पिता की पिटाई कर पुत्र को गोली से उड़ाया..

Home›   Crime›   The father beat him and shot him to death.

अमर उजाला ब्यूरो  लखीमपुर खीरी। 

The father beat him and shot him to death.PC: अमर उजाला

मैगलगंज खीरी। क्षेत्र के गांव साहूपुर में दो बीघा जमीन की खातिर तीन भाइयों ने जहां अपने चाचा की जमकर पिटाई कर उन्हें गंभीर रूप से घायल कर दिया, वहीं उनके पुत्र को तमंचे से गोली मार दी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल को सीएचसी मितौली में भर्ती कराया है। पुलिस ने घायल पिता की ओर से तीन सगे भाइयों समेत सात लोगों के खिलाफ हत्या और हत्या के प्रयास समेत कई धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर ली है। ग्राम सभा साहूपुर के मजरा अनिरुद्धपुर निवासी सुखविंदर सिंह ने बताया कि उसका बड़े भाई महल सिंह से करीब दो बीघा जमीन को लेकर विवाद चल रहा है। शुक्रवार सुबह करीब नौ बजे वह अपने पुत्र धर्मेंद्र सिंह के साथ खेत पर गया। धर्मेंद्र ट्रैक्टर से जमीन जोतने लगा, जिसका भाई महल सिंह के बेटे अंग्रेज सिंह ने विरोध किया और जमीन की जुताई करने से मना किया तो दोनों के बीच विवाद हो गया, जिस पर मारपीट होने लगी। इसी बीच महल सिंह के परिवार के अन्य सदस्य मौके पर आ गए। आरोप है कि अंग्रेज सिंह ने अपने अन्य भाइयों और साथियों की मदद से उसके पुत्र धर्मेंद्र सिंह के सीने पर तमंचा रख दिया और गोली मार दी, जिससे धर्मेंद्र सिंह की मौके पर ही मौत हो गई। हमलावरों ने सुखविंदर सिंह को भी लाठी-डंडों और धारदार हथियार से ताबड़तोड़ प्रहार कर घायल कर दिया। घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी शस्त्र लहराते हुए मौके से भाग निकले। सूचना पर इंस्पेक्टर घनश्याम राम मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने मौके से एक कारतूस का खोखा बरामद किया है। पुलिस ने घायल सुखविंदर सिंह को सीएचसी मितौली में भर्ती कराया है। इंस्पेक्टर घनश्याम राम ने बताया कि घायल पिता सुखविंदर सिंह की ओर से तीन सगे भाइयों अंग्रेज सिंह, प्रगत सिंह, गुरमीत सिंह पुत्र महल सिंह, जसपाल सिंह, जितेंद्र सिंह, गुरुप्रीत सिंह और हरविंदर सिंह के खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास समेत कई धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कर शव का पोस्टमार्टम करा दिया गया है। दो बीघा जमीन के टुकडे़ ने दोनों भाइयों के बीच बढ़ा दी दूरी कभी एक पास झाला बनाकर प्रेम से रहते थे दोनों भाई मैगलगंज खीरी। कभी सुखविंदर सिंह और उसके भाई महल सिंह में इतना प्रेम था कि दोनों एक पास झाला बनाकर रहते थे, लेकिन दो बीघा जमीन ने प्रेम की डोर को दुश्मनी में बदल दिया। नतीजतन चचेरे भाइयों ने धर्मेंद्र सिंह की जान ले ली। सुखविंदर सिंह और महल सिंह दोनों सगे भाई हैं। कई साल पहले आपस में मिलकर इन लोगों ने एक पास झाला बनाया था। दोनों भाई हंसी खुशी रहते थे। दोनों के बीच काफी प्रेम था, लेकिन बच्चों के बड़े होते ही दोनों भाइयों के बीच भूमि को लेकर विवाद पैदा हो गया। यहीं से दोनों परिवारों में फूट पड़ गई। धर्मेंद्र सिंह के भाई जसवंत सिंह ने बताया कि अक्सर चचेरा भाई अंग्रेज सिंह एक बीघा जमीन पर कब्जा करने को लेकर विवाद करता था। कई बार भाई धर्मेंद्र ने मना भी किया, लेकिन वह नहीं माना। बृह्सपतिवार को चारा काटकर खाली की गई जमीन पर अंग्रेज सिंह की नीयत डोल गई और विवाद करने लगा। शुक्रवार को वह दवाई लेने खैराबाद (सीतापुर) चला गया। तभी अंग्रेज सिंह ने उसके भाई की जान ले ली। धर्मेंद्र सिंह की शादी 13 साल पहले हुई थी। उसके एक 11 साल का पुत्र जगरूप है। पिता की मौत से जगरूप और उसकी मां हरवंश कौर का रो-रोकर बुरा हाल है। सीओ ने किया घटनास्थल का निरीक्षण हत्या की सूचना पर सीओ मितौली एलडी भारती गांव अनिरुद्धपुर पहुंचे और घटना स्थल का निरीक्षण किया। उन्होंने परिवार के लोगों से घटना के बावत जानकारी ली। सीओ ने बताया कि थोड़ी सी जमीन को लेकर दोनों पक्षों के बीच विवाद था। उन्होंने इंस्पेक्टर को हत्यारोपियों की शीघ्र गिरफ्तारी के आदेश दिए हैं।
Share this article
Tags: गोली से उड़ाया.. ,

Also Read

पिता की पिटाई कर पुत्र को गोली से उड़ाया..

कर्ज से परेशान युवा किसान ने खुद को गोली से उड़ाया

विवाहित प्रेमिका की हत्या कर प्रेमी ने खुद को गोली से उड़ाया

शराब पीकर घर में उत्पात मचा रहा था बेटा, बाप ने छीन ली सांसें 

Most Popular

एक्स ब्वॉयफ्रेंड ने देखी अनुष्‍का की हनीमून फोटो, फिर तुरंत दिया कुछ ऐसा रिएक्‍शन

विराट-अनुष्का की शादी में एक मेहमान का खर्च था 1 करोड़, पूरी शादी का खर्च सुन दिमाग हिल जाएगा

Bigg Boss 11: सलमान से पहले जानिए हितेन और प्रियांक में कौन होगा आउट, किसे मिले कितने वोट

अनुष्‍का-विराट की हनीमून फोटो पर 1 घंटे में 9 लाख से ज्यादा लाइक, तेजी से हो रही वायरल

पेशी पर आए आसाराम से मिले पूर्व चीफ जस्टिस, पैर छूकर लिया आशीर्वाद

INDvSL: शतकवीर शिखर धवन ने बनाया स्पेशल रिकॉर्ड, छोड़ा इन धुरंधरों को पीछे