विज्ञापन
विज्ञापन

नीति आयोग ने तैयार की योजना, 24 सरकारी कंपनियों की बिकेगी 50 संपत्तियां

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 07 Jun 2019 02:48 PM IST
niti aayog prepares list of 24 psu companies whose assets will be for sale
ख़बर सुनें
एयर इंडिया समेत देश में कार्यरत 24 पब्लिक सेक्टर कंपनियों की संपत्ति को केंद्र सरकार ने बेचने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए नीति आयोग ने पूरा खाका खींच लिया है। इकोनॉमिक टाइम्स (ईटी) की रिपोर्ट के अनुसार डिपार्टमेंट ऑफ इंवेस्टमेंट एंड पब्लिक असेट मैनेजमैंट (दीपम) को इसके लिए नोडल एजेंसी बनाया गया है। 

90 हजार करोड़ का लक्ष्य

नीति आयोग ने इस बार 90 हजार करोड़ रुपये के विनिवेश का लक्ष्य रखा है। ईटी की रिपोर्ट के मुताबिक इन 24 कंपनियों की कुल 50 संपत्तियों को बेचा जाएगा। जिन कंपनियों की संपत्ति को बेचने का प्लान है उनमें एनटीपीसी, सीमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया, भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड और स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड शामिल हैं। 

तैयार की लिस्ट

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने इस लिस्ट को अन्य मंत्रालयों के सचिवों के साथ मिलकर तैयार किया गया है। इस प्रक्रिया को देख रहे एक अधिकारी ने कहा कि इस लिस्ट में आगे और भी नाम जोड़े जा सकते हैं। एनटीपीसी का बदरपुर प्लांट जो कि फिलहाल बंद हो चुका है, उसको भी बेचा जाएगा। इस प्लांट के पास 400 एकड़ की भूमि है। 

सरकार ने जुटाए 2350 करोड़ रुपये

इस वित्त वर्ष के शुरुआती दो महीने में केंद्र सरकार ने 2,350 करोड़ विनिवेश के जरिए जुटा लिए हैं। पिछले वित्त वर्ष में सरकार ने 84,972 करोड़ रुपये जुटाए थे। इन 24 कंपनियों में स्कूटर्स इंडिया, भारत पंप एंड कंप्रेर्स, प्रोजेक्ट एंड डेवलपमेंट इंडिया, हिंदुस्तान प्रीफैब, हिंदुस्तान न्यूजप्रिंट, ब्रिज एंड रूफ कंपनी और हिंदुस्तान फ्लोरोकॉर्बन शामिल हैं। 

आयोग का हुआ पुनर्गठन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को नीति आयोग के पुनर्गठन को मंजूरी दी। डॉ. राजीव कुमार को फिर से उपाध्यक्ष बनाया गया है जबकि गृहमंत्री अमित शाह पदेन सदस्य होंगे। बता दें कि भारत सरकार के एक थिंक टैंक के रूप में नीति आयोग देश को महत्वपूर्ण जानकारी, नवीनता और उद्यमशीलता सहायता प्रदान करता है।
विज्ञापन
विज्ञापन
अन्य सदस्यों में वीके सारस्वत, रमेश चंद और डॉ. वीके पॉल का नाम शामिल है। बता दें कि प्रधानमंत्री नीति आयोग के अध्यक्ष होते हैं। आयोग के पदेन सदस्यों में शाह के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त और कार्पोरेट कार्य मंत्री निर्मला सीतारमण, कृषि और किसान कल्याण, ग्रामीण विकास और पंचायती राज मंत्री मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी शामिल होंगे।

सड़क परिवहन और राजमार्ग तथा सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम मंत्री नीतिन गडकरी, समाजिक न्यय एवं अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत, रेल और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल, सांख्यिकी और कार्यक्रम क्रियान्वयन राज्य मंत्री, योजना मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राव इंद्रजीत सिंह इसमें विशेष आमंत्रित सदस्य होंगे। वी के सारस्वत, प्रोफेसर रमेश चंद्र और डा. वी के पॉल नीति आयोग में दोबारा पूर्णकालिक सदस्य बनाए गए हैं। 

Recommended

करियर के लिए सही शिक्षण संस्थान का चयन है एक चुनौती, सच और दावों की पड़ताल करना जरूरी
Dolphin PG Dehradun

करियर के लिए सही शिक्षण संस्थान का चयन है एक चुनौती, सच और दावों की पड़ताल करना जरूरी

समस्या कैसे भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रूपये में
Astrology

समस्या कैसे भी हो, हमारे ज्योतिषी से पूछें सवाल और पाएं जवाब मात्र 99 रूपये में

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2019 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Corporate

अपनी अंतिम वार्षिक आमसभा में बोले अजीम प्रेमजी, और बेहतर होगा विप्रो का भविष्य

देश की दिग्गज आईटी कंपनियों में शुमार विप्रो के संस्थापक और फिलहाल एग्जिक्यूटिव चेयरमैन व प्रबंध निदेशक अजीम प्रेमजी की मंगलवार को आखिरी एजीएम थी।

17 जुलाई 2019

विज्ञापन

अंतरराष्ट्रीय अदालत में पाकिस्तान को झटका, कुलभूषण जाधव की फांसी पर लगी रोक

भारत और पाकिस्तान के बीच लंबे समय से विवाद का विषय बने रहे कुलभूषण जाधव मामले में अंतिम फैसला सुना दिया गया। फैसला भारत के पक्ष में आया है।

17 जुलाई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree