शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

यूपी: न्याय न मिला तो गर्भवती बहू के साथ आत्मदाह करने कलक्ट्रेट पहुंचा परिवार, मच गया हड़कंप

यूपी डेस्क, अमर उजाला, कन्नौज Updated Fri, 19 Jul 2019 07:42 PM IST
परिवार सहित आत्मदाह करने डीएम ऑफिस पहुंचा किसान - फोटो : अमर उजाला
कन्नौज जमीन पर कब्जे का विरोध करने पर 12 जुलाई को कुछ लोगों ने किसान को परिवार समेत पीट दिया। गर्भवती महिला को भी नहीं बख्शा। शिकायत पर पुलिस ने दोनों पक्षों की ओर से रिपोर्ट तो दर्ज कर ली लेकिन न तो अवैध निर्माण रोका और न ही आरोपियों की गिरफ्तारी की। गुहार के बाद भी न्याय नहीं मिला तो शुक्रवार को पीड़ित परिवार कलक्ट्रेट में आत्मदाह करने पहुंच गया।

आत्मदाह करने से पहले ही सुरक्षा कर्मियों ने इन्हें दबोच लिया। अतिरिक्त मजिस्ट्रेट ने मामले की जांच कर कार्रवाई का आश्वासन देकर शांत किया। तिर्वा तहसील क्षेत्र के गांव मनीपुर्वा निवासी परमेश्वर दयाल ने बताया कि इस समय परिवार कुछ लोगों से डरा हुआ है। 12 जुलाई को परिवार को कुछ लोगों ने घर में घुसकर पीटा था। महिलाओं को लहूलुहान कर दिया।

 
विज्ञापन

आत्मदाह की जिद पर अड़े किसान को समझाते अधिकारी - फोटो : अमर उजाला
गर्भवती बहू लक्ष्मी देवी के साथ भी मारपीट की गई। इससे उसकी हालत बिगड़ गई। पत्नी का हाथ टूट गया। आरोप है कि परमेश्वर दयाल की पुश्तैनी जमीन पर कब्जा करने की नीयत से कुछ लोग असलाह, धारदार हथियार, लाठी-डंडों व करीब 11-12 अज्ञात लोगों के साथ पहुंचे थे। जमीन पर अवैध निर्माण शुरू कर दिया। विरोध करने पर पीटकर घायल कर दिया।

घर में घुसकर घटना की। परमेश्वर दयाल ने पुलिस को सूचना दी, लेकिन रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई। घटना के पांच दिन बाद पुलिस ने मामले को दबाने के लिए दोनों पक्षों की रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना की बात कहकर लीपापोती शुरू कर दी। न्याय न मिलने पर शुक्रवार को पीड़ित परिवार केरोसिन लेकर आत्मदाह करने कलक्ट्रेट पहुंच गया।

 

पीड़ित ने खुद और परिवार के सदस्यों पर तेल छिड़कना शुरू कर दिया। इसी बीच सुरक्षा कर्मियों ने उसके हाथ से बोतल छीन ली। बाद में परमेश्वर दयाल ने अतिरिक्त एसडीएम पीसी श्रीवास्तव को प्रार्थना पत्र दिया। उन्होंने न्याय दिलाने का भरोसा दिलाकर समझा बुझाकर वापस कर दिया।

जान से मारने की दे रहे धमकी
परमेश्वर दयाल का कहना है कि हमला करने वाले उसे व उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। वह रिपोर्ट वापस लेने का दबाव बना रहे हैं। कह रहे हैं कि वह सत्तापक्ष के लोग हैं। मारेंगे और न्याय भी नहीं मिलेगा। परिवार की सुरक्षा और न्याय की मांग को लेकर कलक्ट्रेट पहुंचा था। इससे पहले 16 जुलाई को तिर्वा एसडीएम महेंद्र कुमार को भी प्रार्थना पत्र देकर मामले से अवगत कराया था।

 

पुलिस की लापरवाही न पड़ जाए भारी
तिर्वा पुलिस पूरे मामले में अभी तक विवेचना पर अटकी हुई है। घटना के सात दिन बीत जाने के बाद भी किसी पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र की तरह कहीं यहां भी जमीन के विवाद में हमलावर लोगों का कहर परमेश्वर दयाल के परिवार पर भारी न पड़ जाए।

एसडीएम तिर्वा महेंद्र कुमार ने बताया16 जुलाई को परमेश्वर दयाल की ओर से प्रार्थना पत्र मिला था। एसओ तिर्वा को मामले में जांच कर विधिक कार्रवाई के आदेश दिए थे।

थानाध्यक्ष तिर्वा टीपी वर्मा घटना के दिन मुझे लिखित सूचना नहीं मिली थी। घटना के बाद परमेश्वर दयाल की ओर से और दूसरे पक्ष के ओर से लिखित में शिकायत मिली। मुकदमा दर्ज कर विवेचना की जा रही है।

 
विज्ञापन

Recommended

crime crime news crime news up up news up crime news news in up hindi news police news up police news police news up

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।