शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

क्रय विक्रय सहकारी समिति मंगलौर के चुनाव पर रोक से राजनीतिक भूचाल

Dehradun Bureau Updated Thu, 13 Sep 2018 12:25 AM IST
ब्यूरो/अमर उजाला, रुड़की
विज्ञापन
क्रय विक्रय समिति मंगलौर के चुनाव पर हाईकोर्ट के आदेश के बाद जिला सहकारिता चुनाव में भूचाल आ गया है। हाईकोर्ट ने 18 अगस्त को हुए परिसीमन को वैध मानते हुए चुनाव कार्यक्रम निर्धारित करने को कहा है। साथ ही हाल ही में नियुक्त जिला सहायक निबंधक को चुनाव होने तक स्थानांतरित करने और उनकी जगह पूर्व में नियुक्त जिला सहायक निबंधक को वापस तैनात करने के आदेश दिए हैं। इसके बाद जिला सहकारिता चुनाव में भाजपा, बसपा और कांग्रेस के दिग्गजों के बीच नए सिरे से राजनीतिक जंग छिड़ गई है।
सहकारी निर्वाचन प्राधिकरण उत्तराखंड की ओर से मंगलौर क्रय विक्रय सहकारी समिति समेत प्रदेश की सभी क्रय विक्रय समितियों के लिए विगत 20 अगस्त को चुनाव कार्यक्रम जारी किया गया था। साथ ही मंगलौर क्रय विक्रय समिति का परिसीमन 18 अगस्त को जारी हुए आदेशों के अनुसार यथावत रखने के भी आदेश दिए थे। जिला सहकारी बैंक के पूर्व निदेशक एवं भाजपा प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य सुशील त्यागी ने बताया कि प्राधिकरण की ओर से 18 अगस्त को प्रकाशित परिसीमन के तहत ही चुनाव कराए जाने के आदेश दिए गए थे। चुनाव कार्यक्रम के अनुसार छह सितंबर को अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन किया गया था, जबकि सात को आपत्तियां मांगने के बाद शाम को आपत्तियों का निस्तारण कर दिया गया। आठ सितंबर को नामांकन पत्रों की बिक्री की जा रही थी।
इस दौरान पता चला कि हाल ही में स्थानांतरित होकर आए जिला सहायक निबंधक मान सिंह सैनी ने परिसीमन में बदलाव कर दिया है। इस पर विरोध जताया गया। उन्होंने बताया कि लहबोली समिति के प्रतिनिधि विजय प्रताप सिंह निवासी शेरपुर खेलमऊ की ओर से परिसीमन बदले जाने की बाबत हाईकोर्ट में आपत्ति दर्ज कराई गई थी। इसके बाद हाईकोर्ट ने 11 सितंबर को सुनवाई करते हुए 18 अगस्त को जारी परिसीमन के आदेश को वैध माना और सरकार से मामले में जवाब दाखिल करने के साथ ही दोबारा चुनाव कार्यक्रम निर्धारित करने के आदेश दिए। साथ ही जिला सहायक निबंधक मान सिंह का चुनाव होने तक स्थानांतरण पिथौरागढ़ करने और हरिद्वार में पूर्व में नियुक्त जिला सहायक निबंधक मनोज कुमार पुनेठा को वापस ज्वाइन करने के आदेश दिए। बताया गया है कि सरकार की ओर से जल्द ही नया चुनावी कार्यक्रम जारी किया जाएगा। इस पूरे घटनाक्रम के बाद एक बार फिर जिला सहकारिता की राजनीति उफान पर आ गई है।
--
भाजपा, बसपा और कांग्रेस के बीच छिड़ी जंग
रुड़की। मंगलौर क्रय विक्रय समिति का चुनाव भाजपा, बसपा और कांग्रेस के बीच साख का विषय बन गया है। सूत्रों के अनुसार, बसपा और कांग्रेस नेताओं ने चुनाव से ठीक पहले हरिद्वार में तैनात जिला सहायक निबंधक का स्थानांतरण कराने में एड़ी चोटी के जोर लगाए थे और इसमें कामयाबी भी पाई, लेकिन बसपा और कांग्रेस नेता 18 अगस्त को जारी परिसीमन को बदलवाने में कामयाब हो पाते, तो इससे पहले ही हाईकोर्ट की ओर से पूर्व में निर्धारित परिसीमन को ही सही करार देने से राजनीतिक समीकरण बदल गए। बताया जा रहा है कि लहबोली समिति के प्रतिनिधि विजय प्रताप सिंह की ओर से भले ही कोर्ट में बदले गए परिसीमन को चुनौती दी गई हो, लेकिन उनके पीछे जिला सहकारी बैंक के पूर्व निदेशक की बड़ी भूमिका थी। वहीं, चुनाव में भाजपा को पटखनी देने की जुगत भिड़ा रहे बसपा के सुरेंद्र पनियाला और कांग्रेस के सुशील राठी समेत इसी गुट के माने जा रहे दुग्ध संघ के पूर्व चेयरमैन प्रदीप चौधरी को झटका लगा है।

Spotlight

Most Read

Related Videos

विज्ञापन
Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।