शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

यूपी: पुलिसवालों का साप्ताहिक अवकाश बना ड्रामा, शर्तें-बंदिशें ऐसी कि ना जाने कब आ जाए बुलावा

अमर उजाला ब्यूरो, कानपुर Updated Sun, 18 Aug 2019 04:17 AM IST
यूपी पुलिस (फाइल फोटो) - फोटो : Social Media (File Photo)
पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक अवकाश देने की योजना किसी मजाक से कम नहीं है। दरअसल, साप्ताहिक अवकाश के दिन पुलिसकर्मियों को शहर से बाहर जाने की इजाजत नहीं होगी। आदेश पर 15 मिनट के भीतर ड्यूटी ज्वाइन करनी होगी। ऐसे में साफ है कि साप्ताहिक अवकाश में सहूलियत कम, बंदिशें अधिक हैं। इस कवायद के सफल होने की संभावना बेहद कम है।
विज्ञापन
ये भी पढ़ें- कब्जा हटाने पहुंचे अफसरों पर केरोसिन डाल जलाने की कोशिश, वापस लौटे

बढ़ते दबाव और तनाव को देखते हुए शासन ने पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक अवकाश देने की पहल की है। पायलेट प्रोजेक्ट के तहत योजना 20 अगस्त से कानपुर और बाराबंकी जिले में शुरू होनी है। अफसर सिपाही से लेकर दरोगा तक को अवकाश देने का खाका तैयार कर रहे हैं। यह तय समय पर लागू भी हो जाएगा लेकिन जिस तरह के नियम हैं, उससे पुलिसकर्मियों को राहत कम, तनाव अधिक होने वाला है।

नियमानुसार अवकाश पर रहने वाले पुलिसकर्मी किसी भी हाल में शहर से बाहर नहीं जा सकेंगे। जरूरत पड़ने पर तुरंत ड्यूटी पर पहुंचना होगा। इसके लिए उन्हें 15 मिनट का समय दिया जाएगा। ऐसा नहीं करने पर उन पर कार्रवाई होगी।  

महीने में दो बार होगा ट्रायल

वे पुलिसकर्मी जो अवकाश पर होंगे, उनको लेकर हर महीने दो बार ट्रायल होगा। इसमें उनको अचानक ड्यूटी पर बुलाया जाएगा। इससे आलाधिकारी पुलिसकर्मियों की सतर्कता व सक्रियता जांचेंगे। यानी इससे एक बात तो तय है कि महीने के चार अवकाश में दो दिन पुलिसकर्मी को ड्यूटी करनी ही होगी।

कल तक तैयार हो जाएगा पूरा खाका

एसपी पूर्वी राजकुमार अग्रवाल ने बताया कि सभी पुलिसकर्मियों को पदवार बांटा गया है। फिर उनकी बीट के आधार पर दिनवार अवकाश तय किया जाएगा, जिससे किसी के अवकाश पर रहने से व्यवस्था पर असर न पड़े। सोमवार तक पूरा खाका तैयार हो जाएगा। मंगलवार से व्यवस्था शुरू हो जाएगी।

फोर्स का कम होना बड़ी दिक्कत 

प्रदेश के अन्य शहरों की तरह कानपुर में भी तय मानक से फोर्स करीब तीस फीसदी कम है। वहीं त्योहारों, वीआईपी कार्यक्रमों आदि में भारी पुलिस बल को लगाया जाता है। यही वजह है कि शहर में 2011 से 2018 के बीच तीन बार साप्ताहिक अवकाश की व्यवस्था लागू की गई, लेकिन कारगर साबित नहीं हो सकी थी। फोर्स का कम होना बड़ी दिक्कत है। इसलिए पूरी संभावना है कि इस बार भी योजना का सफल होना आसान नहीं है।
विज्ञापन

Recommended

police weekly off city kanpur police

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।