शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

संविधान बदलने व आरक्षण समाप्त करने की हो रही है साजिश

Varanasi Bureau Updated Wed, 12 Sep 2018 11:56 PM IST
मुहम्मदाबाद(गाजीपुर)। भाजपा सांसद सावित्री राव फूले ने कहा कि सरकार देश के संविधान को बदलने एवं आरक्षण को समाप्त करने की साजिश कर रही है। डा. भीमराव आंबेडकर की ओर से बनाए गए संविधान की मूल भावना को आज तक लागू नहीं किया गया। यही वजह है कि आजादी के 70 वर्ष बाद भी देश में गैर बराबरी को समाप्त नहीं किया जा सका।
विज्ञापन
बहुजन समाज के हितों की लड़ाई लड़ रही दलित महिला नेता सावित्री राव फूले ने अपनी ही सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए पत्रकार वार्ता में कहा ा कि डा. आंबेडकर के संविधान को लागू कराने को अपने जीवन का उद्देश्य बनाकर वह पूरे देश में जनजागरण कर रही है। समाज के दलित, गरीब एवं अल्पसंख्यकों के उत्थान के लिए संविधान में आरक्षण की व्यवस्था की गई, लेकिन संविधान की मूल भावना को लागू नहीं किया गया। अगर गैर बराबरी को समाप्त कर संविधान की मूल भावना को लागू कर दिया जाए तो गरीबी देखने को भी नहीं मिलेगी। आज दलित समुदाय के लोगों पर अत्याचार, उनकी बेटी-बहुओं के साथ बलात्कार की घटनाएं हो रही है। थाने में उनका मुकदमा भी दर्ज नहीं हो पाता है। इससे देश का बहुजन समाज आहत है।
उन्होंने कहा कि 9 अगस्त को दिल्ली में संविधान की प्रतियां जलाने वालों के खिलाफ मुकदमा तक दर्ज नहीं किया गया। आजादी की लड़ाई में ं दलित समुदाय के योगदान के बाद भी उनके साथ नाइंसाफी जारी है। आरक्षित सीटों से सांसद बनकर जाने वाले राजनेता भी दलीय सीमाओं में कैद होने से दलितों पर हो रहे अत्याचार के विरुद्ध आवाज नहीं उठाते हैं। सरकारी नौकरियां समाप्त कर निजीकरण को बढ़ावा देना आरक्षण समाप्त करने की साजिश है। उन्होंने प्राइवेट नौकरियों में भी आरक्षण लागू करने की मांग की। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि एससी-एसटी एक्ट में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जो संशोधन हुआ है वह सिर्फ वोट पाने के लिए पारित किया गया है। इसे फिर कोर्ट द्वारा समाप्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि सरकार दलितों का भला चाहती है तो इसे संविधान की नौंवीं अनुसूची में डाल दे तब इसे कोई समाप्त नहीं कर सकेगा। इसके अलावा प्रमोशन में आरक्षण का मामला भी सरकार लटकाए हुए है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वह बहुजन के साथ अन्याय की लड़ाई लड़ रही है। अगर इसे बगावत माना जाता है तो भी कोई फर्क नहीं पड़ता। कांशीराम के मिशन को आगे बढ़ाने के लिए संघर्ष जारी रहेगा। प्रेसवार्ता में नमो बुद्धाय जनसेवा समिति के संस्थापक अक्षयवर नाथ कंनौजिया, जेएनयू के प्रो. डा. महेंद्र प्रताप राना, गोरक्षा क्षेत्र में संघ के प्रचारक सुजीत दास महाराज एवं पूर्वांचल विकास संस्थान के कपिलदेव केशरी उपस्थित रहे।

Spotlight

Most Read

Related Videos

विज्ञापन
Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।