पिस्टल लूट में भाजपा नेता के बेटे समेत 10 पर मुकदमा दर्ज

Home›   Crime›   10 cases including the son of BJP leader in pistol robbery

अमर उजाला ब्यूरो/ मेरठ

10 cases including the son of BJP leader in pistol robberyPC: अमर उजाला

शास्त्रीनगर में शनिवार रात अधिवक्ता और उनके चालक को पीटकर लाइसेंसी पिस्टल लूटने के मामले में भाजपा नेता के बेटे समेत दस युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है।  शास्त्रीनगर एल ब्लॉक निवासी पीड़ित अधिवक्ता संजय अग्रवाल ने एसओ मेडिकल के सामने आरोप लगाया कि भाजपा नेता के बेटे अनुज भड़ाना निवासी काजीपुर ने भाजपा के एक विधायक का नाम लेकर धमकी दी कि जब तक हमारी सरकार है, पुलिस कुछ नहीं बिगाड़ सकती। एसओ मेडिकल ने बताया कि तहरीर के आधार पर काजीपुर निवासी अनुज भड़ाना पुत्र सुरेंद्र भड़ाना, आकाश, दीपक और सात अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है। अनुज भाजपा नेता का बेटा है जिसके पिता पूर्व पार्षद भी हैं। पुलिस ने तीन आरोपियों को हिरासत में ले लिया है। विधायक के नाम पर समझौते के लिए दबाव रविवार को थाने में दिन भर ड्रामा चला। आरोपी पक्ष के लोग एक विधायक का नाम लेकर पुलिस पर समझौते का दबाव बनवाते रहे। आरोपी पक्ष के लोगों ने कई बार मेडिकल थाने में कहा कि यहां भाजपा विधायक का राज चलेगा। यदि पुलिस ने समझौता नहीं कराया तो दरोगा और एसओ को भारी पड़ सकता है। मारपीट का अड्डा बना शास्त्रीनगर शास्त्रीनगर मारपीट का अड्डा बन चुका है। एक भाजपा विधायक का नाम लेकर शनिवार रात को जमकर उत्पात मचाया और पुलिस मामले को दबाने में लगी रही। यदि मामला अधिवक्ता का नहीं होता तो पुलिस मामला भी दर्ज नहीं करती। एक माह पहले भी तेजगढ़ी पर विधायक का नाम लेकर कुछ युवकों ने मारपीट की थी।
Share this article
Tags: meerut news ,

Most Popular

एक्स ब्वॉयफ्रेंड ने देखी अनुष्‍का की हनीमून फोटो, फिर तुरंत दिया कुछ ऐसा रिएक्‍शन

अनुष्‍का-विराट की हनीमून फोटो पर 1 घंटे में 9 लाख से ज्यादा लाइक, तेजी से हो रही वायरल

युवी के बाद जडेजा ने भी लगाए एक ही ओवर में 6 छक्के, T20 में ठोके 159 रन

Bigg Boss 11: सबसे कमजोर कंटेस्टेंट को 'मोहब्बत' करेगी सेफ और 2 वजहें भी जान लीजिए

क्या आप जानते हैं क‌ितने पढ़े-ल‌िखे हैं कांग्रेस के 49वें अध्यक्ष राहुल गांधी, नाम भी बदलना पड़ा

सनी लियोनी यहां आई तो हम सुसाइड कर लेंगे, धमकी पर डरी सरकार ने लिया बड़ा फैसला