शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

16 करोड़ रुपये से तैयार हो रही दो वाशिंग पिट लाइन

लखनऊ ब्यूरो Updated Fri, 13 Dec 2019 10:33 PM IST
विज्ञापन
गोंडा के रेलवे यार्ड में बन रही वाशिंग पिट। - फोटो : GONDA
गोंडा। रेलवे के विकास को लेकर चल रही कसरत में गोंडा स्टेशन पर एक नई सुविधा और जुड़ने जा रही है। अमान परिवर्तन, तीन नए प्लेटफार्मों के निर्माण के साथ अब दो वाशिंग पिट लाइनों का निर्माण शुरू हो गया है। इन वाशिंग पिट लाइनों का निर्माण 16 करोड़ से किया जा रहा है। गोंडा जंक्शन पर ट्रेनों के ठहराव व रोकने के साथ उनकी साफ-सफाई व धुलाई के लिए गोरखपुर या लखनऊ की वाशिंग पिट लाइनों के लिए ट्रेनों को नहीं भेजना पड़ेगा। साढ़े पांच वर्ष की मसक्कत के बाद गोंडा रेलवे यार्ड की दो वाशिंग पिट लाइनें जून 2020 में बनकर तैयार हो जाएगा।
विज्ञापन
वर्ष 2013 में गोंडा से वाया बलरामपुर होते हुए गोरखपुर लूप लाइन (छोटी लाइन) को बड़ी लाइन में परिवर्तन का कार्य किया जाने लगा। तो जून 2014 को गोंडा रेलवे यार्ड में मौजूद वाशिंग पिट लाइन को खत्म कर दिया गया था। तब से गोंडा में वाशिंग पिट लाइन नहीं था। रेलवे बोर्ड ने 2018 -19 के बजट में 16 करोड़ की लागत से दो वाशिंग पिट लाइन बनाने की घोषणा की गई। जिसके लिए रेलवे बोर्ड ने बजट भी पूर्वोत्तर रेलवे को दे दिया। इसी क्रम में गोंडा रेलवे यार्ड के पूर्वी छोर व सोनी गुमटी के निकट 8-8 करोड़ के दो वाशिंग पिट लाइन बनाने का कार्य युद्धस्तर पर शुरू हो गया है। वाशिंग पिट लाइन बनने से गोंडा रेलवे में करीब 5 हजार कर्मचारियों की संख्या में बढ़ोत्तरी तो होगी ही साथ में गोंडा रेलवे स्टेशन की पहचान गोरखपुर व लखनऊ की तर्ज पर हो जाएगी। पूवोत्तर रेलवे के दूसरे नम्बर में इस यार्ड की गिनती होगी।
एक साथ 26 डिब्बों की होगी धुलाई
18 करोड़ की लागत से बनने वाली वाशिंग पिट लाइन की लंबाई 650 मीटर का होगा। जिसमें 26 डिब्बो का रैक को खड़ा किया जा सकेगा। जिसे एक साथ सभी 26 डिब्बों की धुलाई व सफाई होगी। यानि दोनों लाइनों पर दो ट्रेनों के रैक खड़े होंगे। बनने वाले पिट लाइन में से पहला वाशिंग पिट लाइन डेमो व मेमो ट्रेनों के रैक का होगा, जबकि दूसरा वाशिंग पिट लाइन एक्सप्रेस व पैसेंजर ट्रेनों का रैक का होगा।
गोंडा वाशिंग पिट का इतिहास यह है कि जब गोंडा रेलवे यार्ड पूर्ण रूप से छोटी लाइन थी तब रेलवे यार्ड में वाशिंग पिट लाइन प्लेटफॉर्म नंबर 1 की तरफ था। जैसे-जैसे छोटी लाइन कम होती गई तो इस वाशिंग पिट लाइन को 1982 में बंद कर दिया गया। उसके बाद नया वाशिंग पिट लाइन रेलवे लोको शेड के पास व प्लेटफार्म नंबर 5 के पास बनाया गया। जिसे जून 2014 में बंद कर दिया गया था। तब से गोंडा रेलवे यार्ड में वाशिंग पिट लाइन नहीं था।
गोंडा रेलवे यार्ड मई 2020 तक पूर्वोत्तर रेलवे का नंबर दो का रेलवे यार्ड बनकर तैयार हो जाएगा। जो आधुनिक तरह के संसाधनों से युक्त होगा। इसी क्रम में गोंडा यार्ड में दो वाशिंग पिट लाइन भी चालू हो जाएगा। -डॉ. मोनिका अग्निहोत्री, डीआरएम लखनऊ मंडल पूर्वोत्तर रेलवे
विज्ञापन

Recommended

washing pit line
विज्ञापन

Spotlight

Recommended Videos

View More Videos

Most Read

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।