Hindi News ›   Business ›   Business Diary ›   Maha stares at Rs 30000 crore revenue loss if GST compensation not extended

समस्या: जीएसटी मुआवजा न बढ़ा तो महाराष्ट्र को होगा 30000 करोड़ का नुकसान, कई राज्यों ने भी की मांग

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: दीपक चतुर्वेदी Updated Thu, 28 Apr 2022 07:13 PM IST
सार

जीएसटी व्यवस्था एक जुलाई 2017 को लागू की गई थी और पांच साल की अवधि जून, 2022 में खत्म हो रही है। कई राज्यों ने मुआवजा व्यवस्था को जून, 2022 से आगे बढ़ाने की केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मांग की है।

जीएसटी
जीएसटी - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

महाराष्ट्र के वित्त विभाग के एक अधिकारी ने गुरुवार को कहा कि अगर केंद्र सरकार इस साल जुलाई से जीएसटी मुआवजे का विस्तार नहीं करती है, सबसे अधिक करों का भुगतान करने वाले महाराष्ट्र को सालाना 30,000 करोड़ रुपये का नुकसान होगा।



माल एवं सेवा कर (जीएसटी) अधिनियम के तहत इस कानून के कार्यान्वयन के पहले पांच वर्षों में राज्यों को राजस्व के किसी भी नुकसान की भरपाई के लिए द्विमासिक मुआवजे की गारंटी दी गई है। जीएसटी व्यवस्था एक जुलाई 2017 को लागू की गई थी और पांच साल की अवधि जून, 2022 में खत्म हो रही है। कई राज्यों ने मुआवजा व्यवस्था को जून, 2022 से आगे बढ़ाने की केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मांग की है। इसके बावजूद राज्यों को अब तक कोई आश्वासन नहीं मिला है।


अधिकारी ने कहा कि अगर केंद्र जीएसटी मुआवजा व्यवस्था को जून से आगे बढ़ाने से इनकार करता है, तो महाराष्ट्र को सालाना 30,000 करोड़ रुपये के राजस्व का नुकसान होगा। केंद्र ने 2020-21 में राज्य से 46,664 करोड़ रुपये एकत्र किए, लेकिन हमें इससे सिर्फ 521 करोड़ रुपये मिले। केंद्र जुलाई तक भुगतान करता है और भुगतान में देरी से प्रशासनिक जटिलताएं पैदा होती हैं। उन्होंने कहा कि राज्य को प्राकृतिक आपदा संबंधी चुनौतियों का सामना भी करना पड़ रहा है। बुधवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा था कि केंद्र पर राज्य का 26,500 करोड़ रुपये बकाया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और Budget 2022 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00