विज्ञापन
विज्ञापन

पाकिस्तान में महंगाई के बीच मनेगी बकरीद, दूध-सब्जियों की कीमतों में उछाल, लोग बेहाल

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Sun, 11 Aug 2019 12:39 PM IST
Vegetables Pakistan
Vegetables Pakistan - फोटो : Social media
ख़बर सुनें
इस बार पाकिस्तान में महंगाई बम के बीच लोग बकरीद का त्योहार मनाएंगे। पाकिस्तानी अवाम के लिए इस बार की बकरीद फीकी रहने की उम्मीद है, क्योंकि महंगे खाद्य पदार्थों से लोग रोजमर्रा की वस्तुएं भी नहीं खरीद पा रहे हैं। भारत से सभी तरह के व्यापारिक रिश्ते खत्म करने के पाकिस्तान सरकार के फैसले ने लोगों के लिए और ज्यादा मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। 

इनके दाम बढ़े

पाकिस्तान में ज्यादातर सब्जियों की आपूर्ति भारत से ही होती है। ऐसे में इमरान सरकार के व्यापार न करने के फैसले का असर दिखना शुरू हो गया है। देश की आर्थिक राजधानी कहे जाने वाले कराची शहर में ही प्याज, अदरक, लहुसन और टमाटर जैसी सब्जियों की कीमतों में सबसे ज्यादा तेजी देखने को मिल रही है। 
विज्ञापन
कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने से धड़ाम हुआ कराची शेयर बाजार

क्या घास खिलाने पर मजबूर करेगी सरकार

प्याज और टमाटर की कीमतों में बढ़ोतरी से लोगों का सरकार के प्रति गुस्सा देखने को मिल रहा है।  रसोई का बजट बिगड़ने से परेशान नजमा का कहना है, ‘बढ़ती महंगाई से रसोई में रोजमर्रा की जरूरतों का बजट बिगड़ गया है। कमाई तो बढ़ नहीं रही, लेकिन दूध, सब्जी से लेकर मीट तक सब कुछ महंगा होता जा रहा है। अब भारत से व्यापार बंद करने से चीजों के दाम और ज्यादा बढ़ेंगे। घर कैसे संभालें, समझ ही नहीं आ रहा।’

प्याज बेचने वाले इफ्तिकार का कहना है, ‘ईद में बाजार से रौनक गायब है। सब्जियों और प्याज के लिए भारत पर निर्भर हैं। मुझे यकीन है कि प्याज अब और महंगी होगी। इमरान खान हमें क्या खिलाना चाहते हैं? घास?’ पता नहीं सरकार ने आखिर यह फैसला क्यों लिया?’  

इन सब्जियों के बढ़े दाम

डॉन अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक कराची में अदरक और लहुसन क्रमशः 400 रुपये व 320 रुपये किलो की दर से बिक रहा है। वहीं तुरई 150 रुपये प्रति किलो, लौकी 120 रुपये प्रति किलो, बंदगोभी 80 रुपये प्रति किलो और शिमला मिर्च 120 रुपये प्रति किलो की दर से बिक रही है। इसके हरी मिर्च 100 रुपये रुपये किलो, चीन से आयात होने वाली अदरक थोक बाजार में 280 रुपये प्रति किलो, ईरान का लहुसन 240 रुपये किलो की दर से बेचा जा रहा है। 

दिन ब दिन गरीब होता जा रहा है पाकिस्तान, सरकार के खिलाफ लोगों में गुस्सा

ब्रेड भी महंगी

नाश्ते में लिया जाने वाला ब्रेड मक्खन भी महंगा हो गया है। अब छोटी ब्रेड का पैकेट 35 रुपये, मध्यम साइज की ब्रेड 56 रुपये और बड़ी ब्रेड का पैकेट 100 रुपये हो गया है। चार पीस वाला बन 55 रुपये और रस्क का पैकेट 80 रुपये का हो गया है। वहीं चीनी की कीमत 72 रुपये प्रति किलो हो गई है। 
 
वस्तु कीमत 
दूध  108 रुपये प्रति लीटर
दही    122 रुपये प्रति किलो 
मटन 1009 रुपये प्रति किलो
केले  130 रुपये दर्जन 
सरसों का तेल 246 रुपये प्रति लीटर 
प्याज       64.69 रुपये प्रति किलो
टमाटर 66.57 रुपये प्रति किलो 
चीनी 77.30 रुपये प्रति किलो
केरोसिन 151.25 रुपये प्रति लीटर 
एलपीजी सिलेंडर 1362.50 रुपये (11 लीटर)
पेट्रोल 113.18 रुपये प्रति लीटर 
डीजल 127.30 रुपये प्रति लीटर
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

Recommended

13 सितम्बर से शुरू इस पितृ पक्ष कराएं गया में श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति
Astrology Services

13 सितम्बर से शुरू इस पितृ पक्ष कराएं गया में श्राद्ध पूजा, मिलेगी पितृ दोषों से मुक्ति

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2019 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bazar

सऊदी कंपनी अरामको पर हमले से ऐसे प्रभावित होगा तेल बाजार, कीमतों में भी हो सकता है बदलाव

सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको के दो बड़े ठिकानों - अबकीक और खुरैस - पर शनिवार को ड्रोन हमले हुए थे जिसके कारण अस्थाई तौर पर इन दोनों जगहों पर तेल उत्पादन प्रभावित हुआ है।

15 सितंबर 2019

विज्ञापन

दक्षिणी राजस्थान में बाढ़ के से हालात, चित्तौड़गढ़ के एक स्कूल में फंसे 350 छात्र और 50 शिक्षक

राजस्थान में चित्तौड़गढ़ के एक स्कूल में 350 से अधिक छात्र और 50 शिक्षक बाढ़ में फंस गए हैं। राणा प्रताप बांध से छूटे पानी के कारण सड़कों ने नहरों का सा रुप ले लिया है।

15 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree