Hindi News ›   Business ›   Business Diary ›   governments big decision of custom duty abolished for 2 years on import of soybean and sunflower oil

Edible Oil: बढ़ती महंगाई के बीच खाद्य तेल की कीमतों आ सकती है गिरावट, सरकार के इस कदम से जागी उम्मीद

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: दीपक चतुर्वेदी Updated Wed, 25 May 2022 11:07 AM IST
सार

मंगलवार को सरकार ने 20 लाख मीट्रिक टन सोयाबीन तेल और सूरजमुखी तेल के आयात पर दो साल के लिए कस्टम ड्यूटी और एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस खत्म करने का फैसला किया है। जो कि फिलहाल तक पांच फीसदी की दर से लगता था। 

खाद्य तेल के दाम घटने की उम्मीद।
खाद्य तेल के दाम घटने की उम्मीद। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

देश में महंगाई की मार के बीच पेट्रोल और डीजल के साथ ही खाद्य तेल के दामों में भी जबरदस्त तेजी देखने को मिली है। लेकिन, अब आम जनता को ईंधन की कीमतों पर लगने वाले उत्पाद शुल्क में कटौती के बाद सरकार ने एक और कदम उठाया है, जिससे जनता को राहत मिलेगी। 



दो साल के लिए कस्टम ड्यूटी खत्म
खाने के तेल की कीमतों को लेकर मंगलवार को केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला किया। सरकार ने 20 लाख मीट्रिक टन सोयाबीन तेल और सूरजमुखी तेल के आयात पर दो साल के लिए कस्टम ड्यूटी और एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर एंड डेवलपमेंट सेस खत्म करने का फैसला किया है। जो कि फिलहाल तक पांच फीसदी की दर से लगता था। 


खुदरा कीमतों में आएगी कमी
सरकार के इस एलान से देश में खाने के तेल की कीमतें कम होने की उम्मीद है। इस संबंध में जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, तेलों के आायात पर दी गई छूट 31 मार्च 2024 तक लागू रहेगी। वित्त मंत्रालय की तरफ से मंगलवार को जारी अधिसूचना के अनुसार सालाना 20 लाख टन कच्चे सोयाबीन और सूरजमुखी तेल पर वित्त वर्ष 2022-23 और 2023-24 में आयात शुल्क नहीं लगाया जाएगा। 

महंगाई में खाद्य तेलों की प्रमुख हिस्सेदारी
देश में खुदरा महंगाई दर आठ साल के उच्च स्तर पर पहुंच चुकी है। बीते दिनों सरकार की ओर से जारी आंकड़ों को देखें तो खुदरा महंगाई का आंकड़ा 7.79 फीसदी पर पहुंच गया है। यहां बता दें कि महंगाई में खाद्य तेल की प्रमुख हिस्सेदारी होती है और बीते कुछ महीनों में खाद्य तेलों के खुदरा दाम में काफी बढ़ोतरी देखने को मिली है। सरकार के इस कदम पर केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने सोशल मीडिया के माध्यम से कहा है कि यह फैसला उपभोक्ताओं को राहत देने वाला है। 

इंडोनेशिया से आई खुशखबरी
इंडोनेशिया ने पाम ऑयल के निर्यात से बैन 23 मई को ही हटा दिया है। वहां से लगभग दो लाख टन कच्चा पाम ऑयल भारत के लिए भेजा गया है। ऐसे में भारत में पाम ऑयल की उपलब्धता बढ़ेगी, जिससे बाकी खाने के तेलों की कीमतें कम हो जाएंगी। बीते 28 अप्रैल को इंडोनेशिया ने पाम ऑयल निर्यात पर बैन लगाया था। इंडोनेशिया से भेजा गया शिपमेंट 15 जून तक उपलब्ध होने की संभावना है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और Budget 2022 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00