सातवें वेतन आयोग की विसंगतियों पर भड़के ऊर्जा निगम के इंजीनियर

Home›   City & states›   सातवें वेतन आयोग की विसंगतियों पर भड़के ऊर्जा निगम के इंजीनियर

Dehradun Bureau

कोटद्वार। उत्तराखंड पावर जूनियर इंजीनियर एसोसिएशन की खंड इकाई की बैठक में सातवें वेतनमान की विसंगतियों को दूर करने की मांग की गई। संगठन ने ईपीएफ व्यवस्था को जीपीएफ में बदलने में रही देरी पर नाराजगी जताई। संगठन की ओर से सरकार और विभागीय उच्चाधिकारियों को समस्याओं का निस्तारण न होने पर आंदोलन की चेतावनी गई गई।बैठक की अध्यक्षता करते हुए राकेश कुमार ने कहा कि कई बार की मांग और ज्ञापन दिए जाने के बाद भी ऊर्जा निगम के जूनियर इंजीनियरों की अनदेखी की जा रही है। कहा कि छठे वेतन आयोग की विसंगतियों को सातवें वेतन आयोग में समाप्त किया जाना चाहिए था लेकिन विसंगति बनी हुई है। वक्ताओं ने अवर अभियंता पद से सहायक अभियंता पद पर विभागीय प्रोन्नति का कोटा 48.33 प्रतिशत से बढ़ाकर 58.33 फीसदी करने की मांग की। बैठक में प्रशांत जुयाल, कमल सिंह, रवि अरोड़ा, कमल सिंह रावत, जगवीर सिंह चौहान, नवीन मैंदोला, जितेंद्र बिष्ट और अनुराग नेगी मौजूद थे।
Share this article
Tags: ,

Most Popular

WhatsApp के 7 ट्रिक नहीं जानते हैं तो व्हाट्सऐप चलाना बेकार है

Bigg Boss 11: अर्शी ने खोला शिल्पा का अब तक का सबसे बड़ा राज, भड़क उठीं हिना

संसद परिसर में हुआ कुछ ऐसा कि आडवाणी के लिए भीड़ से बाहर आए राहुल और पकड़ लिया उनका हाथ

विराट-अनुष्का की शादी में एक मेहमान का खर्च था 1 करोड़, पूरी शादी का खर्च सुन दिमाग हिल जाएगा

हाईवे पर जा रहे थे दो ट्रक, अचानक पुल टूटकर गंगा में गिरा, हादसे की तस्वीरें रोंगटे खड़े कर देंगी

कंडोम कंपनी ने विराट-अनुष्का के लिए भेजा खास मैसेज, जानकर शर्मा जाएंगे नए नवेले दूल्हा-दुल्हन