शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

गाजीपुर में गंगा ने किया लाल निशान पार, खतरा बढ़ा

Varanasi Bureau Updated Wed, 12 Sep 2018 11:57 PM IST
गाजीपुर। जीवनदायिनी गंगा लोगों के लिए मुश्किलों और मुसीबतों का सबब बनती जा रहीं है। पिछले एक हफ्ते से गंगा में आई बाढ़ से तटवर्ती इलाकों में अफरा-तफरी मची हुई है। नदी का पानी आबादी की तरफ तेजी से बढ़ने के कारण आम आदमी का चैन और सुकून छिन गया है। गंगा में आई बाढ़ से सदर ब्लॉक के जैतपुरा गांव में पानी घुस गया है। जिससे करीब सौ रिहायशी झोपड़ियां पानी से घिर गई हैं। जिला मुख्यालय अंतर्गत शहर के निचले हिस्से में भी बाढ़ का पानी घुस गया है। उधर गोमती नदी में आई बाढ़ से आधा दर्जन मार्ग डूब गए हैं और दर्जन भर गांवों में पानी घुस गया है। बेसो और कर्मनाशा नदी में बढ़ाव जारी है। जिससे नदी के किनारे बसे गांवों तक पानी पहुंच गया है। कर्मनाशा के तट पर बसे कई गांव एक हफ्ते से पानी से घिरे हैं। मंगलवार को आधी रात के बाद गंगा खतरे के निशान को पार कर गई हैं और सायंकाल तक नदी खतरे के निशान से करीब 75 सेमी ऊपर बह रही हैं। गंगा के बदले रूप से जनपद में हाहाकार मचा हुआ है। गंगा नदी का खतरा बिंदु 63.105 मीटर है। सायंकाल छह बजे तक 63.180 जिले के तीन तहसीलों के कई गांव बाढ़ से प्रभावित हैं। इसमें जमानियां तहसील के हालात सबसे ज्यादा खराब हैं। बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में भारी संख्या में लोगों का जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो गया है। बाढ़ का पानी लोगों के लिए आफत बना है। इतना ही नहीं बाढ़ का पानी सड़कों और गलियों में भर गया है। कई गांव पानी से घिर गए हैं। बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में बड़ी संख्या में लोग अपना घर बार छोड़कर सुरक्षित ठिकानों की ओर कूच करने को मजबूर हैं। सैदपुर क्षेत्र में गंगा और गोमती दोनों नदियां उफान पर हैं । इनमें बाढ़ के चलते करीब दो दर्जन गांवों में संकट की स्थिति आ गई है। कई गांव पानी से घिर गए हैं। सैकड़ों एकड़ फसल जलमग्न हो कर खराब हो रही है। कुछ लोग घर- मकान छोड़ कर सड़क पर आ गए हैं तो कुछ पलायन करने का मन बनाने लगे हैं। हर पल लोगों की दुश्वारियां बढ़ रही हैं। गंगा में हो रही बढ़ाव के चलते सैदपुर नगर के सभी घाट डूब गए हैं। पानी घाट के ऊपर बने मंदिरों को भी अपनी चपेट में ले लिए हैं। इसी के साथ गंगा के तटवर्ती गांवों में रामपुर, मनझरिया, मांझा, नारी पंचदेवरा, टोडरपुर, फुलवारीकला, दुबैथा, गायघाट, आराजीगंज, कोल्हूआटोला, जोहरगंज, रामचक्का, औड़िहार, पटना, गोपालपुर, गजाधरपुर, शादी-भादी आदि गांव पानी की जद में आने लगे हैं। कुछ गांवों में नालों के माध्यम से पानी घुस रहा है तो कहीं पानी से गांव घिरते जा रहे हैं। सभी गांवों के सिवान तथा ़ खेती योग्य भूमि जलमग्न हो गई है। उधर गोमती नदी का कहर भी ग्रामीणों पर भारी पड़ने लगा है। पानी दो सेंटीमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है। गोमती का पानी भी खतरे के निशान को छूने को बेताब है। दोपहर तीन बजे तक गोमती का जलस्तर 68.00 मीटर पर पहुंच गया था। यहां खतरे की बिंदु 72.5 मीटर है और बढ़ाव का क्रम यूं ही बना रहा तो जल्दी ही खतरे के निशान को पार कर सकता है। गोमती की बाढ़ से गौरी, गौरहट, तेतारपुर गांव तीन तरफ से पानी से घिर गया है। इस गांव के लोगों को बाढ़ राहत केंद्रों पर भेजे जाने की कवायदें जारी है । इन गांवों की सैकड़ों एकड़ फसलें बाढ़ में डूब गई हैं । अन्य गांवों की स्थिति बाढ़ के चलते बदहाल है। इसमें सिधौना , कुसई , खरौना, सूरजभान चक, नुरुदीनपुर , अमेहटा , नेवादा , वहदीया , नगरियानाला , तेलियानी , गदनपुर , भुजाड़ी आदि शामिल हैं । बाढ़ की भयावह स्थिति को देखते हुए प्रशासन की ओर से फिलहाल 36 नाविकों को अलर्ट कर दिया गया है। उन्हें आपातकाल के लिए तैयार कर दिया गया है। उप जिलाधिकारी शिशिर कुमार , तहसीलदार दिनेश कुमार आदि अधिकारी बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर आवश्यक निर्देश दे रहे हैं।
विज्ञापन

Spotlight

Most Read

Related Videos

विज्ञापन
Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।