लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Chandigarh ›   40 pigs died in Patiala of Punjab

Punjab: पटियाला में 40 सूअरों की मौत, कुल आंकड़ा 290 पहुंचा, पशुपालन विभाग में हड़कंप

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटियाला (पंजाब) Published by: ajay kumar Updated Fri, 12 Aug 2022 01:30 AM IST
सार

पशुपालन विभाग के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. गुरचरन सिंह ने बताया कि मृत सूअर गली-सड़ी हालत में थे। यही वजह है कि जालंधर लैब में जांच के दौरान इनकी मौत के कारणों का खुलासा नहीं हो सका है। अब आसपास के जिंदा सूअरों के खून, स्वैब व त्वचा के सैंपल लेकर बरेली लैब भेजे गए हैं। 

सूअर
सूअर - फोटो : social media
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पंजाब के पटियाला में गुरुवार को छोटी नदी के पास 40 और सूअर मृत शव मिले। इसके बाद मरने वाले सूअरों का आंकड़ा 290 पहुंच गया है। उधर, मामले में खास बात यह है कि अब तक जितने भी सूअर मरे मिले हैं, उनके शरीर गली-सड़ी हालत में थे। जिस कारण मौत का खुलासा जांच में नहीं हो सका है। अब नगर निगम के सहयोग से पशुपालन विभाग ने छोटी नदी के पास पड़ते इलाके से जिंदा सूअरों के खून, त्वचा व स्वैब के सैंपल लेकर बरेली स्थित लैब भेजे हैं।



जानवरों में लंपी की बीमारी के बढ़ते प्रकोप के बीच अब बड़ी संख्या में सूअरों की मौतों ने नगर निगम व पशुपालन विभाग में हड़कंप मचा दिया है। नगर निगम के कमिश्नर आदित्य उप्पल ने बताया कि सूचना मिली थी कि छोटी नदी के साथ लगते इलाके में कई और सूअर मृत पड़े हैं। इसके बाद निगम मुलाजिमों को इलाके से 40 और मृत सूअर मिले। सभी मृत सूअरों को दफना दिया गया है। 


उधर, पशुपालन विभाग के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. गुरचरन सिंह ने बताया कि मृत सूअर गली-सड़ी हालत में थे। यही वजह है कि जालंधर लैब में जांच के दौरान इनकी मौत के कारणों का खुलासा नहीं हो सका है। अब आसपास के जिंदा सूअरों के खून, स्वैब व त्वचा के सैंपल लेकर बरेली लैब भेजे गए हैं। 

लंपी बीमारी का प्रकोप बढ़ा, 2273 जानवर संक्रमित और 55 की मौत
पटियाला में जानवरों में लंपी बीमारी का प्रकोप भी लगातार बढ़ता जा रहा है। अब तक इस बीमारी की चपेट में 2273 पशु आ चुके हैं, जिनमें से 55 की मौत हो गई है। इस संबंध में पशुपालन विभाग के डिप्टी डायरेक्टर डॉ. गुरचरन सिंह ने पुष्टि की। उन्होंने कहा कि 44 टीमों का गठन कर गांवों में पशुपालकों को इस बीमारी को लेकर जागरूक किया जा रहा है। साथ ही बीमार पशुओं का भी इलाज किया जा रहा है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00