विज्ञापन
विज्ञापन
विवाह में आ रही है दिक्कत,जन्म कुंडली से जानें निवारण का उपाय
JANAM KUNDALI

विवाह में आ रही है दिक्कत,जन्म कुंडली से जानें निवारण का उपाय

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

'हम तेजस्वी यादव बोल रहे हैं डीएम साहब' पहले पूछा कौन, फिर दिया यह जवाब और बजने लगीं तालियां

पटनाः जयप्रकाश नगर में नाबालिग लड़की की चाकू मारकर हत्या, जांच जारी

बिहार की राजधानी पटना में अपराध अपने चरम पर है। ताजा मामला जयप्रकाश नगर का है जहां एक नाबालिग लड़की की चाकू मारकर हत्या कर दी गई है। पुलिस के अनुसार गर्दन में चाकू लगने से पीड़ित की मौत हो गई। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। हम मामले की जांच कर रहे हैं।

बता दें कि इससे पहले भी अपराधियों ने 12 जनवरी को पटना के पुनाइचक में इंडिगो के स्टेशन हेड रूपेश कुमार सिंह की बेरहमी से हत्या कर दी थी। इस मामले में अपराधियों को पकड़ने में अभी तक पुलिस को सफलता हाथ नहीं लगी है। 

वहीं 20 जनवरी को एक और वारदात में अपराधियों ने पटना के नौबतपुर थाना इलाके में दिन दहाड़े वकील के मुंशी की हत्या कर दी थी। इस घटना के बाद इलाके में सनसनी फैल गई थी। जानकारी के अनुसार मुंशी दानापुर कोर्ट जा रहे थे, तभी नौबतपुर के नगवा मोड़ के पास अपराधियों ने मुंशी को घेरा और गोली मारकर उसकी हत्या कर दी।
... और पढ़ें

बिहार: 22 मंत्री हो सकते हैं मंत्रिमंडल में शामिल, भाजपा नेताओं ने दिल्ली में डाला डेरा

बिहार में एनडीए की सरकार में अब 22 मंत्री मंत्रिमंडल में शामिल हो सकते हैं। उसके लिए भाजपा के बड़े नेता अपने कोटे से संभावित मंत्रियों के नाम की सूची लेकर दिल्ली में डेरा जमाए हुए हैं।

भाजपा के मंत्रियों की सूची पर दिल्ली से मुहर लगने के बाद यह सूची जदयू को सौंप दी जाएगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पहले ही यह साफ कर दिया था कि मंत्रिमंडल का विस्तार भाजपा के कारण नहीं हो रहा है।

कुछ दिनों से यह चर्चा चल रही थी कि खरमास के बाद मंत्रिमंडल का विस्तार हो जाएगा अब खरमास भी खत्म हो गया है। फिलहाल बिहार में मुख्यमंत्री के अलावा 13 मंत्री मंत्रिमंडल में शामिल हैं।

गठबंधन में भाजपा बड़ी पार्टी है। विधायकों की संख्या के हिसाब से वह जदयू से ज्यादा मंत्री पद रखना चाह रही है। यह जदयू का फार्मूला था, जिस पर अब भाजपा का दावा है।

जानकारों का कहना है  कि जदयू के साथ संख्या को लेकर भी अभी स्थिति साफ नहीं है। ज्यादा से ज्यादा अभी 22 मंत्रियों को जगह मिल सकती है। नई सरकार के गठन के दो महीने से ज्यादा हो गए हैं, लेकिन मंत्रिमंडल विस्तार बार-बार टल रहा है।
... और पढ़ें

चिराग पासवान को झटका दे सकते हैं नीतीश कुमार, लोजपा के इकलौते विधायक से की मुलाकात

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान

नीतीश ने की आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव के जल्द स्वस्थ की कामना

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है। पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि महागठबंधन से अलग होने के बाद भी वह उनका हाल पूछते रहते थे। लेकिन उनके परिवार के लोग कई तरह के आरोप लगाने लगे।

जिसके बाद उन्होंने फोन करना बंद कर दिया है। अब उनकी तबीयत की जानकारी अखबार से मिल जाती है। हम तो चाहते हैं कि लालू प्रसाद को जो तकलीफ और परेशानी है उससे जल्द उनको छुटकारा मिल जाए। 

सात निश्चय-2 के लिए बजट में होगा प्रावधान 
बजट की चर्चा करते हुए  नीतीश ने कहा कि इस बार सात निश्चय 2 के लिए भी बजट में प्रावधान होगा। इसकी योजनाओं के प्रारूप लगभग तैयार हो चुके हैं ।2021 में ही कार्य शुरू हो जाएंगे।

उन्होंने कहा कि आम बजट विकास को आगे बढ़ाने वाला होगा। नीतीश ने कहा कि जो काम पूरे नहीं हुए हैं, उन्हें तो पूरा किया जाएगा, साथ ही कई और काम को शुरू किए जाएंगे। बजट राज्य के विकास को आगे ले जाने वाला होगा।
... और पढ़ें

बिहार में जननायक के बहाने हो रही सियासत

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर की जयंती मनाने के लिए बिहार की राजनीति में होड़ लगी है। कर्पूरी ठाकुर लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार के राजनीतिक गुरु थे।

इन दोनों नेताओं ने जनता पार्टी के दौर में कर्पूरी ठाकुर की उंगली पकड़कर सियासत के गुर सीखे। लालू यादव ने जब सत्ता की कमान संभाली तो कर्पूरी ठाकुर के कामों को ही कुछ दिनों तक आगे बढ़ाने का काम किया।

कर्पूरी ठाकुर के जीवन काल में उनका कोई परिजन या रिश्तेदार राजनीति में कोई पद नहीं पा सका। लेकिन कर्पूरी के चेले लालू के सभी लाल राजनीति में हैं। कर्पूरी जी देर शाम कभी किसी आईएएस अफसर को फोन नहीं करते थे। कहते थे कि शाम में वे लोग कुछ खाते-पीते हैं, अपनी दुनिया में रहते हैं। अब के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रात हो या दिन कभी भी नौकरशाह को फोन मिलाते हैं। फरमान जारी करते हैं।

17 फरवरी 1988 को अचानक तबीयत बिगड़ने के चलते कर्पूरी ठाकुर का निधन हो गया था, लेकिन उनका सामाजिक न्याय का नारा आज भी बिहार में बुलंद है। कर्पूरी जयंती के नाम पर बिहार के राजनेताओं ने एक दूसरे पर जमकर आरोप-प्रत्यारोप लगाए।

किसी ने कहा कि कुछ लोग वोट के लालच में कर्पूरी जयंती मना रहे हैं। कुछ लोग चेहरा चमकाने के लिए जयंती मना रहे हैं। समाजवादी आंदोलन के कर्पूरी ठाकुर को उनकी सादगी और ईमानदारी के लिए जाना जाता था, पर आज के समाजवादी नेताओं को किस लिए जाना जाता है यह जगजाहिर है।

दरअसल, कर्पूरी ठाकुर ने जिस तरह अपने समूचे राजनीतिक जीवन को संघर्ष का पर्याय बनाए रखा, हाशिये के समुदायों की भलाई के लिए खुद को दांव पर लगाया, अपमान सहे और अपने निजी व सार्वजनिक जीवन में कतई कोई फांक नहीं रहने दी। आज की राजनीति में उसकी मिसाल दुर्लभ है। 

कर्पूरी ठाकुर बिहार में दो बार मुख्यमंत्री , एक बार उपमुख्यमंत्री और दशकों तक विधायक और विरोधी दल के नेता रहे। 1952 की पहली विधानसभा में चुनाव जीतने के बाद वे बिहार विधानसभा का चुनाव कभी नहीं हारे। राजनीति का इतना लंबा सफर करने के बाद जब उनका देहांत हुआ तो अपने परिवार को विरासत में देने के लिए एक मकान तक उनके नाम नहीं था।
... और पढ़ें

लापता कृषि अधिकारी का शव मिला, योजनाबद्ध तरीके से की गई हत्या, भाजपा नेता ने जताई चिंता

कर्पूरी ठाकुर (फाइल फोटो)
बिहार में एक लापता कृषि अधिकारी मृत पाया गया। रविवार को पटना के साहेबनगर इलाके में लापता अधिकारी का शव मिला। पटना सिटी के एसपी जितेंद्र कुमार ने बताया कि 18 जनवरी को मुख्य आरोपी ने इस अधिकारी की बेलचा मारकर हत्या कर दी थी। उसके बाद शव को ठिकाने लगाने का प्रयास किया गया। घटना को लेकर भाजपा सांसद राम कृपाल यादव ने चिंता जताई है। 
 


सांसद रामकृपाल यादव ने कहा कि मेरे संसदीय क्षेत्र में एक कृषि अधिकारी की हत्या चिंताजनक घटना है। मैं दिवंगत अधिकारी के परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं। साथ ही मांग करता हूं कि आरोपियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाए। 
... और पढ़ें

बिहार में नहीं थम रहे हैं अपराध, सात दिनों से लापता प्रखंड कृषि अधिकारी का मिला शव

बिहार की राजधानी पटना में अपराध थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। आम लोगों की बात तो छोड़िए राज्य में सरकारी मुलाजिम तक भी सुरक्षित नहीं हैं। इसका ताजा उदाहरण है पटना जिले के मसौढ़ी के कृषि कार्यालय में पदस्थापित प्रखंड कृषि अधिकारी अजय कुमार की अपहरण के बाद हत्या।

कृषि अधिकारी का 18 जनवरी को उस समय अपहरण किया गया था जब वे पटना स्थित आवास से अपने कार्यालय जा रहे थे। पुलिस ने अधिकारी का शव बरामद कर लिया है। उनकी हत्या करके शव को नदी किनारे गड्ढा खोदकर दफन कर दिया गया था। अपहरण के अगले दिन उनकी पत्नी ने प्राथमिकी दर्ज कराई थी। 

जानकारी के अनुसार, 18 जनवरी को अजय अपने घर से ड्यूटी के लिए निकले थे। वे पटना से ट्रेन पकड़कर मसौढ़ी गए और मसौढ़ी कोर्ट हॉल्ट स्टेशन पर उतरे थे। उन्हें आखिरी बार एक खाद-बीज की दुकान पर बैठे हुए देखा गया था। इसके बाद से उनका कुछ पता नहीं चला। बाद में उनके अपहरण और हत्या की बात सामने आई। 

खाद-बीज दुकानदार ने किया था अपहरण
पुलिस को जांच के दौरान पता चला है कि इस मामले में खाद-बीज दुकानदार गोलू कुमार की संलिप्तता हो सकती है। घटना वाले दिन उसे दो बार मसौढ़ी प्रखंड कृषि कार्यालय के पास देखा गया था। पुलिस ने शक के आधार पर उसे गिरफ्तार किया। पहले तो वह घटना में अपना हाथ होने से मना करता रहा। हालांकि बाद में उसने अपराध कबूल कर लिया। 

अधिकारी का करीबी है हत्यारा
पटना के सिटी एसपी (पूर्वी) जितेंद्र कुमार ने बताया कि प्रथम दृष्टया हत्या के पीछे रुपयों के लेनदेन को लेकर हुए विवाद की बात सामने आ रही है। खाद दुकानदार कृषि अधिकारी का बेहद करीबी था। उसका अधिकारी के घर आना-जाना था। सूत्रों के अनुसार ऐसी संभावना है कि अधिकारी उसी के पास अपना रुपया रखा करता था। उसके जरिए कमीशन और रिश्वत का लेनदेन होता था। उसने इन्हीं रुपयों के लालच में अधिकारी की हत्या कर दी।
... और पढ़ें

बिहार में कोहरे का कहर तीन मरे, 8 लापता 8 घायल

बिहार में घने कोहरे का कहर सड़क पर ही नहीं गंगा नदी में भी पड़ा। सड़क दुर्घटना तो आए दिन कोहरे के कारण होता ही रहता है लेकिन बृहस्पतिवार की रात घने कोहरे के कारण छपरा जिले के गंगाजल घाट के नजदीक बालू लदी दो नाव आपस में टकरा गई । जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई।

वहीं पटना से पूर्णिया जा रही बस शुक्रवार की सुबह पलट गई इसमें आठ लोग गंभीर रूप से जख्मी हो गए। घटना  शुक्रवार की सुबह 4 बजे की है। घटनास्थल पर जुटे लोगों ने कड़ी मशक्कत के बाद बस में फंसे यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया।

नाव दुर्घटना में बताया जाता है कि आठ लोग लापता हैं। सभी बालू मजदूर सोनपुर के सबलपुर गांव के बताए जा रहे हैं। सोनपुर गंगाजल पंचायत के  ग्रामीणों के अनुसार  दुर्घटना में  8 लोगों के लापता होने की खबर  है। 
... और पढ़ें

लालू की बिगड़ी तबीयत पर बोले नीतीश- अब उनके स्वास्थ्य की जानकारी नहीं लेता, क्योंकि...

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के स्वास्थ्य को लेकर कहा कि अब हम उनके स्वास्थ्य की जानकारी नहीं लेते हैं, अखबार से ही सूचना मिल जाती है। नीतीश कुमार ने कहा कि हम चाहते हैं कि लालू यादव जल्द स्वस्थ हों।

पटना में रविवार को कर्पूरी ठाकुर की जयंती समारोह में भाग लेने के बाद जब पत्रकारों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से लालू प्रसाद की बिगड़ी तबीयत को लेकर सवाल पूछा, तो उन्होंने कहा कि मेरी शुभकामना है कि लालू जी जल्द स्वस्थ हो जाएं।

इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राजद नेता तेजस्वी यादव पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पहले तो हम फोन करके भी उनका हालचाल लेते थे, लेकिन उनका जो ख्याल रखता था, वह क्या क्या बोलने लगा था। नीतीश कुमार का इशारा तेजस्वी यादव की ओर था। नीतीश ने कहा कि तब से हमने भी सोच लिया कि अब हम जानकारी नहीं लेंगे, अखबार से ही जानकारी मिल जाती है। हम चाहते हैं कि लालू यादव जल्द स्वस्थ हों।

इससे पहले, नीतीश कुमार ने अपने विरोधियों पर निशाना साधते हुए कहा कि बहुत लोगों की आदत है बिना मतलब कुछ भी बोलने की, खासकर के मेरे खिलाफ। लेकिन मुझे इसके विषय में कुछ नहीं कहना है। शायद मुझ पर बोलने से भी उनकी पब्लिसिटी हो जाए, यही सोचकर कुछ लोग बोलते हैं। नीतीश कुमार ने कहा कि जब तक हम हैं लोगों की सेवा करते रहेंगे।








नीतीश कुमार ने कहा कि हमारा धर्म लोगों की सेवा करना है, विकास करना है, जो हम करते रहेंगे। बाकी लोग क्या बोल रहे हैं, उससे हमें कोई मतलब नहीं है। लेकिन लोगों को वस्तुस्थिति बताना चाहिए। पहले क्या था आज कैसा हाल है, ये किसी से छुपा हुआ है जब काम होगा तो लोगों को रोजगार भी मिलेगा इसका इंतजार कीजिए।
... और पढ़ें

व्यापमं घोटाला: असल के बदले परीक्षा देने वाले पटना के युवक को पांच साल की जेल

मध्य प्रदेश के  चर्चित व्यापमं घोटाले से जुड़े पीएमटी फर्जीवाड़े के मामले में इंदौर की विशेष अदालत ने 39 वर्षीय व्यक्ति को शुक्रवार को पांच साल के सश्रम कारावास की सजा सुनाई। 

व्यापमं घोटाले के मामलों के लिए गठित विशेष अदालत के न्यायाधीश यतीन्द्र कुमार गुरु ने मनीष कुमार सिन्हा (39) को मध्यप्रदेश मान्यता प्राप्त परीक्षा अधिनियम की सम्बद्ध धाराओं के साथ ही भारतीय दंड विधान की धारा 420 (धोखाधड़ी), 467 (दस्तावेजों की जालसाजी) और अन्य प्रावधानों के तहत दोषी करार दिया। मुजरिम, बिहार की राजधानी पटना से ताल्लुक रखता है।

त्रिवेदिया की जगह बैठा था
मामले की जांच करने वाली सीबीआई ने विशेष अदालत में सिन्हा पर आरोप साबित किया कि वह व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) द्वारा वर्ष 2004 में आयोजित प्री-मेडिकल टेस्ट (पीएमटी) के दौरान खंडवा स्थित परीक्षा केंद्र में संत कुमार त्रिवेदिया नाम के मूल उम्मीदवार के स्थान पर बैठा था। त्रिवेदिया, मध्यप्रदेश के ग्वालियर जिले का रहने वाला है। विशेष लोक अभियोजक रंजन शर्मा ने सीबीआई की ओर से पैरवी करते हुए सिन्हा पर जुर्म साबित करने के लिए अदालत में 21 गवाह पेश किए।

 फोटो मेल नहीं खा रहा था 
अभियोजन के मुताबिक फर्जीवाडे़ का खुलासा तब हुआ, जब परीक्षा केंद्र में एक पर्यवेक्षक ने पाया कि सिन्हा के पास मिले प्रवेश पत्र पर नाम तो त्रिवेदिया का ही लिखा हुआ है, लेकिन इस दस्तावेज पर चस्पा फोटो सिन्हा के चेहरे से मेल नहीं खा रहा है। अभियोजन के मुताबिक सिन्हा कथित रूप से धन के बदले मध्यप्रदेश के पीएमटी फर्जीवाड़े में शामिल हुआ था।

उच्चतम न्यायालय के वर्ष 2015 में दिए गए आदेश के तहत व्यापमं घोटाले से जुड़े मामलों की जांच सीबीआई कर रही है। व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) की आयोजित प्रवेश और भर्ती परीक्षाओं में बड़े पैमाने पर धांधली सामने आने के बाद मध्य प्रदेश सरकार ने इसका आधिकारिक नाम बदलकर "प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड" कर दिया है।
... और पढ़ें

गणतंत्र दिवस परेड में राफेल उड़ाएगी दरभंगा की बेटी भावना कंठ, दादी ने यूं दीं दुआएं

Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X