शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

मुलायम सिंह की सुरक्षा में तैनात पिता बोले, बेटा बहुत होनहार था फांसी नहीं लगा सकता, उसकी हत्या हुई

यूपी डेस्क, अमर उजाला, कानपुर Updated Sun, 22 Sep 2019 02:54 AM IST
बेटे की मौत पर बदहवास मां और अन्य परिजन - फोटो : अमर उजाला
मेरा होनहार बेटा (सचिन) फांसी नहीं लगा सकता है। वह पढ़ाई के साथ-साथ परिवार की जिम्मेदारियों को बखूबी निभाता था। पीसीएस की तैयारी करने कानपुर आया था। पोस्टमार्टम हाउस में पहुंचे सचिन के पिता महावीर सिंह यादव यह कहकर फूट-फूटकर रो पड़े। 

आपको बताते चलें शुक्रवार को कानपुर के गीतानगर स्थित पेंट गोदाम में इटावा निवासी सचिन (26) और चौकीदार (आईटीआई छात्र) दीपक (25) का शव फंदे पर लटका मिला था। शनिवार को डॉक्टरों के पैनल से शवों का पोस्टमार्टम कराया गया। दोनों की मौत की वजह फांसी बताई गई। महावीर ने हत्या कर शव लटकाए जाने की तहरीर दी है। काकादेव पुलिस मामले की जांच कर रही है।

 
विज्ञापन

मृतक सचिन के पिता (बीच में) - फोटो : अमर उजाला
डेढ़ साल पहले शहर आया था सचिन
सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव की सुरक्षा में तैनात टिकैत राय तालाब, राजाजीपुरम (लखनऊ) निवासी महावीर सिंह यादव ने बताया कि बड़ा बेटा सचिन डेढ़ साल पहले कानपुर आया था। वह विजय नगर में विजय गुप्ता के मकान में रहकर काकादेव स्थित एक कोचिंग सेंटर में पीसीएस की तैयारी कर रहा था।

उन्होंने बताया कि सचिन बीटेक, बीएड, टीईटी और सुपर टीईटी पास आउट है। वर्ष 2015 में हुई शिक्षक भर्ती परीक्षा भी उत्तीर्ण की थी। मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है। बेटे की मौत से मां कुसुमा, दोनों भाई विपिन और विनय का रो-रोकर बुरा हाल था। महावीर मूलरूप से सैफई (इटावा) के रहने वाले हैं।

 

कल यहीं मिली थी सचिन की फांसी के फंदे पर झूलती हुई लाश - फोटो : अमर उजाला
सिक्योरिटी इंचार्ज ने बंद किया मोबाइल
दीपक के पिता द्वारिका पाल का आरोप है कि पेंट गोदाम के मालिक व सिक्योरिटी इंचार्ज अरुण पांडेय ने घटनास्थल पर आने तक की जहमत नहीं उठाई। अब मोबाइल भी स्विच ऑफ कर लिया। ऐसे में सिक्योरिटी इंचार्ज की भी भूमिका की जांच होनी चाहिए।  

सोशल साइट के जरिए हुई थी दोस्ती
कश्यप नगर निवासी दीपक (25) और सचिन (26) की दोस्ती सोशल साइट के जरिए हुई थी। हालांकि परिजनों को दोनों की दोस्ती के बारे में पता नहीं था। पुलिस ने उनके मोबाइलों को कब्जे में लिया है। साइबर एक्सपर्ट की मदद से कॉल डिटेल निकलवाई जा रही है। फिलहाल दोनों के फांसी लगाने की वजह पहेली बनी हुई है।  
विज्ञापन

Recommended

up news news in up hindi news news in hindi up news in hindi kanpur news etawah news crime news crime news in hindi crime news in up

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।