विज्ञापन
विज्ञापन

कर्ज लेने वाले किसानों के लिए जरूरी नहीं होगा फसली बीमा

शिशिर चौरसिया, नई दिल्ली Updated Tue, 18 Jun 2019 06:17 AM IST
bima fasal yojana
bima fasal yojana
ख़बर सुनें
वैसे तो बीमा आग्रह की विषय-वस्तु है, लेकिन बैंकों से फसली ऋण लेने वाले किसानों को यह अनिवार्य रूप से लेना पड़ता है। ऐसे में अधिकतर किसान इसे फायदे का सौदा नहीं मानते हैं। सरकार इसका दायरा बढ़ाने के लिए फसली बीमा को स्वैच्छिक बनाने की तैयारी में है। 
विज्ञापन
केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को स्वैच्छिक बनाने की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं, कुछ जरूरी औपचारिकताओं के बाद जल्द ही इसकी अधिसूचना निकाल दी जाएगी। मंत्रालय ने इसे नई सरकार के 100 दिन की कार्य योजना में भी शामिल है। उन्होंने बताया कि फसल बीमा को स्वैच्छिक करने से किसान या किसान संगठन जागरूक होंगे। वे मौसम, स्थानीय स्थिति और फसल के हिसाब से खतरे का अनुमान लगाएंगे और अगर जरूरी होगा तो ही फसल बीमा लेंगे। इसके लिए बैंकों को भी जरूरी निर्देश दिए जाएंगे, ताकि वे फसल ऋण लेने वाले किसानों पर बीमा कराने का दबाव न डाल सकें। 

बीमा कंपनियों पर बढ़ेगा दबाव

फसल बीमा अनिवार्य होने से कंपनियों को बिना कोशिश किए कारोबार मिल रहा है और वे इस दिशा में सक्रिय नहीं हैं। नई नीति लागू होने के बाद उन्हें भी जीवन बीमा या सामान्य बीमा की तरह किसानों से आग्रह करना होगा, जिससे फसली बीमा उत्पाद और भी आकर्षक बनेगा। इसके अलावा अभी तक फसल बीमा बैंककर्मी ही करते हैं और वही फॉर्म भरते हैं, जिससे नाम, रकबा, फसल या क्षेत्र के नाम में गलतियों की आशंका ज्यादा होती है। अब किसान और उनके प्रतिनिधि खुद रुचि लेंगे तो इस तरह की गलतियां कम होंगी।

बढ़ सकता है प्रीमियम 

अभी फसल बीमा के प्रीमियम के निर्धारण में सरकार का दबाव ज्यादा रहता है, लेकिन नए नियम लागू हुए तो बीमा कंपनियां अपने हिसाब से जोखिमों का आकलन करेंगी और उसी आधार पर प्रीमियम निर्धारित होगा। ऐसे में फसली बीमा का प्रीमियम पर खर्च बढ़ सकता है। इसका असर किसानों के साथ सरकार पर भी होगा, क्योंकि किसान रबी फसल में कुल प्रीमियम का डेढ़ फीसदी और खरीफ में दो फीसदी ही देता है। बाकी भुगतान केंद्र और राज्य सरकारें आधा-आधा करती हैं।

आसान हो जाएगा बीमा लेना 

फसल ऋण के साथ बीमा अनिवार्य होने पर अभी किसानों को कर्ज देने वाले बैंक ही अमूमन उसका बीमा भी कर देते हैं। दूसरी ओर, जो किसान बैंक से कर्ज लिए बिना खेती करते हैं, उन्हें फसली बीमा पाने के लिए काफी जहमत उठानी पड़ती है। इसकी अनिवार्यता खत्म होने के बाद ऐसे किसानों को भी फसली बीमा आसानी से मिल सकेगा। 
 
विज्ञापन

Recommended

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था
Dolphin PG

बायोमेडिकल एवं लाइफ साइंस में लेना है एडमिशन, ये है सबसे नामी संस्था

मनचाहा जीवनसाथी  पाने के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा - 24 अगस्त 2019
Astrology Services

मनचाहा जीवनसाथी पाने के लिए इस जन्माष्टमी मथुरा में कराएं राधा-कृष्ण युगल पूजा - 24 अगस्त 2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2019 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Business

वाहन उद्योग में मंदी सिर्फ भारत की समस्या नहींः एनडीबी अध्यक्ष केवी कामथ

आर्थिक मंदी की इस आहट के बीच भारत में निजी क्षेत्र बैंकिंग के पितामह माने जाने वाले ब्रिक्स बैंक के अध्यक्ष केवी कॉमथ का कहना है कि दुनिया बहुत तेजी से बदल रही है और तकनीक ने बदलाव की इस गति को काफी तेज कर दिया है।

19 अगस्त 2019

विज्ञापन

राजकीय सम्मान के साथ हुई खय्याम साहब की अंतिम यात्रा

राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता खय्याम सोमवार रात इस दुनिया से विदा हो गए।मंगलवार शाम उन्हें पूर्ण राजकीय सम्मान के साथ सुपुर्द-ए-खाक किया गया।

21 अगस्त 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree