बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

कोरोना : मुजफ्फरपुर में महामारी ने पसारे पांव, व्यवस्थाओं के उखड़ने लगे पैर

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, पटना Published by: प्रशांत कुमार Updated Sun, 09 May 2021 07:22 PM IST

सार

बिहार में कोरोना संक्रमण कहर बनकर टूटा है। राज्य में हर रोज कोरोना नया रिकॉर्ड बना रहा है। महामारी इतनी तेजी से फैल रही है कि ग्रामीण क्षेत्र भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। हालांकि प्रशासन की ओर से संक्रमण की रोकथाम के लिए जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। 
 
विज्ञापन
कोरोना की दूसरी लहर से ग्रामीण क्षेत्रों में पसरा सन्नाटा
कोरोना की दूसरी लहर से ग्रामीण क्षेत्रों में पसरा सन्नाटा - फोटो : सोशल मीडिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विस्तार

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर बेकाबू होती जा रही है। महामारी का फैलाव शहरी क्षेत्रों तक ही नहीं, बल्कि ग्रामीणों इलाकों में भी तेजी से बढ़ रहा है। गांवों में संक्रमण  विस्फोट से लोग डरे और सहमे हैं। बिहार में कोरोना संक्रमण इन दिनों बड़ी तेजी से पांव पसार रहा है। बीते 24 घंटे में राज्य में कुल 13,466 नए मामले सामने आए हैं। जबकि 90 लोगों की मौत हो गई हैं।  
विज्ञापन


राज्य में कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या 1,15,066 हो गई है। राजधानी पटना में सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं, यहां पर 2,410 मामले सामने आए हैं। वहीं दूसरे स्थान पर मुजफ्फरपुर है। जिले में शुक्रवार को 630 नए संक्रमित केस सामने आए। 


मुजफ्फरपुर जिले में एक दिन में 630 नए मामले 
जिले के सबसे बड़े अस्पताल एसकेएमसीएच में 159 लोगों का इलाज जारी है। 7 मई को अस्पताल में 33 लोगों को भर्ती किया गया, इसमें से 8 लोगों की मौत हो गई। जिला स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक जिले में सरकारी और निजी अस्पतालों में 630 मरीजों को भर्ती किया गया है।  

मुजफ्फरपुर जिले के औराई प्रखंड के रतवारा पंचायत के पानापुर गांव के मास्टर जोगिंदर दास की कोरोना से मौत हो गई है, उनके परिजनों से जब बात की तो मालूम चला कि वह एक शादी समारोह में शामिल हुए थे। उसके दो दिन बाद उन्हें बुखार आने लगा। मेडिकल दुकान से दवा लेकर खाने लगे लेकिन सुधार नहीं हुआ। फिर उनके बेटे डॉक्टर के पास ले गए। डॉक्टर ने कोरोना जांच कराने को कहा, जिसमें वह पॉजिटिव निकले। उन्हें मुजफ्फरपुर अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन भर्ती के दो दिन बाद ही उनकी मौत हो गई। 

उसी गांव के पास में रामनगर में देवेंद्र राय मेडिकल स्टोर चलाते थे, उनकी दुकान पर लोग दवा लेने आते थे, लेकिन पिछले सप्ताह उन्हें तेज बुखार और बदन दर्द शुरू हुआ। परिवारवालों ने उन्हें एसकेएमसीएच अस्पताल में भर्ती कराया, जहां कोरोना जांच हुई उसमें संक्रमित निकले और इलाज के दो दिन बाद 4 मई को मेडिकल कॉलेज में दम तोड़ दिया। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us