शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

50 हजार किसानों का 201 करोड़ गन्ना मूल्य दबाए बैठी है मिल

लखनऊ ब्यूरो Updated Wed, 19 Jun 2019 10:16 PM IST
गोंडा। किसानों को गन्ना मूल्य के लिए भटकना पड़ रहा है। जिले के एक चीनी मिल में ही 50 हजार गन्ना किसानों को मूल्य का भुगतान नहीं हो पाया है। बजाज चीनी मिल कुंदुरखी ने किसानों के गन्ना मूल्य का 201 करोड़ 68 लाख रुपये का भुगतान तीन महीने से फंसा रखा है। किसान भुगतान के लिए मिल व अधिकारियों के दरबार में दौड़ लगा रहे हैं। गन्ना किसानों के भुगतान का मामला बुधवार को किसान बंधु की बैठक में उजागर हुआ। जिलाधिकारी डॉ. नितिन बसंल ने कड़ा रुख अपनाते हुए जिला गन्ना अधिकारी को चेतावनी दी। कहा कि गन्ना किसानों के मूल्य का भुगतान एक सप्ताह में कराएं। उन्होंने किसानों से जुड़ी हर योजना में आ रही समस्याओं की जानकारी ली। कहा कि किसानों को परेशानी हुई तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
विज्ञापन
उन्होंने अधिकारियों से कहा कि किसानों की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर समयबद्ध निस्तारण करें तथा अगली किसानबंधु की बैठक में जिले के अग्रणी किसानों को जरूर बुलाया जाय। किसानबंधु की बैठक में किसानों की सरकार की विभिन्न योजनाओे की जानकारी दी जाय। गन्ना किसानों की समस्याओं पर गंभीर रूख अपनाया। गन्ना भुगतान को लेकर ज्यादातर किसानों ने शिकायत किया कि बजाज चीनी मिल कुन्दरखी द्वारा गन्ना मूल्य भुगतान नहीं किया जा रहा है।

इस पर डीएम ने डीसीओ से पूछा तो पता चला कि बजाज मिल ने किसानों से 326 करोड़ 45 लाख 76 हजार रुपये के गन्ना की खरीद की है। मार्च में ही गन्ना खरीदने के बाद अभी तक पूरा भुगतान नहीं किया है। मिल ने किसानों को अभी तक 124 करोड़ 77 लाख 36 हजार रुपये का भुगतान ही किया है। पचास हजार से अधिक किसानों का 201 करोड़ रुपये से अधिक का भुगतान नहीं किया है। इस पर डीएम ने डीसीओ को निर्देश दिए कि जल्द से जल्द किसानों का गन्ना मूल्य भुगतान कराया जाए।

सिंचाई, पशुपालन व जल निगम की भी मिलीं शिकायतें
नहरों में पानी आपूर्ति, गन्ना मूल्य का भुगतान, बोरिंगों की गुणवत्ता व रीबोर की स्थिति, पशुओं का टीकाकरण, गौ शालाओं में समुचित व्यवस्थाएं न होने की बातें किसानों द्वारा प्रमुख रूप से रखी गई। बैठक में पहाड़ापुर के किसान महेश सिंह ने शिकायत की गई कि बगैर बैनामा कराए सरयू नहर खण्ड- एक ने उसकी जमीन में नहर खोद दी गई है। मामले पर डीएम ने एसडीएम सदर की अध्यक्षता में जांच कमेटी बनाकर एक सप्ताह में जवाब मांगा है। मनकापुर में नहर में पानी आने की शिकायत की गई जिस पर डीएम ने रिपोर्ट मांगी है।

इटियाथोक में पेड़ार नाले की खुदाई बगैर कराए ही भुगतान की शिकायत की गई। डीएम ने एक्सईएन से रिपोर्ट मांगी है। फरेन्दा शुक्ल निवासी किसान हरि नरायण शुक्ल ने शिकायत किया कि एक वर्ष पहले उनके द्वारा ट्यूबबेल के लिए विद्युत कनेक्शन का आवेदन किया गया था परन्तु एक साल बाद भी उन्हें कनेक्शन नहीं मिला। डीएम ने मामले पर एक्सईएन से कार्यवाही कर रिपोर्ट मांगी है।

किसानों के अनुरोध पर डीएम ने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि पशुओं का टीकाकरण युद्धस्तर पर किया जाय जिससे बरसात के दौरान पशुओं को संक्रमण रोगों से बचाया जा सके। परसपुर चरहुंआ के अग्रणी किसान रविशंकर सिंह पवन ने डीएम से अनुरोध किया गया कि जिले में जैविक उत्पादन कार्य को मनरेगा से जोड़ा जाए जिससे जनपद गोण्डा जैविक उर्वरक उत्पादन में अव्वल बन सके। बहुवन परसपुर के किसान चन्द्रहास सिंह द्वारा उसके गांव में घाघरा से जुड़े साइफन की शिल्ट सफाई कराने का आग्रह किया गया जिससे गांव का पानी आसानी से नदी में जा सके।

अधिकारियों ने भी सुनी समस्या, तैयार की रणनीति
किसानों की समस्याओं को अन्य अधिकारियों ने भी सुनी। सुझाव भी नोट किए और निस्तारण की रणनीति तैयार की। सीडीओ आशीष कुमार ने किसानों से जुड़ी योजनाओं को मनरेगा में शामिल करने पर जोर दिया। कहाकि किसानों को मनरेगा से जोड़ा जा रहा है। उपनिदेशक कृषि मुकुल तिवारी, जिला कृषि अधिकारी जेपी यादव, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी डॉ. आरपी यादव, जिला गन्ना अधिकारी ओपी सिंह, एक्सईएन सरयू नहर खण्ड-एक, एलडीएम दशरथी बेहरा, अतुल अवस्थी आदि ने भी निस्तारण के लिए रणनीति पर चर्चा की।
विज्ञापन

Recommended

Spotlight

विज्ञापन

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।