विज्ञापन
विज्ञापन

आरबीआई को दूसरा झटका, उर्जित पटेल के बाद डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने दिया इस्तीफा

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Mon, 24 Jun 2019 11:04 AM IST
RBI Deputy Governor Viral Acharya resigned
- फोटो : ANI
ख़बर सुनें
सात महीने के अंदर दूसरी बार भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के किसी उच्च अधिकारी ने कार्यकाल पूरा होने से पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। इससे आरबीआई को झटका लगा है। दरअसल आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने अपने पद से इस्तीफा दिया है। इससे पहले दिसंबर 2018 में आरबीआई के पूर्व गवर्नर उर्जित पटेल ने भी अपने पद से इस्तीफा दिया था। खास बात ये है कि विरल आचार्य आरबीआई के उन बड़े अधिकारियों में शामिल थे, जिन्हें उर्जित पटेल की टीम का हिस्सा माना जाता था।
विज्ञापन

कार्यकाल के छह महीने पहले इस्तीफा

बता दें कि विरल आचार्य ने कार्यकाल पूरा होने के करीब छह महीने पहले ही अपने पद को छोड़ा है। विरल आचार्य को तीन साल के कार्यकाल के लिए 23 जनवरी 2017 को आरबीआई में शामिल किया गया था। 

उर्जित पटेल ने नौ महीने पहले ही दे दिया था इस्तीफा

दिसंबर 2018 में आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल ने सरकार के साथ मतभेदों के कारण कार्यकाल पूरा होने से नौ महीने पहले ही इस्तीफा दे दिया था। सितंबर 2016 में पटेल को गवर्नर के तौर पर पदोन्नत किये जाने के बाद 23 जनवरी 2018 को आचार्य रिजर्व बैंक से जुड़े। आरबीआई में अब तीन डिप्टी गवर्नर एन. एस. विश्वनाथन, बी. पी. कानूनगो और एम. के. जैन बचे हैं। आचार्य विरल की नियुक्ति तीन साल के लिए हुई थी।

आचार्य का अकादमिक नजरिया बाकियों से अलग

दरअसल फाइनेंशल सिस्टम्स पर आचार्य का अकादमिक नजरिया बाकियों से थोड़ा अलग रहा है। पिछले दो बार से आचार्य की मौद्रिक नीति समीक्षा के दौरान आर्थिक विकास और महंगाई, दोनों मुद्दों पर अलग राय रही है। हालिया मौद्रिक नीति की बैठक में आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास और डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य के बीच वित्तीय घाटे पर असहमति भी दिखी थी।

वरिष्ठतम डिप्टी गवर्नर का कार्यकाल बढ़ाने पर विचार

इसके साथ ही आपको बता दें कि, आरबीआई के वरिष्ठतम डिप्टी गवर्नर एन विश्वनाथन का कार्यकाल अगले महीने खत्म होने वाला है। लेकिन, विरल आचार्य के अचानक पद छोड़ने के कारण विश्वनाथन का कार्यकाल बढ़ाने पर विचार किया जा सकता है। 

आईआईटी मुंबई के छात्र हैं आचार्य 

आचार्य आईआईटी मुंबई के छात्र रहे हैं और उन्होंने 1995 में कंप्यूटर साइंस और इंजीनियरिंग में स्नातक की पढ़ाई की है। साल 2001 में उन्होंने वित्त में पीएचडी भी की है। वहीं 2001 से लेकर साल 2008 तक वे लंदन बिजनेस स्कूल में रहे हैं।

इस यूनिवर्सिटी में बतौर प्रोफेसर ज्वॉइन कर सकते हैं आचार्य 

ऐसी रिपोर्ट है कि विरल आचार्य अब न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के सेटर्न स्कूल ऑफ बिजनेस में बतौर प्रोफेसर ज्वॉइन करेंगे। 

 
विज्ञापन

Recommended

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन
Oppo Reno2

OPPO के Big Diwali Big Offers से होगी आपकी दिवाली खूबसूरत और रौशन

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि  व्  सर्वांगीण कल्याण  की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

कराएं दिवाली की रात लक्ष्मी कुबेर यज्ञ, होगी अपार धन, समृद्धि व् सर्वांगीण कल्याण की प्राप्ति : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2019 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Bazar

नौ लाख करोड़ के बाजार पूंजीकरण वाली देश की पहली कंपनी बनी रिलायंस

भारत की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज ( RIL ) नौ लाख करोड़ रुपये के बाजार पूंजीकरण वाली कंपनी बन गई है। यह भारत की पहली कंपनी है जिसका बाजार पूंजीकरण नौ लाख करोड़ रुपये हो गया है।

18 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

4-10 नवंबर तक बंद रहेगी मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी सर्विस, इसके बाद आसान हो जाएगी पोर्टेबिलिटी सर्विस

मोबाइल उपभोक्ता 4 से 10 नवंबर के बीच मोबाइल नंबर पोर्टिबिलिटी के लिए आवेदन नहीं कर सकेंगे। ट्राई के मुताबिक इसके बाद MNP के नियम आसान हो जाएंगे।

18 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree