शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

कोलंबिया के गांव में दबा है 680 टन सोना, गांववालों ने इस कारण खनन की नहीं दी मंजूरी

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 19 Apr 2019 01:27 PM IST
सोने की खदान (सांकेतिक तस्वीर)
यदि आपको पता चले कि आप जिस गांव में रहते हैं वहां सोने का भंडार छुपा हुआ है तो आप क्या करेंगे। शायद आप खुदाई करके उसे निकालेंगे। मगर कोलंबिया के एक छोटे से गांव काजामारका में रहने वाले लोगों ने ऐसा करने से मना कर दिया है। इस गांव के नीचे 680 टन सोने का भंडार है। जिसकी कीमत 2.43 लाख करोड़ रुपये है।
विज्ञापन
गांववालों ने खदान की खुदाई शुरू करने के लिए हुए जनमत संग्रह में एकजुट होकर इसका विरोध किया। उनका कहना है कि यदि पर्यावरण बचेगा तो हम बचेंगे। हम चाहते हैं कि हमारी आने वाली पीढ़ी को बेहतर सेहत और पर्यावरण मिले। 19 हजार की आबादी वाले गांव में से केवल 79 लोगों ने खुदाई के पक्ष में मतदान किया। 

कोलंबिया सरकार के अनुसार काजामारका गांव में दबा हुआ सोने का यह भंडार दक्षिण अमेरिका का अब तक का सबसे बड़ा भंडार है। सरकार ने खनन की जिम्मेदारी दक्षिण अफ्रीकी कंपनी एंग्लोगोल्ड अशांति को सौंपी थी। इस खदान को ला कोलोसा का नाम दिया गया है।

सरकार का मानना था कि यहां मार्क्सवादी विद्रोही खत्म हो गए हैं। इसलिए यहां आसानी से खनन किया जा सकता है। मगर जनमत संग्रह के नतीजों ने सरकार की उम्मीदें तोड़ दी हैं। कोलंबिया के खनन मंत्री जर्मन एर्स जनमत संग्रह के परिणाम से खुश नहीं हैं। उनका कहना है कि लोगों को इस मामले में गुमराह किया गया है।

भारत के पास रिजर्व में हैं 608 टन सोना

हमेशा से सोना मुश्किल समय में काम आता रहा है। कई देश सोने को रिजर्व में रखते हैं। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल की रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका के पास सोने का सबसे ज्यादा भंडार है। इसके बाद जर्मनी, इटली, फ्रांस और चीन का नंबर आता है। इस सूची में भारत का स्थान दसवें स्थान पर है। हमारे पास रिजर्व में 608 टन सोना है।

विज्ञापन

Recommended

columbia gold mine environment referendum कोलंबिया सोना खदान

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।