शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

वतन से मोहब्बत है तो इसका इजहार भी करना चाहिए, बड़ी कुर्बानियां देकर आजादी हासिल की है- कारी ताहिर

यूपी डेस्क, अमर उजाला, हरदोई Updated Sat, 17 Aug 2019 09:46 PM IST
दुआ मांग आजादी का जश्न मनाती छात्राएं - फोटो : अमर उजाला
दारुल उलूम देवबंद में इस बार जश्न-ए-आजादी, समारोह पूर्वक मनाए जाने को मुस्लिम धर्मगुरुओं और बुद्धिजीवियों ने अनुकरणीय बताया। हालांकि उनका कहना है कि यह पहली बार नहीं हुआ है ऐसा निरंतर होता चला आ रहा है। उल्मा-ए-कराम की साझा राय है कि आजादी की जंग में उलमा-ए-देवबंद का किरदार शानदार रहा।

उन्होंने बड़ी कुर्बानियां देकर आजादी हासिल की है, इस लिए आजादी का जश्र मनाया जाना जायज है। जमीअत उलमा-ए-हिंद के जिलाध्यक्ष कारी ताहिर बेग ने कहा कि मौलाना अरशद मदनी हमारे रहनुमा हैं। दारुल उलूम देवबंद में राष्ट्रगान होना एक अच्छी पहल है। वतन से मोहब्बत के साथ ही इसका इजहार भी करना चाहिए।

 
विज्ञापन

दारुल उलूम देवबंद में आजादी के जश्न को दीनी जानकारों ने सराहा

मस्जिद कुरैशियान के इमाम-ए-जुमा मुफ्ती नजीब कासमी ने कहा कि देबवंद में जश्न-ए-आजादी काफी पहले से मनाया जा रहा है। इस बार समारोह और राष्ट्रगान को लेकर जो पहल की गई है, वह सराहनीय है। इसमें हमारी नई नस्ल आजादी की अहमियत पहचान सकेगी। कहा कि ऐसे मौकों पर इस तरह के आयोजन कर हमें बताना चाहिए कि किस तरह धार्मिक मतभेद भूल कर हम सब देशवासियों ने एकजुट होकर अंग्रेजों से लोहा लिया था।

जामिया हामीदुल मदारिस के प्रधानाचार्य मौलाना डॉ. जफर अब्बास ने कहा कि आजादी की लड़ाई से लेकर जश्न ए आजादी में मुसलमान हमेशा से शरीक रहे हैं। भारत में तमाम मदरसे शुरू से ही आजादी का जश्न मनाते रहे हैं। कहा कि पहली बार किसी मदरसे ने जश्न ए आजादी मनाया, ये धारणा गलत है, ऐसा निरंतर होता आ रहा है।

 

कहा, आजादी की जंग में उलमा-ए-कराम का किरदार रहा शानदान 

कहा कि सन 1988 में जब वह मदरसा सुल्तानुल मदारिस में अध्ययनरत थे, तब भी ध्वजारोहण और देश भक्ति के गीत गाए जाते थे और देवबंद समेत मदरसों में ये सिलसिला तब भी चलता था। देहलिया स्थित मदरसा मा अहद उम्मुल कुरा के प्रबंधक मौलाना अबुल्लैस नदवी ने कहा कि ध्वजारोहण और राष्ट्रगान वतन से मोहब्बत का इजहार करते हैं।

दारुल उलूम देबवंद में राष्ट्रगान का गाया जाना अच्छी पहल है। हालांकि दारुल उलूम और नदवतुल उलमा लखनऊ में ध्वजारोहण व वतन के नगमे हमेशा से ही गाए जाते रहे हैं। गोपामऊ स्थित दरगाह दादा मियां में संचालित मदरसे के प्रबंधक मौलाना अबुर्रहमान जामई ने कहा कि ध्वजारोहण, राष्ट्रगान या वतन परस्ती के नगमे गाना वतन से मोहब्बत की पहचान है।

तमाम मदरसों को आजादी के जश्न में परचम कुशाई करनी चाहिए व राष्ट्रगान गाना चाहिए। हरदोई शहर के युवा आलिम-ए-दीन मुफ्ती शहाबुद्दीन ने कहा कि देश के मदरसों में हमेशा राष्ट्रीय पर्व मनाए जाते रहे हैं, देवबंद में इस बार यह बड़े पैमाने पर मनाया गया, जो कि अच्छी पहल है।
विज्ञापन

Recommended

up news independence day song download independence day song hindi independence day songs song for independence day independence day mp3 song independence day song in hindi independence song in hindi independence day video song independence day video independence day mp3 song download independence day song 2019 india independence day song india independence day song on independence day song of independence day independence day songs download independence day video download independence day video song download independence day tamil song independence day status independence day images 15 august independence day 15 august song independence day independence day 2019 15th august independence day song

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।