तीस गांव के बच्चे लगाते हैं अपनी पंचायत

Home›   City & states›   तीस गांव के बच्चे लगाते हैं अपनी पंचायत

Bareily Bureau

तीस गांव के बच्चे लगाते हैं अपनी पंचायतPC: लखीमपुर खीरी, अमर उजाला

लखीमपुर खीरी। बाकेगंज और गोला ब्लाक के तीस गांव ऐसे हैं जहां बच्चों की अपनी अलग पंचायत है। ये बाल मित्र ग्राम सभा कहलाती है। बाल श्रम रोकने के उद्देश्य से इस तरह की पंचायत का गठन किया गया। बाल मित्र गांव की विशेषता है कि यहां का कोई बच्चा मजदूरी नहीं करता। सभी पढ़ाई करते हैं और गांव की समस्या का समाधान कराते हैं। गांव में सफाई न होने, सड़क अथवा खड़ंजा निर्माण, हैंडपंप खराब होने या बीमारी फैलने पर डॉक्टरों की टीम न आने जैसी किसी भी समस्या पर बाल पंचायत बुलाती है। फिर बच्चे ही बैठक में मुद्दा उठाते हैं और समाधान के लिए निर्णय लेते हैं। बच्चे पहले ग्राम प्रधान के पास समस्या रखते हैं और समाधान न होने पर अधिकारियों तक अपनी बात पहुंचाते हैं। इन बच्चों को प्रेरणा देने वाले बचपन बचाओ आंदोलन के मुखिया और 2014 में नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी हैं। बच्चों पर लगातार बढ़ते अत्याचार, शोषण एवं यौन उत्पीड़न अपराधों की देश में रोकथाम और समाज को जागृत करने के लिए नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी भारत यात्रा पर निकले हैं। उनकी यह यात्रा जिले में सात अक्तूबर को पहुंच रही है। सात और आठ अक्तूबर को यात्रा के जिले में रहने को लेकर बाल पंचायतों में भी बेहद उत्साह है। बाल पंचायतों से गांवों में आ रही जागरूकता बचपन बचाओ आंदोलन के जिला कोआर्डिनेटर राजबहादुर कहते हैं कि हमारे प्रणेता कैलाश सत्यार्थी ने बाल पंचायत के गठन का खाका 2006 में खींचा था। उनका कहना है कि जिस गांव के बच्चे ही समस्या निपटाने निकल पड़ेंगे, वहां समस्या होने की गुंजाइश ही नहीं बचेगी। इसी कल्पना के साथ इन गांवों में बाल पंचायत का गठन किया गया। बाल पंचायत बनने के बाद इन गांवों की समस्याएं जहां अधिकारियों तक पहुंचती हैं, वहीं बच्चों के आगे आने से बड़े भी जागरूक हो गए हैं, जिससे इन गांवों के मसले थाने, चौकी और तहसील तक नहीं पहुंचते। इन गांवों में है बाल पंचायत ब्लाक गोला: नगरा सलेमपुर, कुंवरपुर, कोरैय्या, दतेली छितौनियां, बेहड़ा मुल्तान, धिरावां, मूड़ा भाई, बगचन परेली। ब्लाक बांकेगंज: बजीरनगर, जगन्नाथपुर, भुड़वारा, जमैयतपुर, कुकरा, सलेमपुर, हरिहरपुर, मुरादपुर, राजेपुर, पकरिया, बोझिया, भरिगवां, असौहा, कुकुहापुर, नगरिया, मोहरैना, छेदीपुर, हेमपुर, जमुनहा, रोशननगर। कुछ इस तरह बच्चों ने लगाई पंचायत बाल मित्र ग्राम सभा नगर सलेमपुर की बाल पंचायत के बाल प्रधान नवीन कुमार, उप प्रधान नीरू देवी, बाल सचिव माही देवी, सदस्य आशा देवी, ऋषभ कुमार आदि ने गुरुवार को पंचायत की। पंचायत में गांव से विद्यालय तक खड़ंजा निर्माण और स्कूल में सफाई कर्मी को नियमित भेजकर सफाई कराने की मांग उठाई गई। इसके पश्चात बाल पंचायत के निर्णय के आधार पर सदस्यों ने समस्याओं के समाधान के लिए ग्राम प्रधान श्याम किशोर वर्मा को पत्र सौंपा। बाल पंचायत के पत्र पर ग्राम प्रधान ने दोनों समस्याओं के समाधान का आश्वासन दिया।  
Share this article
Tags: ,

Most Popular

WhatsApp के 7 ट्रिक नहीं जानते हैं तो व्हाट्सऐप चलाना बेकार है

Bigg Boss 11: अर्शी ने खोला शिल्पा का अब तक का सबसे बड़ा राज, भड़क उठीं हिना

संसद परिसर में हुआ कुछ ऐसा कि आडवाणी के लिए भीड़ से बाहर आए राहुल और पकड़ लिया उनका हाथ

विराट-अनुष्का की शादी में एक मेहमान का खर्च था 1 करोड़, पूरी शादी का खर्च सुन दिमाग हिल जाएगा

हाईवे पर जा रहे थे दो ट्रक, अचानक पुल टूटकर गंगा में गिरा, हादसे की तस्वीरें रोंगटे खड़े कर देंगी

सभी एग्जिट पोल में गुजरात में भाजपा को एकतरफा बहुमत, कांग्रेस का 'हाथ' खाली