शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

यूपी: 108, 102 इमरजेंसी एंबुलेंस सेवा की हड़ताल होते ही मचने लगा हाहाकार

यूपी डेस्क, अमर उजाला, कानपुर Updated Mon, 23 Sep 2019 12:42 AM IST
विभिन्न मांगों को लेकर विरोध करते एंबुलेंस चालक, गिरफ्तारी से भड़के - फोटो : अमर उजाला
कानपुर में बकाया वेतन के भुगतान की मांग और प्रति केस पैसा दिए जाने के प्रोजेक्ट के खिलाफ सोमवार की हड़ताल की घोषणा कर चुके इमरजेंसी एंबुलेंस सेवा 108 और 102 के ड्राइवरों ने रविवार रात को ही हड़ताल कर दी। यूनियन नेता अजय कुमार सिंह को हिरासत में लिए जाने के बाद ड्राइवरों का गुस्सा फूट पड़ा।

ड्राइवरों ने वाहनों को डफरिन अस्पताल में खड़ा कर दिया और कोतवाली के सामने जाकर जमा हो गए। ड्राइवरों की हड़ताल की सूचना पर एस्मा के संबंध में शासन से पत्र दोपहर में सीएमओ के पास आ गया। इसके साथ ही जीवीके ईएमआरआई के अधिकारी भी ड्राइवरों को समझाने के लिए लखनऊ से यहां आए थे।

 
विज्ञापन

ड्राइवरों ने बताया कि उन्हें दो माह से वेतन नहीं मिला है। इसके अलावा नए प्रोजेक्ट के तहत व्यवस्था की जा रही है कि 108 के वाहन कर्मियों को प्रति केस सौ रुपये और 102 को प्रति केस 60 रुपये दिए जाएंगे। उनका कहना है कि अगर केस न मिला तो उस दिन उन्हें कुछ नहीं मिलेगा। यह नीति गलत है।

इसी के खिलाफ वे सोमवार को वाहन खड़े करके लखनऊ जीवीके ईएमआरआई के अधिकारियों से मिलने जाने वाले थे। रविवार दोपहर को शासन से पत्र आ गया कि आपात सेवाओं को बंद नहीं किया जा सकता। हड़ताल करने वालों के खिलाफ एस्मा लगाया जाएगा। इस पर सीएमओ डॉ. अशोक शुक्ला ने कर्मचारियों को बुलाकर आदेश से अवगत कराया।

 

जीवीके ईएमआरआई की टीम ने लखनऊ से आकर कर्मचारियों को समझाया कि वे हड़ताल न करें। कर्मचारियों ने बताया कि जब वे काशीराम ट्रामा सेंटर में वाहन खड़े रहे थे, उसी समय पुलिस ने उनके यूनियन अध्यक्ष अजय कुमार सिंह को हिरासत में ले लिया। इसके बाद सारे ड्राइवरों ने वाहन ले जाकर डफरिन में खड़े कर दिए और हंगामा शुरू कर दिया।

कर्मचारियों से दोपहर में बात हुई थी, उन्हें समझा दिया गया। कुछ लोग कर्मचारियों को भड़का रहे हैं। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इमरजेंसी सेवा कर्मचारी काम करना चाहते हैं। इमरजेंसी सेवा बंद की तो बहुत दिक्कत हो जाएगी। ड्राइवरों को समझाने की कोशिश की जा रही है।
डॉ. अशोक शुक्ला, सीएमओ 

विज्ञापन

Recommended

up news news in up ambulance ambulance service strike ambulance service in kanpur ambulance service

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Related

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।