शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

संसद से लेकर दिल्ली मेट्रो और वीवीआईपी तक की सुरक्षा करेगी कानपुर की कारबाइन

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कानपुर Updated Sun, 18 Aug 2019 04:29 AM IST
सांकेतिक तस्वीर
लघु शस्त्र निर्माणी, कानपुर (एसएएफ) और एआरडीई पुणे के संयुक्त प्रयास से विकसित की गई ज्वाइंट वेंचर प्रोटेक्टिव कारबाइन (जेवीपीसी) शनिवार को केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) को सौंपी गई। सीआईएसएफ आगरा यूनिट के कमांडेंट बृजभूषण को 100 कारबाइन की पहली खेप निर्माणी के महाप्रबंधक संजय कुमार पटनायक ने निर्माणी में आयोजित हस्तांतरण कार्यक्रम के दौरान सौंपी। बताया गया इन कारबाइनों का प्रयोग संसद, दिल्ली मेट्रो और वीवीआईपी की सुरक्षा में लगी सीआईएसएफ करेगी। सुरक्षा बलों और राज्य पुलिस की ओर से 10 हजार कारबाइन का आर्डर निर्माणी को मिल चुका है।
विज्ञापन
महाप्रबंधक ने बताया कि दिल्ली पुलिस, जम्मू कश्मीर पुलिस, कोस्ट गार्ड समेत सभी राज्यों की पुलिस ने इस कारबाइन में रुचि दिखाई है। इन सभी जगहों से बड़े पैमाने पर आर्डर मिलने की संभावना है। निर्माणी में प्रति वर्ष 10 हजार कारबाइन तैयार करने की क्षमता है। आवश्यकता पड़ने पर इसे बढ़ाया जाएगा। बताया कि बेल्ट फेल्ड, लाइट मशीन गन का प्रोटोटाइप तैयार कर लिया गया है। सितंबर या अक्तूबर से इसके परीक्षण शुरू होंगे। निर्माणी में स्लाइड फोल्ड रिवाल्वर और एनएसजी कमांडो के लिए एक विशेष कारबाइन बनाने का काम शुरू किया गया है।

सीआईएसएफ आगरा यूनिट के कमांडेंट बृजभूषण ने बताया कि जेवीपीसी पूर्व की कारबाइन से बेहद खास है। हल्की होने के अलावा इसमें किसी प्रकार की दुर्घटना आदि की आशंका नहीं है। पहले वाली कारबाइन से गाड़ी आदि में लेकर चलने पर गड्डे में पड़ने पर गोली चल जाती थी। इसमें ऐसी कोई आशंका नहीं है। अभी यूजर ट्रायल के लिए 100 पीस लिया गया है। परीक्षणों और अनुभव के बाद और आर्डर देने की संभावना है। यह देश में विकसित कारबाइन है। विदेश से खरीदी जाने वाली कारबाइन महंगी पड़ती थी।

डिप्टी कमांडेंट अरविंद कुमार सिंह ने कहा कि जेवीपीसी की मारक क्षमता इसे जर्मनी और बेल्जियम की कारबाइनों से अलग करती है। इस दौरान अपर महाप्रबंधक अजय सिंह, तुषार त्रिपाठी, संयुक्त महाप्रबंधक आरके मीना, प्रतिरक्षा कर्मी केके तिवारी, छबिलाल यादव, अनिल उपाध्याय, अभय मिश्रा आदि थे।
विज्ञापन

Recommended

cisf kanpur police jvpc

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।