विज्ञापन
विज्ञापन

बजट 2019: इलेक्ट्रिक वाहनों पर मिलेगी छूट, पूरे देश में बनेगा चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर

ऑटो डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 05 Jul 2019 12:22 PM IST
रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण
रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण - फोटो : PTI
ख़बर सुनें
मोदी सरकार आने वाले समय में इलेक्ट्रिक गाड़ियों की बैटरी चार्ज करने के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने पर काम करेगी। बजट 2019 में इसके लिए अतिरिक्त राशि का प्रावधान किया गया है। सरकार की कोशिश है कि इलेक्ट्रिक कारों को बढ़ावा देने के लिए की चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत किया जाए। शुक्रवार को संसद में बजट पेश करते हुए वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इलेक्ट्रिक गाड़ियों की बैटरी चार्जिंग के लिये इंफ्रास्ट्रक्चर बढ़ाने का एलान किया। इससे पहले गुरुवार को पेश आर्थिक समीक्षा रिपोर्ट में भी इलेक्ट्रिक वाहनों पर सब्सिडी देने की बजाय बैटरी को फास्ट चार्जिंग सर्विसेज उपलब्ध कराने की जरूरत पर जोर दिया था।

इलेक्ट्रिक वाहनों की हिस्सेदारी मात्र 0.06 प्रतिशत

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को संसद में पेश आर्थिक समीक्षा रिपोर्ट में कहा है कि देश में फिलहाल इलेक्ट्रिक वाहनों की हिस्सेदारी मात्र 0.06 प्रतिशत है, वहीं चीन में यह दो प्रतिशत और नार्वे में यह 39 प्रतिशत है। रिपोर्ट में उम्मीद जताई गई है कि आने वाले वक्त में भारत के शहर इलेक्ट्रिक वाहनों का डेट्रॉइट शहर बन सकते हैं। इलेक्ट्रिक वाहनों की लोकप्रियता में सबसे बड़ी बाधा चार्जिंग है और वाहनों को पूरी तरह चार्ज करने में बहुत समय लगता है। यहां तक कि फिलहाल मौजूद फास्ट चार्जर भी एक इलेक्ट्रिक कार को पूरी चरह से चार्ज करने में कम से कम डेढ़ घंटा, जबकि धीमे चार्जर से चार्ज करने में कम के कम 8 घंटे लग जाते हैं।

यूनिवर्सल चार्जर्स की जरूरत

रिपोर्ट के मुताबिक इस सबसे के अलावा देश में एक बड़ी समस्या यूनिवर्सल चार्जर्स की है। देश में यूनिवर्सल चार्जर्स स्टैंडर्ड्स नहीं हैं और ऐसा इंफ्रास्ट्रक्चर खड़ा करने से निवेश में बढ़ोतरी होगी। इलेक्ट्रिक वाहनों की धीमी हिस्सेदारी की एक वजह भारतीय सड़कों पर संसाधनों की कमी है।      

इंफ्रास्ट्रक्चर लगाने पर इंसेंटिव देने की योजना

हालांकि कुछ दिन पहले खबरें आई थीं कि सरकार इलेक्ट्रिक वाहनों के इंफ्रास्ट्रक्चर के विकास को लेकर इंसेंटिव देने की योजना पर काम कर रही है। एनटीपीसी को जल्द ही चार्जिंग स्टेशंस के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर बनाने का दिया जा सकता है। इसके अलावा रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इलेक्ट्रिक वाहनों का दिल उसकी बैटरी होती है, और भारत में अधिक तापमान परिस्थितियों में अच्छी तरह काम कर सकने वाली उचित बैटरी टेक्नोलॉजी को डेवलेप करने की जरूरत है।

CO2 में 846 मिलियन टन की कमी

आर्थिक सर्वे में नीति आयोग के रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा गया है कि अगर 2030 तक प्राइवेट कारों में इलेक्ट्रिक वाहनों की हिस्सेदारी 30 प्रतिशत, कमर्शियल कारों में 70 प्रतिशत, बसों में 40 प्रतिशत दो-पहिया और तिपहिया वाहनों में 80 प्रतिशत तक हिस्सेदारी पहुंच जाए तो कार्बन डाइआक्साइड उत्सर्जन में 846 मिलियन टन और 474 मिलियन एमटीओई (million tonne of oil equivalent) की तेल बचाया जा सकता है।

इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स की बिक्री बढ़ी

आर्थिक सर्वे में नीति आयोग का हवाला देते हुए कहा है कि भारत में इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स की बिक्री इजाफा हुआ है। 2018 में इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर्स की लगभग 54,800 यूनिट्स की बिक्री हुई।
विज्ञापन
 
विज्ञापन

Recommended

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?
Junglee Rummy

आखिर भारतीयों को क्यो पसंद है रमी खेलना?

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा और घर बैठें पाएं प्रसाद : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें ऑटोमोबाइल समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। ऑटोमोबाइल जगत की अन्य खबरें जैसे लेटेस्ट कार न्यूज़, लेटेस्ट बाइक न्यूज़, सभी कार रिव्यू और बाइक रिव्यू आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Auto News

Benelli Imperiale 400 भारत में हुई लॉन्च, रॉयल एनफील्ड और जावा से होगा मुकाबला

Benelli ने रेट्रो-स्टाइल वाली अपनी पहली बाइक Imperiale 400 को भारत में उतारा है। इसका सीधा मुकाबला Jawa और Royal Enfield Classic 350 से होगा।

23 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

Chandrayaan 2: खुल गया चांद पर दाग का राज, इसरो ने किया खुलासा

चांद पर दाग क्यों है ये राज चंद्रयान 2 ने खोल दिया है। चंद्रयान 2 के ऑर्बिटर ने जो तस्वीरें भेजी हैं उन तस्वीरों में चांद पर गड्ढे साफ दिखाई दे रहे हैं। इन्हीं की वजह से चांद पर दाग दिखाई देता है।

23 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree