शहर चुनें

अपना शहर चुनें

Top Cities
States

उत्तर प्रदेश

दिल्ली

उत्तराखंड

हिमाचल प्रदेश

जम्मू और कश्मीर

पंजाब

हरियाणा

विज्ञापन

दीवानी न्यायालय में कवि सम्मेलन का आयोजन

लखनऊ ब्यूरो Updated Fri, 20 Sep 2019 10:27 PM IST
बहराइच के दीवानी कचहरी परिसर में आयोजित कवि सम्मेलन में काव्यपाठ करते कवि। - फोटो : BAHRAICH
बहराइच। अखिल भारतीय हिंदी विधि प्रतिष्ठान के तत्वावधान में शुक्रवार को दीवानी न्यायालय के सभागार में कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। इस मौके पर जनपद के कवियों व साहित्यकारों ने अपनी रचनाओं को प्रस्तुत किया।
विज्ञापन
कार्यक्रम की अध्यक्षता कवि दिवाकर मिश्रा दिवाकर ने की। कार्यक्रम का आरंभ मुख्य अतिथि प्रथम अपर जनपद न्यायाधीश सुनील मिश्र ने मां सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित कर किया। इस दौरान रामसूरत वर्मा जलज ने मां का स्तवन पंदन करते हुये कहा कि हथवा से मथवा सवांर देतिव माई।
इसके बाद उन्होंने पढ़ा, हमारी आन है हिंदी, हमारी शान है हिंदी। हमारे देश की गौरवमयी पहचान है हिंदी। रमाशंकर राही ने पढ़ा, गैरो सा जो दिखता था, सदियों से जो अपना था। कश्मीर हुआ अपना, अब पीओके भी हमारा है। बृजनंदन पांडेय ने पढ़ा, उमड़ घुमड़ नभ के बादल, चातक के मनमीत बन गये। जब-जब याद तुम्हारी याद आई, मेरे आंसू गीत बन गये।
एसएमएस जैदी ने पढ़ा, क्यों न हर दिल में बने आज मकाने हिंदी, है मोहब्बत का फंसाना ये जबाने हिंदी। रंजीता देवी ने पढ़ा, साया जैसी साथ चली है मेरे, मेरी मां की दुआ, इसलिए सामने मेरे है मुश्किलें शर्मिंदा। अयोध्या प्रसाद शर्मा ने पढ़ा फूल हूं बसुंधरा का, धूल में निवास मेरा। कंटकों की आवाज पे मुधर मुस्काना है।
रायबरेली से आई कवियत्री शविस्ता बृजेश ने पढ़ा, कबीरा की जबां पे मुक्ति का शुचि सार है हिंदी, कभी तुलसी के मुख में भक्ति का उपहार है हिंदी। मगर बरदाई होठों पे यदि आ जाये ये भाषा, तो गोरी के लिए शुचि काल की तलवार है हिंदी। काव्यगोष्ठी में आशुतोष श्रीवास्तव, दिवकार मिश्रा दिवाकर, डा.राधेश्याम पांडेय, डॉ. मुबारक, रईस सिद्दकी आदि ने भी अपनी रचनाओं को प्रस्तुत किया।
विज्ञापन

Recommended

Program

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Recommended Videos

Next
Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।