लगातार भूकंप से डरे 42 फीसदी लोग कराना चाहते हैं मकान का बीमा

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली। Updated Tue, 11 Aug 2020 01:14 AM IST
विज्ञापन
होम लोन
होम लोन - फोटो : iStock

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

सार

  • ई-इंश्योरेंस प्लेटफॉर्म पॉलिसीबाजार डॉटकॉम के सर्वे में खुलासा
  • 10 में से 5 लोगों ने जल्द बीमा कराने की बात कही

विस्तार

दिल्ली-एनसीआर सहित देश के कई हिस्सों में लगातार आ रहे भूकंप के झटकों से सहमे लोग मकानों का बीमा कराने की तैयारी में है। ई-इंश्योरेंस प्लेटफॉर्म पॉलिसीबाजार डॉटकॉम ने एक सर्वे में बताया कि दिल्ली-एनसीआर में अचानक मकान का बीमा कराने की मांग बढ़ गई है। 
विज्ञापन

पॉलिसीबाजार ने 17-21 जुलाई के बीच 11 हजार से अधिक बीमा खरीदारों पर सर्वे किया। इसका मकसद होम इंश्योरेंस के बारे मेें लोगों की धारणा और मकसद का पता लगाना था। सर्वे में शामिल दिल्ली के 10 में से 5 लोगों ने मकान का बीमा कराने की बात कही। इसका कारण पिछले दिनों लगातार भूकंप के झटके आना बताया।
विशेषज्ञोें का भी कहना है कि यह किसी बड़े भूकंप का संकेत हो सकता है। सर्वे में पता चला कि अनिश्चितता के इस दौर में देश और दिल्ली के 42 फीसदी लोग मकान का बीमा कराने पर विचार कर रहे हैं। सर्वे में शामिल अधिकतर लोगों के पास अभी मकान का बीमा नहीं है। 
एनसीआर में 35 फीसदी के पास मकान का बीमा
पॉलिसीबाजार.कॉम के मुताबिक, सर्वे में शामिल देशभर के करीब 20 फीसदी लोगों ने कहा कि उन्होंने पहले से मकान का बीमा कराया हुआ है जबकि एनसीआर में यह संख्या 35 फीसदी थी। देशभर में 73 फीसदी और एनसीआर में 57 फीसदी लोगों ने माना कि अभी तक उन्होंने मकान का बीमा कराने पर विचार नहीं किया था। राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मुताबिक, देश का 59 फीसदी हिस्सा ऐसा है, जहां कम और अधिक तीव्रता का भूकंप आ सकता है। 

10 फीसदी लोग तत्काल कराना चाहते हैं बीमा
सर्वे में शामिल 10 फीसदी लोगों ने कहा कि वे जल्द ही अपने मकान का बीमा कराने की योजना बना रहे हैं, जबकि 30 फीसदी ने कहा कि भविष्य मेें वे भी बीमा खरीद सकते हैं। पॉलिसीबाजार का कहना है कि बार-बार भूकंप आने से लोग होम इंश्योरेंस की अहमियत समझने लगे हैं।

स्वास्थ्य और जीवन बीमा की तरह अब मकान का बीमा कराना भी लोगों को जरूरी लगने लगा है। हालांकि, अधिकतर लोग इसे उतनी तवज्जो नहीं देते हैं। इसका कारण है कि देश में 25 फीसदी और दिल्ली-एनसीआर में 28 फीसदी लोगों का कहना था कि वे किराये के मकान में रहते हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us