विज्ञापन

कोरोना का असर : शहरों में पांच किमी पर एक शाखा, अन्य जगह एक दिन छोड़कर खुलेंगे बैंक

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 27 Mar 2020 06:47 AM IST
विज्ञापन
भारतीय रिजर्व बैंक
भारतीय रिजर्व बैंक - फोटो : पीटीआई
ख़बर सुनें

सार

आरबीआई सहित देश के अन्य बड़े बैंक लॉकडाउन के दौरान अधिकतर शाखाओं को बंद करने की योजना बना रहे हैं। उनका मकसद अपने हजारों कर्मचारियों और उनके परिजनों को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाना है। मामले से जुड़े चार सूत्रों ने बताया कि इस दौरान सरकारी योजनाओं का पैसा ग्रामीण जनता के हाथों तक पहुंचाया जाएगा।  

विस्तार

कोरोना से जंग के लिए सरकार ने देश की 130 करोड़ जनता को 21 दिन तक घरों में रहने का आदेश दिया है, जबकि बैंकों को जरूरी सेवा मानते हुए छूट दी गई है। हालांकि, बैंक अपने स्तर पर यह योजना बना रहे हैं कि बड़े शहरों में हर 5 किलोमीटर पर एक शाखा खोली जाएगी। ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाली देश की 70 फीसदी जनता पूरी तरह कैश पर निर्भर रहती है, वहां बैंक शाखाओं को एक दिन छोड़कर खोला जाएगा। 
विज्ञापन
इस दौरान पूरी कोशिश होगी कि जनकल्याणकारी योजनाओं का पैसा लोगों के हाथों में पहुंचे। एक सरकारी बैंक के अधिकारी ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र की जनता जो डिजिटल ट्रांजेक्शन से ज्यादा ताल्लुक नहीं रखती, उस तक हर हाल में नकदी पहुंचाई जाए।

डीबीटी योजना से नकदी की समस्या

बैंक इस बात को लेकर भी आपस में चर्चा कर रहे हैं कि बृहस्पतिवार को सरकार ने 17 खरब रुपये सीधे लोगों के खातों में भेजने का एलान किया है। उनकी निकासी बढ़ने से एटीएम और शाखाओं में नकदी की कमी आ सकती है। सूत्रों का कहना है कि कुछ बैंकों ने तो इस योजना को अमल में लाने के लिए कई क्षेत्रों में परीक्षण भी शुरू कर दिया है। हालांकि, अभी यह तय नहीं है कि इसे कब पूरी तरह लागू किया जाएगा।

दूसरे बैंक की शाखाओं पर भी सुविधा

एक सरकारी बैंक के अधिकारी ने बताया कि बैंक इस बात पर भी विचार कर रहे हैं कि कुछ सप्ताह के लिए इंटर-ऑपरेटर सर्विस शुरू की जाए। इसका मतलब है कि किसी भी बैंक का ग्राहक अन्य बैंक की शाखा में भी लेनदेन कर सकेगा। इसके अलावा बैंक शाखाओं और एटीएम पर लोगों की भीड़ जुटने से बचाने के लिए इंडियन बैंक एसोसिएशन (आईबीए) ने पिछले दिनों 255 बैंकिंग सदस्यों को गैर जरूरी सेवाएं अग्रिम आदेश तक बंद करने को कहा था। कई बैंकों ने पहले ही अपनी शाखाओं के खुलने की अवधि घटा दी है।

फिच ने कहा, भारतीय बैंकिंग सिस्टम पर भारी पड़ेगा कोरोना संकट

वैश्विक रेटिंग एजेंसी फिच ने बृहस्पतिवार को आशंका जताई कि कोरोना संकट का भारतीय बैंकिंग सिस्टम पर बहुत गंभीर असर होगा। एजेंसी ने बैंकों की रेटिंग भी बीबी(+) से बीबी कर दी है। उसका कहना है कि पहले से ही दबाव और उपभोक्ता भरोसे में कमी का सामना कर रहे बैंकिंग क्षेत्र के लिए चुनौतियां आसान नहीं होंगी। इसका कारण यह है कि बैंकों से 5.4 फीसदी कर्ज लेने वाले एमएसएमई और 2.2 फीसदी कर्ज लेने वाले ट्रैवल क्षेत्र पर कोरोना संकट सबसे ज्यादा असर हुआ है।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us