विज्ञापन

पेट्रोल-डीजलः जिस शख्स ने दिया था बाजार के हवाले करने का सुझाव, वो भी हुआ परेशान

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Mon, 10 Sep 2018 06:58 PM IST
fuel expert kirit parekh is also not happy with price rise of petrol diesel
विज्ञापन
ख़बर सुनें
देश भर में पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों से आम आदमी तो परेशान है ही, वहीं वो शख्स भी दुखी है, जिसने 8 साल पहले सरकार को इनकी कीमत बाजार के हवाले करने का सुझाव दिया था। सरकार द्वारा दिया जा रहा तर्क भी इस व्यक्ति की समझ में नहीं आ रहा है। 
विज्ञापन
सब्सिडी कम करने के लिए दिया था सुझाव

एनर्जी एक्सपर्ट डॉ. किरिट पारिख ने ही 2011 में केंद्र सरकार को पेट्रोल डीजल के दाम बाजार को हवाले करने का सुझाव दिया था। तब पारिख ने कहा था कि बाजार के हवाले करने से सरकार सब्सिडी का बोझ कम कर सकती है और इससे उसके चालू खाते के घाटे को भी कम करने में मदद मिलेगी। 

टैक्स में की 100 फीसदी बढ़ोतरी

16 जून 2017 से तेल कंपनियों ने केंद्र सरकार का आदेश मिलने के बाद पेट्रोल डीजल के दामों पर डायनेमिक प्राइसिंग की व्यवस्था शुरू की थी। उस समय सरकार की दलील थी कि इससे आम आदमी को ही फायदा मिलेगा। लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है। इसका सबसे ज्यादा फायदा तेल कंपनियों को मिल रहा है जिन्हें अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की घटती-बढ़ती कीमतों का बोझ अब किसी भी तरह अपनी जेब पर नहीं झेलना पड़ रहा है।

इसका सीधा असर आम जनता की जेब पर ही पड़ रहा है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में जब भी तेल की कीमतें बड़े अंतर से कम हुई हैं सरकार ने एक्साइज ड्यूटी बढ़ाकर अपनी जेब भरनी शुरू कर दी है, नतीजतन आम जनता को इसका खास फायदा नहीं मिल पाया।

तेल कंपनियों को मिला सुरक्षा कवच

पारिख के मुताबिक सरकार ने तेल कंपनियों को एक ऐसा सुरक्षा कवच मुहैया करा दिया है जिसमें उन्हें किसी भी सूरत में घाटा नहीं होगा। अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमत बढ़ें या घटें इसका असर आम आदमी की जेब पर ही देखने को मिल रहा है। तेल के इस खेल में कंपनियों की बल्ले-बल्ले है। समय-समय पर कंपनियांअपनी लागत मूल्य बढ़ा रही हैं तो भी इसका असर आम आदमी की जेब पर पड़ रहा है।

टैक्स में हो इतनी कटौती

पारिख ने कहा कि केंद्र को 2-3 फीसदी और राज्य सरकारों को 5 फीसदी तक टैक्स में कटौती करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि पेट्रोल-डीज़ल पर टैक्स वसूलना सबसे आसान होता है और हमारे देश में इसे सबसे ज्यादा वसूला जाता है। केंद्र और राज्य दोनों को अपना टैक्स कम करना चाहिए। 

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Business News in Hindi related to stock exchange, sensex news, finance, breaking news from share market news in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Business and more Hindi News.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Business Diary

हजार रुपये तक गिरे आलू के भाव, किसानों को हुआ करोड़ों का नुकसान

देश भर में आलू किसानों के बुरे दिन शुरू हो गए हैं। उत्तर प्रदेश और हिमाचल प्रदेश के किसानों ने जो आलू कोल्ड स्टोरेज में रखा है, उसकी कीमतें एक दम से धड़ाम हो गई हैं।

16 नवंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को किया बहस का चैलेंज, ये है वजह

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार केंद्र सरकार पर राफेल को लेकर हमला बोल रहे हैं। शनिवार को छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर में राहुल गांधी केंद्र सरकार पर जमकर बरसे और उन्होंने पीएम मोदी को राफेल पर बहस करने का चैलेंज किया। खुद सुनिए क्या बोले राहुल गांधी।

18 नवंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree