्रियाओं पर ध्यान केंद्रित करने में मदद करेगी।

इन हैंडबुक में से प्रत्येक छात्र की प्रगति को ट्रैक करने के लिए सीखने के परिणामों और प्रगति पत्रों की सूची शामिल है। मूल्यांकन पत्र कमजोर और औसत छात्रों की पहचान करने में मदद करेगा। शिक्षा सचिव ने इन पुस्तिकाओं की तैयारी करने वाले स्टाफ की सराहना की। उन्होंने बताया कि चंडीगढ़ को 2021 में पीआईएसए (अंतर्राष्ट्रीय छात्र आकलन के लिए कार्यक्रम) के लिए भारत को चुना है।

इसमें चंडीगढ़ के स्कूलों (सरकार, सरकारी सहायता प्राप्त, निजी, केन्द्रीय विद्यालय और नवोदय विद्यालय) शामिल हैं। उन्होंने यह भी बताया कि सरकार के शिक्षकों की ओर से तैयार की गई इन किताबों के जरिए स्कूली छात्रों के सीखने के स्तर को बढ़ाने और पीआईएसए के लिए तैयार करने में मदद करेंगे।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Shimla

स्कूल शिक्षा बोर्ड देगा डॉ. राधाकृष्णन छात्रवृत्ति, इस दिन तक करें आवेदन

हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड दसवीं और जमा दो के 14-14 छात्रों को डॉ. राधाकृष्णन छात्रवृत्ति देगा।

10 दिसंबर 2018

विज्ञापन

ज्योतिरादित्य सिंधिया: अचानक हुई राजनीति में एंट्री, कैसे बने राहुल गांधी के जिगरी

ग्वालियर राजघराने के महाराजा और गुना लोकसभा सीट से सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का कद आज भारत की राजनीति में काफी बड़ा है। लेकिन उनकी पहली पसंद राजनीति नहीं थी। एक हादसे के बाद उन्हें राजनीति में आना पड़ा। देखिए सिंधिया का सफरनामा

10 दिसंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election