Hindi News ›   Business ›   Bazar ›   Coronavirus cases Financial Results Of Companies Will Determine Macroeconomic share Market

शेयर बाजार: कोरोना के मामले, कंपनियों के नतीजे, आर्थिक आंकड़ों से तय होगी बाजार की चाल

पीटीआई, नई दिल्ली Published by: ‌डिंपल अलावाधी Updated Sun, 09 May 2021 12:32 PM IST

सार

इस सप्ताह अवकाश के कारण बाजार में चार दिन ही कारोबार होगा। इसके अलावा वैश्विक प्रवृत्ति और रुपये में उतार-चढ़ाव का भी बाजार धारणा पर असर पड़ेगा। 
शेयर बाजार
शेयर बाजार - फोटो : PTI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति, कंपनियों के वित्तीय परिणाम और औद्योगिक उत्पादन समेत  आर्थिक आंकड़े इस सप्ताह बाजार की चाल तय करेंगे। इस सप्ताह अवकाश के कारण बाजार में चार दिन ही कारोबार होगा। इसके अलावा वैश्विक प्रवृत्ति और रुपये में उतार-चढ़ाव का भी बाजार धारणा पर असर पड़ेगा। घरेलू शेयर बाजार गुरुवार को ईद-उल-फित्र के मौके पर बंद रहेंगे।

विज्ञापन


जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि, 'इस सप्ताह बाजार की प्रवृत्ति कोविड संक्रमण के मामलों की संख्या, कंपनियों के तिमाही परिणाम, मार्च महीने के औद्योगिक उत्पादन तथा अप्रैल महीने के मुद्रास्फीति के आंकड़े से निर्धारित होगी।'


ये कंपनियां जारी करेंगी वित्तीय नतीजे
इस सप्ताह एशियन पेंट्स, जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड, ल्यूपिन, वेदांता, सिप्ला और डॉक्टर रेड्डीज लैबोरेटरीज के वित्तीय परिणामों पर निवेशकों की नजर होगी। पिछले सप्ताह, 30 शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स 424.11 अंक यानी 0.86 फीसदी मजबूत हुआ।

लंबी अवधि तक रहने वाला है जोखिम 
मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के प्रमुख (खुदरा शोध) सिद्धार्थ खेमका ने कहा, 'ऐसा लगता है निवेशकों ने अपने आकलन में कोविड मामलों को ध्यान में रखा है और फिलहाल वे इसके अल्पकालीन प्रभाव से अलग देख रहे हैं। हालांकि महामारी को लेकर जोखिम लंबी अवधि तक रहने वाला है और इसकी रोकथाम के लिए विभिन्न राज्यों में लॉकडाउन और अन्य पाबंदियां फिलहाल हटती नहीं दिख रही इससे बाजार में तेजी पर अंकुश लग रहा है।'

सीमित दायरे में रह सकता है बाजार 
उन्होंने कहा, 'अत: आने वाले समय में बाजार उतार-चढ़ाव के साथ सीमित दायरे में रह सकता है। आने वाले दिनों में कोविड-19 मामलों की संख्या और टीकाकरण की गति आर्थिक पुनरूद्धार की तेजी को तय करेंगी।' विश्लेषकों के अनुसार ब्रेंट क्रूड में उतार-चढ़ाव, रुपये की प्रवृत्ति और विदेशी संस्थागत निवेशकों के निवेश का प्रतिरूप भी बाजार धारणा को प्रभावित करेगा।

अप्रैल से शुद्ध बिकवाल बने हुए हैं निवेशक 
कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर और उसका अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव के बीच विदेशी निवेशक इस साल अप्रैल से इक्विटी बाजार में शुद्ध बिकवाल बने हुए हैं। डिपॉजिटरी के आंकड़ों के अनुसार एफपीआई (विदेशी संस्थागत निवेशक) ने अप्रैल में शुद्ध रूप से 9,659 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे जबकि मई के पहले सप्ताह में 5,936 करोड़ रुपये की बिकवाली की।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय Hindi News वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और Budget 2022 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00