शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

काली घटाएं छाने से पारा दस डिग्री लुढ़का

लखनऊ ब्यूरो Updated Thu, 20 Jun 2019 12:09 AM IST
भीषण गर्मी से बेहाल आम जनमानस को मौसम के बदले मिजाज ने काफी राहत पहुंचाई। बुधवार को दिन भर काली घटाएं छाई रहीं। मंद-मंद बहने वाली हवा के बीच कई बार बूंदाबांदी भी हुई। इससे मौसम खुशगवार हो गया। हालांकि अच्छी बारिश न होने से लोगों को मायूस होना पड़ा।
विज्ञापन
बदली छाने व हवा चलने से अधिकतम तापमान में दस डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। बुधवार को अधिकतम तापमान 28 डिग्री रहा। मौसम की नरमी का असर बाजारों में भी नजर आया।
मंगलवार शाम से मौसम ने करवट ली और काले बादलों ने डेरा जमा लिया।

रात भर बादल छाए रहे और हवा चलती रही। बुधवार सुबह से ही मौसम नरम रहा। बादलों की आवाजाही के बीच 10 किमी. प्रति घंटे की गति से हवा चलती रही। सुबह व दोपहर बूंदाबांदी भी हुई। इससे मौसम सुहाना हो गया तो भीषण गर्मी से जूझ रहे लोगों को भारी राहत मिली।

हालांकि बीच-बीच में धूप भी निकली लेकिन बादलों के कारण उसकी तल्खी नदारद रही। इससे मंगलवार के मुकाबले अधिकतम तापमान में दस डिग्री की गिरावट आई। मौसम में नरमी तथा हवा में 80 प्रतिशत नमी से लोगों को राहत जरूर मिली लेकिन अच्छी बारिश न होने से मायूस भी होना पड़ा।

मौसम विशेषज्ञों के अनुसार बुधवार को अधिकतम तापमान 28 डिग्री और न्यूनतम तापमान 22 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया। गुरुवार को बादल छाए रहने के साथ हल्की बौछारें पड़ सकती हैं।

शहर के पार्क भीषण गर्मी के कारण दिन में सूने रहते थे। देर शाम कुछ लोग सैर-सपाटे और स्वच्छ हवा के लिए जरूर पहुंचते थे। बुधवार को मौसम के करवट लेने पर शहर के पार्कों में रौनक नजर आई।

शहर के सरोजनी वाटिका, महावीर उद्यान, विजयलक्ष्मी नगर इत्यादि पार्कों में बच्चों ने खूब मस्ती की। बच्चों के साथ अभिभावक भी पहुंचे थे। लिहाजा, पार्कों में चहल-पहल रही।

जिले में बुधवार को दिन भर बादल छाए रहने और बूंदाबांदी ने बारिश की उम्मीद जगाई लेकिन पूरा दिन बादल छाए रहने के बाद भी बारिश न होने से किसानों को मायूस होना पड़ा। दरअसल, इन दिनों धान की पौध के अलावा गन्ना, मेंथा व सब्जियों की सिंचाई के लिए पानी की जरूरत है।

बारिश होने पर किसान धान की नर्सरी डालना शुरू कर देंगे। बारिश न होने पर किसान मायूस जरूर हुए लेकिन आसमान में बादलों के डेरा जमाए रहने से इनकी उम्मीद अभी कायम है।
विज्ञापन

Recommended

Spotlight

विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।