विज्ञापन
विज्ञापन

नीति आयोग पर गडकरी का पलटवार, कहा- आयोग नहीं लगा सकता पेट्रोल, डीजल वाहनों पर बैन

ऑटो डेस्क, अमर उजाला Updated Sat, 24 Aug 2019 01:57 PM IST
गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी
गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
केंद्रीय सड़क, परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने एक बार फिर से ऑटो सेक्टर को बड़ी राहत दी है। मंदी की मार और डीजल इंजन बंद करने की खबरों से परेशान ऑटो सेक्टर को सांत्वना देते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार का पेट्रोल-डीजल से चलने वाली गाड़ियों को बंद करने का कोई इरादा नहीं है।

सरकार ने कोई प्रतिबंध नहीं लगाया

नितिन गडकरी ने शुक्रवार को थिंक टैंक नीति आयोग की सिफारिशों को दरकिनार करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने ऐसा कोई प्रतिबंध नहीं लगाया है और यह फैसला परिवहन मंत्री को लेना है, न कि नीति आयोग को। नीति आयोग ने प्रस्ताव दिया था कि तिपहिया वाहनों को 2023 और 150सीसी से कम क्षमता वाले दो पहिया वाहनों को 2025 तक सड़कों से हटा कर उनकी जगह इलेक्ट्रिक वाहन लाए जाएं।

नीति आयोग की आलोचना

नीति आयोग के इस कदम की ऑटोमोबाइल जगत में काफी आलोचना हुई थी। जिसका असर यह हुआ कि ऑटो इंडस्ट्री को 20 साल बाद जबरदस्त मंदी का सामना करना पड़ा। नितिन गडकरी ने कहा कि परिवहन मंत्री होने के नाते मैंने नीति आयोग के बहुत से प्रस्तावों को मंजूरी दी है, लेकिन इस मामले में मैं परिवहन मंत्री हूं और फैसला मुझे लेना है, न कि नीति आयोग को।

इलेक्ट्रिक वाहनों को लाने की कोई समयसीमा नहीं

नई दिल्ली में आयोजित माइंडमाइन समित में आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए गडकरी ने कहा कि मैंने हमेशा से कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों को लाने की कोई समयसीमा नहीं है और हम पेट्रोल और डीजल वाहनों के खिलाफ नहीं हैं। लेकिन अब हम इलेक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहित कर रहे हैं और पब्लिक ट्रांसपोर्ट में इलेक्ट्रिक परिवहन हमारी प्राथमिकता है। ऑटो इंडस्ट्री की अहमियत को देखते हुए हम पब्लिक ट्रांसपोर्ट में वैकल्पिक ईंधन और इलेक्ट्रिक को बढ़ावा देने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन पेट्रोल डीजल पर प्रतिबंध नहीं लगाने जा रहे हैं।   

वीके सारस्वत ने किया समर्थन

गडकरी की यह बयान नीति आयोग की योजना पर करारी चोट है। गडकरी के बयान का समर्थन करते हुए नीति आयोग के सदस्य वीके सारस्वत ने कहा कि देश के लिए इलेक्ट्रिक वाहनों पर निर्भरता सही नहीं है। उन्होंने कहा कि आज हर कोई बैटरी और इलेक्ट्रिक मोबिलिटी की बात कर रहा है। नीति आयोग ने भी कुछ लक्ष्य निर्धारित किए हैं, लेकिन उन्हें इस बात की खुशी है कि उनका फैसला परिवहन मंत्रालय करेगा, ना कि नीति आयोग। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि बीएस-6 मानक लागू होने से इससे सेक्टर में एनपीए भी बढ़ सकता है। इससे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने शुक्रवार को एलान किया था कि 2020 तक खरीदे गए बीएस-4 वाहन का रजिस्ट्रेशन पूरी अवधि तक जारी रहेगा।

कोई डेडलाइन तय नहीं

इससे पहले गडकरी ने कहा था कि मंत्रालय की तरफ से इलेक्ट्रिक वाहनों को लेकर ऐसी कोई डेडलाइन तय नहीं की गई है। नीति आयोग ने ड्राफ्ट गाइडलाइंस जारी करके इंटरनल कंबशन इंजन वाले वाहनों की जगह इलेक्ट्रिक वाहन उतारने के लिए समयसीमा तय की थी। गडकरी ने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों को उतारने को लेकर कोई समयसीमा निर्धारित नहीं की गई है। मंत्रालय के सूत्रों का कहना है कि डीजल से चलने वाले वाहनों को सड़क से हटाने को लेकर समयसीमा थोपने का कोई इरादा नहीं है।   

नीति आयोग ने ड्राफ्ट में तय की थी समयसीमा

इस साल जून में सरकार के थिंक टैंक नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत के अगवाई में बनी स्टीयरिंग कमेटी ने जारी रिपोर्ट में कहा था कि इलेक्ट्रिक वाहनों को सड़क पर उतारने के लिए चरणबद्ध तरीके से काम किया जाए, साथ ही इलेक्ट्रिक वाहनों की कीमतों को कम करने के लिए देश में ही फैक्टरियां लगा कर बैटरियों का निर्माण किया जाए।
विज्ञापन
विज्ञापन

Recommended

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय
Invertis university

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें ऑटोमोबाइल समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। ऑटोमोबाइल जगत की अन्य खबरें जैसे लेटेस्ट कार न्यूज़, लेटेस्ट बाइक न्यूज़, सभी कार रिव्यू और बाइक रिव्यू आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Auto News

महज 1100 रुपये देकर ले जाओ देश का सबसे ज्यादा बिकने वाला स्कूटर, साथ में 7000 का कैशबैक भी

जैसे-जैसे फेस्टिव सीजन नजदीक आता जा रहा है। वैसे-वैसे ऑटो कंपनियां नए-नए ऑफर्स और डिस्काउंट पेश कर रही हैं होंडा 2 व्हीलर्स ने भी इस बार अपने ग्राहकों के लिए कई अच्छे डिस्काउंट ऑफर पेश किये हैं

20 सितंबर 2019

विज्ञापन

जीएसटी की दरों में बड़ा बदलाव, जानें किस पर मिली राहत, किससे बढ़ेगा जेब पर बोझ

जीएसटी काउंसिल ने शुक्रवार शाम अर्थव्यवस्था की सुस्ती को दूर करने के लिए किये जा रहे उपायों की मांग के बीच कई वस्तुओं पर कर की दर में कटौती करने का एलान किया।

20 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree