विज्ञापन

दिल के सवाल

उस्मान ग़नी

Mere Alfaz
                                    
                     
                                                  ये जो तुम्हारी आवाज़ है
इसमें शहद घोलती हो क्या तुम

जब तुम हँसती हो ना
तो एक सवाल उठता है
कि परिंदों को चहकने का
क्लास देती हो क्या तुम

मेरी बचकानी इश्क़ की बातों पे
जब तुम 'हाव' कहती हो
तो उसके बाद मेरी ही तरह
आह भरती हो क्या तुम

तुमसे बात कोई करता हूँ
तो 'हम्म-हम्म' कहती हो
जी करता है बीच में कह दूँ
मुझसे प्यार करती हो क्या तुम

अच्छा एक आख़िरी सवाल
मेरा नहीं......मेरे दिल का है
क्या मेरी ही तरह किसी और से भी
ऐसे बात करती हो क्या तुम
 
- हम उम्मीद करते हैं कि यह पाठक की स्वरचित रचना है। अपनी रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें।
1 month ago
विज्ञापन

विशेष

आज के शीर्ष कवि Show all

Dr fouzia

1131 कविताएं

View Profile

Babulal Meena

1 कविता

View Profile

Shreedhar Editors,

236 कविताएं

View Profile

Ajay Vishwakarma

2 कविताएं

View Profile

Nathuram Kaswan

2189 कविताएं

View Profile

Ankit Kumar

475 कविताएं

View Profile

Arvind Sharma

253 कविताएं

View Profile

Raziq Ansari

32 कविताएं

View Profile

Shalu Maurya

8 कविताएं

View Profile