शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

गंगा की रफ्तार थमी, कटान जारी

Varanasi Bureau Updated Thu, 13 Sep 2018 01:09 AM IST
सीतामढ़ी। उफनाई गंगा की तेज धाराओं ने कोनिया क्षेत्र के छेछुआ और भुर्रा गांवों के किसानों की कमर तोड़ना शुरू कर दिया है। बुधवार को सुबह गंगा का जल स्तर 77.790 मीटर दर्ज किया गया। राहत की बात यह है कि जलस्तर इसके बाद आगे नहीं बढ़ा। यहीं ठहर गया। लेकिन कटान जारी रही। इससे किसानों की नींद उड़ी रही। कोनिया इलाके में कटान से किसानों की खेती की जमीन को भारी क्षति हुई है। बाढ़ के पानी की तेज धाराएं किसानों के खेतों को तेजी से रेत रहीं हैं। खास बात यह है कि कोनिया क्षेत्र के सभी गांवों का गंगा से खास नाता है। क्षेत्र के सभी गांव गंगा के तट से संबंध रखते हैं। भदोही जनपद में गंगा का प्रवेश कोनिया क्षेत्र के करवंधिया गांव से होता है। उसके बाद अरई, खेमापुर, महादेवा, दुगुना, परसनी, भटगवां, कूड़ी कला, कूड़ी खुर्द, शांतिपुर, बहपुरा, शेरपुर, लखनपुर भदरांव, भभौरी, धनतुलसी, कलातुलसी, हरिरामपुर, गजाधरपुर, भुर्रा, छेछुआ, कलिक मवैया, बसगोती मवैया, मवैयाथान सिंह, इटहरा, सोनपुर, तलवा, डीघ, बनकट, नारेपार, बारीपुर, फुलवरिया, कलिंजरा, गोपालापुर, बेरवां पहाड़पुर, ओझापुर, नगरदह, सेमराध आदि गंगा तटीय गांवों को आबाद करते हुए गंगा बनारस की तरफ निकलती है। ये गांव किसी न किसी रूप से बाढ़ से प्रभावित होते हैं। लेकिन, क्षेत्र का छेछुआ और भुर्रा गांव गंगा कटान की भीषण चपेट में हैं। दोनों गांवों के किसानों की एक हजार बीघे से अधिक खेती की जमीन गंगा में समा चुकी है। बारिस के सीजन में जब गंगा का जल स्तर बढ़ता है और बाढ़ की स्थिति आती है तो तीन ओर से गंगा से घिरे कोनिया में समस्याएं बढ़ने लगती हैं। हालांकि अगर 1978 के भीषण बाढ़ को छोड़ दें तो उसके बाद कभी भी ऐसी समस्याएं नहीं देखी गई, जिससे जन धन को कोई अधिक नुकसान पहुंचा हो। वर्तमान में गंगा कटान तेजी से हो रहा है। बुधवार शाम को जल स्तर 77.790 मीटर दर्ज किया गया। बाढ़ का पानी उड़िया बाबा आश्रम के पास हिलोरें मार रहा है।
विज्ञापन

Recommended

Spotlight

Most Popular

Related Videos

Related

विज्ञापन
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।