लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Business ›   Business Diary ›   Repo rate up by 1.90 percent so far: Make a strategy to invest in auto, bank, defense sector

रेपो रेट में अब तक 1.90 फीसदी की बढ़त: ऑटो, बैंक, रक्षा सेक्टर में निवेश की बनाएं रणनीति

अजीत सिंह, नई दिल्ली Published by: Amit Mandal Updated Mon, 03 Oct 2022 01:41 AM IST
सार

महंगाई पर काबू पाने की रणनीति के तहत रिजर्व बैंक लगातार दरें बढ़ा रहा है। इससे फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दरें बढ़ गई हैं। हालांकि, बावजूद इसके शेयर बाजार रिटर्न देने में अच्छा साबित हो सकता है। ऐसे में किस-किस सेक्टर में निवेश करने का यह सही समय है, उसकी गणित बताती अजीत सिंह की रिपोर्ट-
 

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : istock
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

विश्लेषकों का कहना है कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने लगातार चार बार में रेपो दर में 1.90 फीसदी की बढ़त कर वैश्विक केंद्रीय बैंकों की आक्रामक मौद्रिक नीतियों का समर्थन किया है। आगे भी कुछ समय तक दरों में इसी तरह की आक्रामक नीति अपनाई जाएगी, जब तक कि महंगाई दर केंद्रीय बैंकों के लक्ष्य के अंदर नहीं आ जाती है। अब तक जो घटनाएं घट चुकी हैं, वे आने वाले दिनों में वैश्विक स्तर पर होने वाले किसी बड़े बदलाव के संकेत दे रहे हैं। यह आश्चर्य की बात नहीं होगी कि अगर मौजूदा रिकवरी में तेजी आती है तो निफ्टी निकट भविष्य में 17,500 के आस-पास आ जाएगा। ऐसे में पोर्टफोलियो रणनीति की बात करें तो बाजार के मौजूदा उथल-पुथल के माहौल में ऑटो, बैंक, रक्षा, इंजीनियरिंग, रियल एस्टेट जैसे क्षेत्रों में निवेशकों को दांव लगाना चाहिए। ये ऐसे क्षेत्र हैं जो रक्षात्मक और अर्थव्यवस्था की वृद्धि होने पर अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं।  



पहले ही बाजार पर पड़ चुका है दरों को बढ़ाने का असर 
इस बार जब आरबीआई ने रेपो दर में 0.50 फीसदी का इजाफा किया तो इसका बाजार पर सकारात्मक असर देखा गया। सेंसेक्स एक हजार अंक से ऊपर बढ़कर बंद हुआ। साथ ही रुपया भी मजबूत हुआ। दरअसल, पहले से ही अनुमान था कि आरबीआई दरों को बढ़ाएगा। साथ ही तीन बार पहले भी दरें बढ़ीं थीं, जिनका बाजार पर जो भी असर होना था वो हुआ। इसलिए इस बार बाजार ने आरबीआई के फैसले को सकारात्मक लिया और बाजार में भयंकर तेजी देखी गई। 

 
दूसरी छमाही में स्थितियां सुधरने की उम्मीद
आरबीआई का यह कहना है कि भारतीय अर्थव्यवस्था स्थिर बनी हुई है। पहली तिमाही में वास्तविक जीडीपी वृद्धि आरबीआई की अपेक्षाओं से पीछे रही है। हालांकि, क्षमताओं के बेहतर उपयोग और पूंजीगत खर्च पर सरकार जोर दे रही है। ऐसे में दूसरी छमाही यानी अक्तूबर से मार्च तक में स्थितियां सुधरने की उम्मीद है। बावजूद इसके खुदरा महंगाई आरबीआई के दायरे से ऊपर बनी हुई है, इसलिए आगे इसकी राह कैसी होगी, इस पर अभी अनिश्चितताओं के बादल हैं। 

निवेशक सुरक्षित रूख अपना रहे हैं
निवेशकों ने सुरक्षात्मक रूख अपनाना शुरू कर दिया है। अमेरिकी डॉलर दो दशक के उच्च स्तर पर तेजी से मजबूत हुआ है। कई उभरते हुए बाजारों की मुद्राओं की साख हाल के समय निचले स्तर तक गिर गई है। उभरते बाजार की अर्थव्यवस्थाएं वैश्विक विकास में काफी चुनौतियों का सामना कर रही हैं। ऐसे माहौल में निवेशकों को लंबे समय वाले डेट फंड से दूर रहना चाहिए। क्योंकि डेट फंड में उतार-चढ़ाव रह सकता है। 
 
बैंक जमा पर ज्यादा ब्याज 
आरबीआई की घोषणा के बाद बैंक के जमा पर ज्यादा ब्याज मिलने की उम्मीद है। हालांकि, लंबे समय यानी दो से तीन साल की अवधि में बेहतर रिटर्न पाने के लिए शेयर बाजार ही सही हैं। भारत की मजबूत अर्थव्यवस्था का सीधा असर बाजार पर होता है। ऐसे में थोड़े समय के लिए निवेशक भले ही बैंक जमा की ओर जा सकते हैं, पर लंबे समय में उनको इक्विटी का ही रास्ता अपनाना होगा। 

बैंकिंग सेक्टर के लिए सकारात्मक
आरबीआई वर्तमान में प्रावधान के लिए बैंकों द्वारा अपनाए जाने वाले संभावित घाटे के नजरिए पर एक चर्चा पत्र जारी करेगा। यह एक रूढ़िवादी नजरिया प्रतीत हो रहा है। इससे बैंकों की आय का मार्ग आसान हो जाएगा। बैंकिंग प्रणाली में जून-जुलाई के दौरान 3.8 लाख करोड़ रुपये की अधिक तरलता थी। अगस्त -सितंबर में यह 2.3 लाख करोड़ रुपये तक कम हो गई। इसके लिए भी आरबीआई कोशिश कर रहा है। 
विज्ञापन

30-35 बीपीएस की और बढ़ोतरी होगी
आरबीआई अगली मौद्रिक नीति की बैठक में एक बार और दरों को 0.35 फीसदी तक बढ़ा सकता है। ऐसे में निवेशक बैंक जमा पर ज्यादा ब्याज का लाभ ले सकते हैं। बैंक जमा पर ब्याज अब एक उचित स्तर पर पहुंच जाएगा। 
- गौरव दुआ, पूंजी बाजार रणनीति प्रमुख, शेयरखान बीएनपी पारिबा

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और Budget 2022 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00